ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार के साथ बुलडोजर की हुई एंट्री, बृजमोहन बोले अभी तो यह झांकी है पूरा प्रदेश बाकी है

छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार के साथ बुलडोजर की हुई एंट्री, बृजमोहन बोले अभी तो यह झांकी है पूरा प्रदेश बाकी है

छत्तीसगढ़ में BJP की सरकार बनते ही बुलडोजर की एंट्री हो गई है। जिसकी शुरुआत राजधानी रायपुर से हो गई है अवैध ठिकानों पर अब बुलडोजर चलना शुरू हो गया है। जिस पर BJP इसे सिर्फ झांकी बोली है। 

छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार के साथ बुलडोजर की हुई एंट्री, बृजमोहन बोले अभी तो यह झांकी है पूरा प्रदेश बाकी है
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरWed, 06 Dec 2023 04:20 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी ने वापसी कर ली है अभी तक मुख्यमंत्री और मंत्रिमंडल तय नहीं हुआ है लेकिन प्रदेश में बुलडोजर की एंट्री हो गई है। 3 दिसंबर को भारतीय जनता पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ प्रदेश में सरकार बनाई सरकार बनने के साथ ही राजधानी रायपुर समेत प्रदेश के कई इलाकों में अपराधी और उनके अवैध ठिकानों पर बुलडोजर चलने की कार्रवाई शुरू हो गई है। सबसे पहली कार्रवाई राजधानी में रात भर खुलने वाली दुकानों पर हुई है। वही उसके बाद मंगलवार की सुबह सबसे पहले सालेम स्कूल के दीवार से लगी अवैध चौपाटी पर बुलडोजर चलाया गया है।

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने से पहले भाजपा ने यह साफ कहा था कि अपराधियों को छोड़ नहीं जाएगा। अपराधियों के ठिकानों और अवैध इलाकों में बुलडोजर चलाया जाएगा। इन बयानों के साथ ही सत्ता में आते ही भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश में बुलडोजर चलाने की शुरुआत कर दी है। राजधानी में सबसे पहले बुलडोजर सालेम स्कूल के पास अवैध चौपाटी पर चला है। इससे पहले भी यहां ठेला लगाने वालों को दुकान खाली करने की चेतावनी दी गई थी। लेकिन नोटिस के बाद भी अब तक खाली नहीं किया गया जिसके बाद टीम ने पुलिस प्रशासन की उपस्थिति में 35 ठेला गुमटियों को हटाकर जप्त किया है।‌

देर रात अवैध चकना सेंटर पर चला बुलडोजर

इसके बाद प्रदेश के कई हिस्सों पर बुलडोजर चलने की खबर है। जिसमें राजधानी रायपुर दुर्ग सहित कई जिले शामिल हैं। रायपुर जिले के शहरी क्षेत्र में 69 तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 19 शराब दुकानों के आसपास चकना केंद्र संचालित करने वाले संचालकों के विरुद्ध कार्रवाई की गई है। लगभग 78 चकना सेंटर्स पर बुलडोजर चलाकर उसे तोड़ा गया है। दुर्ग जिले में भी चकना सेंटर्स पर उड़नदस्ता की टीम का बुलडोजर जमकर चला है। इसके साथ ही तिल्दा नेवरा में भी विशेष अभियान चलाते हुए अवैध चकना दुकानों को हटाया गया है। 

भाजपा को बहुमत मिलते ही रात में दुकान बंद

प्रदेश में सरकार बदलने के साथ ही देर रात गुटबाजी अड्डे बड़ी एवं सामाजिक तत्वों के जमावड़े पर अंकुश लगाने दुकानों को बंद करने फरमान जारी कर दिया गया। चुनाव के नतीजे आते ही राजधानी के बैजनाथ पारा में भारी पुलिस बल लगाते हुए सभी दुकानों को बंद कर दिया गया। वहीं दूसरे दिन की सुबह के साथ ही कलेक्टर के द्वारा आदेशित करते हुए राजधानी की सभी दुकानों को रात 11 बजे तक पूर्ण रूप से बंद करने का फरमान जारी कर दिया गया है। बीजेपी की सरकार 3 दिसंबर को बनी और 4 दिसंबर की रात 11 बजे से राजधानी के गली मोहल्ले, चाय के ठेले, क्लब, बार, ढाबा, होटल, सहित भीड़भाड़ वाले अड्डे वीरान हो गए है। 
 

भाजपा बोली अभी तो ये झांकी है

प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते ही 24 घंटे के भीतर बुलडोजर अवैध ठिकानों के पास खड़ा हो गया है जिसको लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेता बृजमोहन अग्रवाल ने साफ कहा है कि शहर में किसी भी तरह से लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति खराब करने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसके साथ ही बृजमोहन अग्रवाल ने सोशल मीडिया में एक पोस्ट डालते हुए यह लिखा है कि छत्तीसगढ़ में भी अब बुलडोजर गरजने लगे हैं। भाजपा नेता ने कहा कि 'अभी तो यह झांकी है पूरा प्रदेश बाकी है।‌"


कांग्रेस बोली बुलडोजर भय का प्रतीक

वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनते ही राजधानी में चले बुलडोजर को लेकर कांग्रेस पार्टी ने पलटवार करते हुए कहा है कि बुलडोजर विध्वंस और भय का प्रतीक है। कांग्रेस पार्टी के संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी बुलडोजर चला कर क्या संदेश देना चाहती है उसके बारे में वही बता पाएंगे।‌ लेकिन गरीब ठेलो वाले, पान ठेले वाले जो व्यवसाय कर अपना और अपने बच्चों का पेट पलते हैं उनके ठेलों पर बुलडोजर चला कर भाजपा मानवता नहीं दिख रही है। शुक्ला ने कहा कि आप किस वर्ग को डराना चाहते हैं राजीव भवन के सामने जो ठेले लगाए थे उसमें सभी जाति वर्ग के लोग थे इस तरह के बुलडोजर चला कर भाजपा क्या साबित करना चाहती है। 

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें