DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UPSSSC : ITI अनुदेशक व ड्राफ्टमैन भर्ती के लिए अब देनी होगी परीक्षा

upsssc gov in

UPSSSC : आईटीआई में अनुदेशक के साथ ड्राफ्टमैन जैसे 5000 से अधिक पदों पर इंटरव्यू से होने वाली सीधी भर्तियां अब लिखित परीक्षा के आधार पर होंगी। उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग इंटरव्यू से होने वाली ऐसी सभी नई भर्तियां लिखित परीक्षा से कराने के लिए नियमावली बदलने जा रहा है। आयोग ने इस संबंध में शासन को प्रस्ताव भेज दिया है। वहां से अनुमति मिलने के बाद नए पदों पर भर्तियां शुरू की जाएंगी। नियमावली बनने के बाद जल्द ही इन पांच हजार पदों पर भर्तियां शुरू की जाएंगी।

प्रक्रिया बदलने की क्यों पड़ी जरूरत
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अगस्त 2017 में समूह 'ग', 'घ' और 'ख' के अराजपत्रित पदों (नान गजटेड) पर भर्ती के लिए इंटरव्यू की व्यवस्था समाप्त कर दी थी। राज्य सरकार का मानना है कि भर्तियों में इंटरव्यू में धांधली की संभावना अधिक रहती है। इसके सहारे चहेतों को मनमाना अंक देकर सरकारी नौकरी देने की संभावना अधिक रहती है। उत्तर प्रदेश अधनीस्थ सेवा चयन आयोग समूह 'ग' के पदों पर भर्ती करता है। समूह 'ग' में टेक्निकल के साथ कुछ ऐसे पद भी हैं, जिसे सीधे इंटरव्यू के माध्यम से ही भरा जाता रहा है। इसीलिए अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ऐसे पदों को इंटरव्यू की जगह लिखित परीक्षा से कराने के लिए नियमावली में संशोधन कराने जा रहा है।

UPSSSC 2019: यूपीएसएसएससी की 5709 पदों पर भर्ती परीक्षाएं 28 जुलाई से

क्या थी व्यवस्था
सीधे इंटरव्यू से पदों को भरने के लिए शैक्षिक योग्यता के आधार पर मेरिट बनाकर टॉप मेरिट के आधार पर वरियताक्रम का निर्धारण किया जाता था। इसके साथ इंटरव्यू का एक निर्धारित अंक रखा जाता था। मेरिट और इंटरव्यू के क्रमांक को जोड़ने पर वरियताक्रम के आधार पर नौकरी देने की व्यवस्था थी।

क्या होगी व्यवस्था
नई व्यवस्था में आयोग सभी नई भर्तियां लिखित परीक्षा से कराएगा। इसके लिए विषय विशेषज्ञों से पाठ्यक्रम का निर्धारण कराया जाएगा। पद और योग्यता के आधार पर पाठ्यक्रम का निर्धारण कराया जाएगा। आयोग भर्तियों से पहले योजना पाठ्यक्रम को जारी भी करेगा और इसके आधार पर ही नई भर्तियां करेगा।

कौन-कौन से पद
- सहायक सांख्यिकी अधिकारी
- वाहन चालक
- नलकूप मिस्त्री
- आईटीआई अनुदेशक
- सरकारी विभागों में ड्राफ्टमैन
- फार्मासिस्ट
- एक्सरे टेक्निशियन
- सर्वेयर
- इसके अलावा अन्य तकनीकी पद

5000 से अधिक पद खाली
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग का गठन 22 जनवरी 2018 को किया। आयोग ने इसके बाद सीधे इंटरव्यू से होने वाली भर्तियों के लिए कोई विज्ञापन नहीं निकाला है। आयोग के पास ऐसे पदों को भरने के लिए काफी संख्या में अधियाचन यानी प्रस्ताव आए हुए हैं। इनकी संख्या 5000 से अधिक बताई जा रही है। शासन से अनुमति मिलने के बाद आयोग इन पदों पर भर्तियां शुरू करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UPSSC : now iti anudeshak and draftmen candidates have to take exam for recruitment