ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरUPTET NEWS : तीन लेखपाल, आठ सॉल्वर समेत 13 गिरफ्तार, 80 हजार रुपए में हुई थी डील

UPTET NEWS : तीन लेखपाल, आठ सॉल्वर समेत 13 गिरफ्तार, 80 हजार रुपए में हुई थी डील

एसटीएफ और पुलिस की सख्ती के बाद भी बिहार के सॉल्वर गैंग शिक्षक पात्रता परीक्षा में सेंधमारी करने में लगे थे लेकिन परीक्षा केंद्र तक पहुंचने से पहले ही क्राइम ब्रांच ने रविवार सुबह सॉल्वर गैंग के...

UPTET NEWS : तीन लेखपाल, आठ सॉल्वर समेत 13 गिरफ्तार, 80 हजार रुपए में हुई थी डील
Alakha Singhवरिष्ठ संवाददाता हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराज वाराणसी, मुरादाबादSun, 23 Jan 2022 10:42 PM

एसटीएफ और पुलिस की सख्ती के बाद भी बिहार के सॉल्वर गैंग शिक्षक पात्रता परीक्षा में सेंधमारी करने में लगे थे लेकिन परीक्षा केंद्र तक पहुंचने से पहले ही क्राइम ब्रांच ने रविवार सुबह सॉल्वर गैंग के सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। इस गैंग में शामिल तीन लेखपाल, आठ सॉल्वर समेत 13 लोगों को खुल्दाबाद पुलिस की मदद से पकड़ा गया है। इनके पास से एक कार, अभ्यर्थियों का आठ प्रवेश पत्र, आठ अंक पत्र, नौ आधार कार्ड, 41900 रुपये बरामद हुए हैं। अब पुलिस असली अभ्यर्थियों की तलाश कर रही हैं। इसके अलावा फर्जीवाड़ा करने और गैंग में शामिल तीन अन्य को पुलिस ने वांछित किया है।

एक ही बैच के तीन लेखपाल पर फर्जीवाड़ा का आरोप
एसपी सिटी दिनेश सिंह ने बताया कि कमलेश, राधेश्याम और राहुल एक ही बैच के लेखपाल हैं। कमलेश की प्रयागराज के मेजा में और राधेश्याम और राहुल की गोरखपुर जिले में तैनाती है। तीनों लेखपाल बिहार के सॉल्वर गैंग की मदद से टीईटी में फर्जीवाड़ा करने वाले थे। परीक्षा केंद्र में पहुंचने से पहले ही तीनों लेखपालों के साथ बिहार व झारखंड के सॉल्वर गुलशन, पवन यादव, अभिनव सिन्हा, मनीष यादव, शुभम यादव, विभूति प्रसाद यादव, राणा रंजन रवि व रंजन कुमार और दो सहयोगी सर्वेश और युगल किशोर को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनकी कार भी पुलिस ने जब्त कर ली है। सुबह गिरफ्तारी के बाद पुलिस उन्हें परीक्षा केंद्र पर ले जाकर तस्दीक भी कराई।

80 हजार में डील, 20 हजार सॉल्वर को
पुलिस ने बताया कि झारखंड का पवन यादव सॉल्वर गैंग का सरगना है। वही तीनों लेखपाल राहुल, राधेश्याम, कमलेश और साथी जयदीप मौर्या की मदद से अभ्यर्थियों को पास कराने का ठेका लेता था। एक अभ्यर्थी के लिए 80 हजार रुपये में सौदा होता था। पवन अपने सॉल्वर को एक परीक्षा के लिए 20 हजार रुपये देता था। परीक्षा का परिणाम घोषित होने के बाद सॉल्वर को 40 हजार रुपये मिलता है। इस तरह पवन को एक अभ्यर्थी से 20 हजार रुपये का फायदा मिलता था। बाकी कमीशन लेखपाल खाते थे। रुपये एकत्र करना और कंडीडेट लाने का काम कमलेश और जगदीप मौर्या करते थे।

पटना में बनता है प्रवेश पत्र व आधार कार्ड
पुलिस ने बताया कि पटना में मुन्ना का यूनिक साइबर कैफे है। वहीं पर सारी सेटिंग करके प्रवेश पत्र व आधार कार्ड बनाया जाता है। किसी कोचिंग संचालक की सेटिंग से अभ्यर्थियों को यूपी में भेजा जाता है। यहां से सेटिंग होने के बाद सबसे पहले अभ्यर्थी का प्रवेश पत्र और आधार कार्ड पटना जाता है। साइबर कैफे में सेटिंग करने सॉल्वर की फोटो आधार कार्ड व प्रवेश पत्र पर फिक्स करके नई कॉपी निकाल देते हैं। असली जैसे कागजात लेने के बाद परीक्षा केंद्रों में जाते हैं। जहां पर बायोमेट्रिक जांच होती हैं, वहां भी झांसा देकर निकल जाते हैं।

गिरफ्तार हुए शातिरों की सूची:

1-राधेश्याम वर्मा - गाजीपुर -लेखपाल गोरखपुर
2-राहुल यादव -गाजीपुर-लेखपाल गोरखपुर

3-कमलेश मौर्या-मिर्जापुर -लेखपाल मेजा तहसील
4-गुलशन कुमार -झारखंड -सॉल्वर

5-पवन यादव -झारखंड -सॉल्वर
6-अभिनव सिन्हा-बिहार -सॉल्वर

7-मनीष यादव --बिहार -सॉल्वर
8-शुभम यादव- झारखंड-सॉल्वर

9-विभूति प्रसाद-बिहार-सॉल्वर
10-राणा रंजन रवि-बिहार-सॉल्वर

11-रंजन कुमार-बिहार-सॉल्वर
12-सर्वेश भट्टा-गोरखपुर-राहुल का साथी

13-युगल किशोर -झारंखड-सॉल्वर का सहयोगी
वांछित
1-जयदीप मौर्या-मांडा-अभ्यर्थी तलाशने का काम

2-मुन्ना यूनिक साइबर कैफे-पटना-फर्जीवाड़ा करना
3-अवशेध -गाजीपुर- पवन का साथी, मौके से फरार

इन अभ्यर्थियों जगह विभिन्न केंद्रों पर देनी थी परीक्षा-

1-विपिन कुशवाहा-झूंसी -सरस्वती बाल विद्या मंदिर, नैनी
2-दीप चंद्र यादव-करछना-मार्डन पब्लिक स्कूल, झलवा

3-कृष्ण कुमार -प्रतापगढ़-हिन्दू महिला विद्यालय
4-जितेंद्र यादव-उपरहार, प्रयागराज-सीएन पब्लिक इंटर कॉलेज, नैनी

5-सर्वेश दुबे-दुबेपुर-सर्वेश्ररी पीजी कॉलेज, नैनी
6-रमेश चौधरी-जसरा -दयानाथ मिश्र स्मारक कॉलेज, झूंसी

7-प्रशांत यादव -राधारण इंटर कॉलेज, दारागंज
8- शैलेष कुमार -लिटिल हर्ट्स इंटर कॉलेज, नैनी

वाराणसी समेत पूर्वांचल के पांच जिलों में 11 गिरफ्तार
पूर्वांचल के पांच जिलों में रविवार को टीईटी के दौरान 11 लोग गिरफ्तार किए गए। सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। इनमें से कई के प्रवेश पत्र व आधार कार्ड पर फोटो बदला हुआ था। गाजीपुर से पांच, जौनपुर से तीन, आजमगढ़, बलिया और भदोही से एक-एक की गिरफ्तारी हुई है।

जौनपुर के राम निरंजन इंटर कालेज कचगांव के प्रवेश गेट पर राजीव कुमार यादव निवासी ललियारी थाना खुदागंज जिला गया (बिहार) दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने के लिए कालेज कैम्पस में प्रवेश कर रहा था। पकड़ा गया युवक बरेली जिला के पंडरी भोजीपुरा निवासी जितेंद्र पाल गंगवार है। इसी तरह थाना जलालपुर के बयालसी डिग्री कालेज में टेट परीक्षा की द्वितीय पाली में अन्नू कुमारी दुबे भी दूसरे की जगह परीक्षा देते हुए पकड़ी गई। तीसरा साल्वर सहदेव ऋषिकुल उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सुल्तानपुर में अर्नव सिंह उर्फ पप्पू सिंह दूसरे की जगह परीक्षा देते पकड़ा गया। अर्नव ईशुपुर थाना सदर हाजीपुर जनपद वैशाली (बिहार) का रहने वाला है। उधर, आजमगढ़ जिला के शिवाजी पीजी कॉलेज तेरही कप्तानगंज टीईटी यूपी 2021 का परीक्षा केन्द्र बना था। वहीं गाजीपुर में टीईटी में कुल पांच गिरफ्तार किए हैं। इसमें दो सादात, दो शहर और एक नंदगंज में पकड़े गए। शहर के बाबा टेनी मौर्या इंटर कालेज में अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देने आए दोनों बिहार और नंदगंज में गिरफ्तार राजस्थान का निवासी हैं। इसी तरह बलिया और भदोही से भी एक-एक पकड़े गए हैं।

टीईटी परीक्षा : मुरादाबाद में साल्वर गैंग का सरगना गिरफ्तार
रविवार को बरेली एसटीएफ टीम की सक्रियता के चलते टीईटी परीक्षा में धांधलेबाजी होने से बच गई। टीम के सदस्यों ने साल्वर गैंग के सरगना को गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद परीक्षा में बैठने के लिए विहार से आ रहे साल्वर स्टेशन से फरार हो गए। पकड़े गए सरगना के पास से दो छात्रों के प्रवेश पत्र भी बरामद हुए। एसटीएफ अधिकारियों का दावा है कि शहर के आधा दर्जन से अधिक स्कूलों में साल्वर गैंग के सदस्यों को बैठाया जाना था। इसके लिए बाकायदा प्रति व्यक्ति दो लाख रुपए वसूल भी किए गए थे। आरोपी पूर्व में भी 11 अगस्त 2021 को गिरफ्तार किया गया था। उस दौरान नौ लोगों को एसटीएफ ने गिरफ्तार करके जेल भेजा था। सिविल लाइंस पुलिस और एसटीएफ के अधिकारी पकड़े गए साल्वर गैंग के सरगना से पूछताछ कर रहे हैं। जल्द ही गैंग में शामिल अन्य लोगों की गिरफ्तारी की जाएगी।

शनिवार को बरेली एसटीएफ यूनिट की टीम ने साल्वरों को पकड़ने के लिए स्टेशन के बाहर जाल बिछाया था। इसी दौरान टीम के सदस्यों ने सोनू पाल निवासी नकटपुरी खुर्द थाना भगतपुर जनपद मुरादाबाद को स्टेशन के बाहर से पकड़ लिया। पकड़े गए सोनू पाल ने पूछताछ में बताया कि मुरादाबाद के आधा दर्जन से अधिक सेंटरों पर साल्वरों को बैठाए जाने का ठेका लिया गया था। एसटीएफ ने उस समय पकड़ा जब वह साल्वरों को लेने के लिए मुरादाबाद स्टेशन पहुंचा था।
एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया ने बताया कि एसटीएफ और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में साल्वर गिरोह का सरगना गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गए सरगना से पूछताछ के आधार पर अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा। 

epaper