DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर प्रदेश में प्रकांड पुरोहित तैयार करेगा संस्‍कृत संस्‍थान, चलेंगे 1 से 6 माह के कोर्स

उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान जन्म से लेकर मृत्यु तक जीवन में होने वाले तमाम संस्कारों के लिए प्रकांड पुरोहित तैयार करेगा। ये पुरोहित ना केवल कर्मकांड के मर्मज्ञ होंगे, बल्कि ज्योतिष, वास्तु और योग के भी प्रकांड विद्वान भी होंगे। 

संस्थान ने पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लखनऊ, बस्ती, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी, प्रयागराज, कानपुर, बरेली और सहारनपुर मंडल में तीन महीने के पुरोहित प्रशिक्षण शिविर के लिए आवेदन मांगे हैं। शिविर में जो पुरोहित प्रशिक्षित होंगे वे शिक्षक के रूप में तैयार होंगे। इसके बाद ये प्रशिक्षित पुरोहित अन्य लोगों को प्रशिक्षित करेंगे। पर्याप्त संख्या में प्रशिक्षित पुरोहित होने पर संस्थान हर जिले में एक केंद्र खोलेगा। इन केंद्रों पर कर्मकांड, वास्तु, ज्योतिष, योग, कंप्यूटर, अंग्रेजी और संस्कृत का प्रशिक्षण होगा। 

केंद्रों पर एक, तीन और छह महीने के कोर्स चलेंगे। संस्थान का उद्देश्य वैदिक संस्कार, ज्योतिष और वास्तु के मर्मज्ञ पुरोहित तैयार करना है। केंद्रों से प्रशिक्षित और निर्धारित परीक्षा में उत्तीर्ण पुरोहितों की पूरी सूची सार्वजनिक रहेगी। आम लोग भी इन पुरोहितों को अपने यहां बुलाकर धार्मिक कार्यों को करा सकेंगे।

डॉ.वाचस्पति मिश्र (अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान) ने कहा- संस्थान ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर फिलहाल दस मंडलों में प्रशिक्षण को आवेदन मांगे हैं। बाद में केंद्र प्रदेश के हर जिले में खुलेंगे।  केंद्र युवाओं को सात कर्म कौशल में प्रशिक्षित करेगा।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:uttar pradesh : sanskrit institutes will conduct courses will train candidates to become purohit