ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़: घर के अंदर महिला और दो नाबालिग बच्चों के शव फंदे से लटके मिले, दरवाजा अंदर से बंद

छत्तीसगढ़: घर के अंदर महिला और दो नाबालिग बच्चों के शव फंदे से लटके मिले, दरवाजा अंदर से बंद

अधिकारी ने बताया कि दोपहर में जब महिला के ससुर घर लौटे तो उन्हें मुख्य दरवाजा अंदर से बंद मिला और जब उन्होंने खिड़की से झांका तो उन्हें तीनों के शव फंदे से लटके दिखे।

छत्तीसगढ़: घर के अंदर महिला और दो नाबालिग बच्चों के शव फंदे से लटके मिले, दरवाजा अंदर से बंद
Devesh Mishraभाषा,बालोदSat, 03 Feb 2024 09:34 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में 28 साल की एक महिला और उसके दो नाबालिग बच्चे अपने घर पर फंदे से लटके पाए गए। पुलिस को संदेह है कि महिला ने अपने दोनों बच्चों की हत्या करने के बाद आत्महत्या कर ली। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि हेमलता साहू, उनके बेटे खोमेद्र (4) और बेटी तृषा (2) के शव शुक्रवार को गुरुर पुलिस थाना क्षेत्र के तहत कोचेरा गांव में उनके घर पर फंदे से लटके मिले।

अधिकारी ने प्रारंभिक जानकारी का हवाला देते हुए बताया कि महिला का पति एक राजमिस्त्री है और वह घटना के समय काम के लिए बाहर गया हुआ था, जबकि उसके ससुर अपनी अस्वस्थ पत्नी की देखभाल के लिए अस्पताल में थे।

अधिकारी ने बताया कि दोपहर में जब महिला के ससुर घर लौटे तो उन्हें मुख्य दरवाजा अंदर से बंद मिला और जब उन्होंने खिड़की से झांका तो उन्हें तीनों के शव फंदे से लटके दिखे।
उन्होंने बताया कि महिला और बच्चों के शव साड़ियों से बनाए गए फंदों से लटके मिले।

अधिकारी ने कहा, ''प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि महिला ने पहले अपने बच्चों की हत्या की और फिर खुद फांसी लगा ली लेकिन घटनास्थल से कोई 'सुसाइड नोट' नहीं मिला है। मामले की सटीक जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने और आगे की जांच के बाद पता चलेगी।'' उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया है।

यह भी जानिए:
छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में एक स्वयंभू मिलिशिया उप-कमांडर समेत तीन नक्सलियों ने शुक्रवार को आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस अधिकारी के मुताबिक, तीनों नक्सलियों की पहचान गैरकानूनी संगठन 'पिडमेल रिवोल्यूशनरी पीपुल्स काउंसिल' के मिलिशिया उप-कमांडर मड़कम सुक्का (30) के अलावा वंजाम सोमा (33) और कवासी भीमा (35) के रूप में की गयी है।

पुलिस अधिकारी ने कहा, ''सोमा और भीमा प्रतिबंधित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के सदस्य हैं। ये तीनों 2019 से 2020 के बीच जिले के पोलमपाली इलाके में हुई नक्सली हिंसा की घटनाओं में शामिल थे।'' उन्होंने कहा, ''तीनों नक्सलियों का कहना है कि वे खोखली और अमानवीय माओवादी विचारधारा से निराश होकर आत्मसमर्पण कर रहे हैं। राज्य सरकार की आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति के तहत उन्हें राहत दी जायेगी।''   

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें