ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरक्या UGC मर्ज कर देगा NEET, JEE mains को CUET में

क्या UGC मर्ज कर देगा NEET, JEE mains को CUET में

यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन (UGC) इंजीनियर एंट्रेंस और मेडिकल एंट्रेंस परीक्षा को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (CUET) में मर्ज करने की तैयारी कर रहा है। दरअसल यूजीसी के चैयमैन एम जगदीश कुमार ने कहा ह

क्या UGC मर्ज कर देगा NEET, JEE mains को CUET में
Anuradha Pandeyएचटी संवाददाता,नई दिल्लीFri, 12 Aug 2022 05:48 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन (UGC) इंजीनियर एंट्रेंस और मेडिकल एंट्रेंस परीक्षा को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (CUET) में मर्ज करने की तैयारी कर रहा है। दरअसल यूजीसी के चैयमैन एम जगदीश कुमार ने कहा है कि सरकार राष्ट्रीय इंजीनियरिंग (JEE) और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं (NEET) को कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (CUET में मर्ज करन की की संभावना तलाश रही है।

कुमार ने कहा कि नेशनल एजुकेशन पॉलिसी (NEP) 2020 में "वन नेशन, वन एंट्रेंस" की परिकल्पना की गई है। ऐसा होने पर यह कॉलेज में दाखिले के लिए कई प्रवेश परीक्षाओं में छात्रों के बोझ को कम करेगा।

उन्होंने कहा, “हमारे पास तीन प्रमुख प्रवेश परीक्षाएं हैं यानी NEET, JEE (Main) और CUET और इन प्रवेशों के लिए बड़ी संख्या में छात्र उपस्थित होते हैं। इन सभी परीक्षाओं का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा किया जाता है। इसलिए, हम सोच रहे हैं कि क्यों न कई विषयों में प्रवेश के लिए अकेले CUET स्कोर का उपयोग किया जाए, ”

कुमार ने कहा कि सरकार जल्द से जल्द इंटीग्रेटेड प्रवेश परीक्षा शुरू करने की संभावना तलाश रही है। बता दें, नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (NEET) का आयोजन MBBS और BDS सहित मेडिकल कोर्सेज में दाखिले के लिए आयोजित की जाती है।

ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन मेन (JEE MAIN) का आयोजन NIIT, IIIT और फंडेड टेक्निकल कॉलेजों सहित विभिन्न इंजीनियरिंग कोर्सेज में दाखिले के लिए किया जाता है। वहीं JEE एडवांस्ड परीक्षा का आयोजन इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) में दाखिले के लिए किया जाता है।

यूजीसी अध्यक्ष ने कहा, “NEET के लिए बायोलॉजी, फिजिक्स और केमिस्ट्री की आवश्यकता है। JEE के लिए मैथेमेटिक्स, फिजिक्स और केमिस्ट्री की आवश्यकता है। ये सभी विषय पहले से ही CUET में हैं। इसलिए, मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिए प्रवेश के लिए CUET स्कोर का उपयोग करना कोई मुद्दा नहीं होगा, ”

कुमार ने कहा कि मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन और यूजीसी ने स्टेकहोल्डर्स को तैयार करने के लिए पहले से चर्चा शुरू कर दी है। उन्होंने कहा, "हम परीक्षा से कुछ महीने पहले अचानक कुछ भी घोषणा नहीं करना चाहते हैं।"

यूजीसी विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों सहित प्रवेश परीक्षा के वर्तमान रूपों (present forms) को देखने के लिए एक समिति नहीं बनाएगा।

“समिति एक इंटीग्रेटेड प्रवेश परीक्षा के लिए सिफारिशें तैयार करने पर काम करेगी। फिर इन सिफारिशों को कंसल्टेशन और प्रतिक्रिया के लिए स्टेकहोल्डर्स के साथ साझा किया जाएगा और उसके आधार पर मंत्रालय और यूजीसी परीक्षा के तौर-तरीकों को तय करेंगे। इसे लेकर  बहुत सारी योजनाएं बनानी होंगी, ”

आखिर क्यों लिया जा रहा है ये फैसला?

एक बार परीक्षा कराने का प्रस्ताव इसलिए किया जा रहा है जिससे छात्रों को एक नॉलेज बेस के लिए कई परीक्षा न देनी  पड़ें। JEE, NEET का CUET में मर्ज होने के बाद परीक्षा एक देनाी होगी, लेकिन इसके लिए मौके अलग-अलग मिलेंगे।  इस एक परीक्षा के जरिए अध्ययन के विभिन्न क्षेत्रों के लिए योग्य हो सकते हैं।

हायर एजुकेशन रेगुलेटरी आम सहमति को लेकर स्टेकहोल्डर के साथ विचार-विमर्श करने के लिए एक समिति बना रहा है। बता दें कि अलग अलग विश्वविद्यालयों और टेक्निकल और मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए अलग अलग परीक्षाओं की जगह इस एक परीक्षा की तैयारी कर रहा है।

 

epaper