DA Image
12 सितम्बर, 2020|6:46|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली पुलिस के एएसआई की बेटी विशाखा ने इंजीनियर की नौकरी छोड़ रोज दस घंटे पढ़ाई की, अब आई UPSC में छठवीं रैंक

vishakha yadav

इंजीनियर की नौकरी छोड़कर जोखिम लेने वालीं विशाखा यादव ने यूपीएससी में छठवीं रैंक हासिल की है।  उन्होंने कहा कि इरादा पक्का था, लिहाजा जोखिम लेकर वह कामयाब बनी हैं। 
उत्तम नगर के किरण गार्डन में रहने वालीं विशाखा रोज लगातार दस घंटे पढ़ाई करती थीं। विशाखा के पिता एसएसआई राजकुमार ने बताया कि उनकी बेटी ने इंजीनियरिंग की और एक बड़ी कम्पनी में नौकरी शुरू की। लेकिन कुछ दिनों बाद नौकरी छोड़ कर उसने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी।

सेल्फ स्टडी ही सफलता की सही राह : अजय जैन, UPSC में 12 वीं रैंक, पूर्व में भी प्रतियोगी परीक्षाओं में चमके 

उसका यह फैसला हैरान करने वाला था, लेकिन विशाखा अपनी धुन की पक्की थी, इसलिए परिवार में उनका समर्थन किया। राजकुमार ने बताया कि अपनी तैयारी के लिए उन्होंने राजनीतिक विज्ञान को विषय चुना। कई बार रात को बिना खाना खाए ही वह सो जाती थीं। कामयाबी मिलने से पहले लगातार दो बार प्रीलिम्स परीक्षा में असफलता भी मिली लेकिन उसने हार नहीं मानी और पहले से ज्यादा मेहनत की। नतीजा यह रहा है कि तीसरी बार में उसने पूरे देश में अपना और परिजनों का नाम ऊंचा कर दिया।

दिल्ली पुलिस उपायुक्त कार्यालय में बंटी मिठाई
 विशाखा यादव के पिता दिल्ली पुलिस ने बतौर एएसआई तैनात है। उनकी तैनाती द्वारका जिले के पुलिस उपायुक्त कार्यालय में है। विशाखा की कामयाबी की खबर जब पुलिस उपायुक्त कार्यालय पहुंची तो पुलिस उपायुक्त ने न केवल उन्हें बुलाकर सम्मानित किया बल्कि कार्यालय में तैनात राजकुमार यादव की खुशी में मिठाई तक बांटी। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Visakha quit the job of engineer and worked ten hours every day then came to the sixth rank in UPSC