ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़Raipur city South Result 2023: गुरु पर भारी पड़े शिष्य, 8वीं जीत दर्ज करने की ओर बृजमोहन अग्रवाल

Raipur city South Result 2023: गुरु पर भारी पड़े शिष्य, 8वीं जीत दर्ज करने की ओर बृजमोहन अग्रवाल

रायपुर दक्षिण सीट पर मुकाबला बेहद दिलचस्प माना जा रहा था क्योंकि बृजमोहन अग्रवाल महंत राम सुंदर दास को अपना गुरु मानते हैं। ऐसे में यहां गुरु शिष्य का दिलचस्प मुकाबला देखने को मिला।

Raipur city South Result 2023: गुरु पर भारी पड़े शिष्य, 8वीं जीत दर्ज करने की ओर बृजमोहन अग्रवाल
Aditi Sharmaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 03 Dec 2023 04:51 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ के जिन वीआईपी उम्मीवारों पर नजरें टिकीं हुई थी उनमें एक नाम बीजेपी के बृजमोहन अग्रवाल का भी था। वह रायपुर जिले की रायपुर दक्षिण विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में थे। इस सीट से 7 बार विधायक रह चुके बृजमोहन एक बार जीत सिलसिला कायम रखते हुए नजर आ रहे हैं। इस बार यहां उनका मुकाबला उनके अपने ही गुरु प्राचीन दूधाधारी मठ के महंत रामसुंदर दास से था। ऐसे में मुकाबला काफी दिलचस्प नजर आ रहा था। हालांकि बृजमोहन 49864 वोटों के अंतर के साथ बढ़त बनाए हुए हैं और 8वीं बार जीत दर्ज करने की ओर बढ़ रहे हैं।

14वें राउंड की गिनती के बाद बृजमोहन अग्रवाल को 80741 मिले हैं जबकि महंत रामसुरंदर दास को 30877वोट ही मिल सके हैं।बता दें महंत रामसुरंदर दास सीएम भूपेश बघेल के करीबी माने जाते हैं। पिछली बार इस सीट से चुनाव लड़ चुके कन्हैया अग्रवाल का टिकट काट कर कांग्रेस ने रामसुंदर दास को मौका दिया था। बृजमोहन अग्रवाल इस सीट से 7 बार विधायक रह चुके हैं जबकि कांग्रेस हर साल नया उम्मीदवार खड़ा करती है। हालांकि अभी तक बीजेपी के इस किले को भेदने में कामयाब नहीं हो पाई है। 

बीजेपी का अभेद्य किला

कांग्रेस इस सीट पर जीत हासिल करने का सपना देखती रही है क्योंकि इस सीट को वो पिछले चुनावों में उस वक्त भी नहीं भेद पाई थी जब कांग्रेस की आंधी थी। ऐसे में इस साल महंत के सहारे अपने इस सपने को साकार करने की कोशिश कर रही थी। वहीं पिछले 35 सालों से इस सीट से विधायक बृजमोहन अग्रवाल के सामने इस बार चुनौती बड़ी थी क्योंकि इस बार उनका मुकाबला अपने गुरु से था। 2018 में उन्होंने 52.70 फीसदी वोटों के साथ जीत हासिल की थी जबकि कांग्रेस उम्मीदवार कन्हैया अग्रवाल को 40.82 वोट ही मिले थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें