ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरUPSC IAS 2022: दोस्त के धोखा देने के बाद ये शख्स बना IAS ऑफिसर

UPSC IAS 2022: दोस्त के धोखा देने के बाद ये शख्स बना IAS ऑफिसर

UPSC IAS 2022: लोग अक्सर अपनी असफलताओं के लिए अपनी परिस्थितियों और गरीबी को दोष देते हैं। बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें अपनी दुर्दशा पर दया आती है लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जो इन सभी परिस्थितियों  को...

UPSC IAS 2022: दोस्त के धोखा देने के बाद ये शख्स बना IAS ऑफिसर
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 08 Mar 2022 01:33 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

UPSC IAS 2022: लोग अक्सर अपनी असफलताओं के लिए अपनी परिस्थितियों और गरीबी को दोष देते हैं। बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें अपनी दुर्दशा पर दया आती है लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जो इन सभी परिस्थितियों  को झेलते हुए अपनी मेहनत से अपना जीवन अच्छा बनाते हैं। आज हम ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने मुश्किल वक्त का सामना कर यूपीएससी की परीक्षा पास की है। आइए जानते हैं IAS निरिश राजपुत।

निरीश का जन्म किसी धनी और साधन संपन्न परिवार में नहीं हुआ था। उनके पिता एक दर्जी थे। वह मध्य प्रदेश के भिंड जिले का रहने वाले हैं। हालांकि, उनके पिता ने उन्हें कभी भी पढ़ाई से नहीं रोका और न ही उस पर अपना व्यापार करने के लिए मजबूर किया। निरीश पढ़ाई में अच्छा था। चूंकि उनके पास स्कूल की फीस के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए उन्होंने अपनी फीस के पैसे जोड़ने के लिए न्यूजपेपर बेचें। पैसे की कमी के कारण वह अपनी पढ़ाई छोड़ना नहीं चाहते थे। इसके बाद नीरीश राजपूत ग्रेजुएशन के लिए ग्वालियर शिफ्ट हो गए। उन्होंने BSc और बाद में MSc में दाखिला लिया। उस समय खुद का भरण-पोषण करने के लिए भी उन्होंने पार्ट टाइम जॉब करना शुरू कर दिया था। उन्होंने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन दोनों कक्षाओं में टॉप किया। वह अपने कॉलेज के गोल्ड मेडलिस्ट थे।

UPSC IAS Story: स्कूल में हुई थी फेल, फिर खुद को UPSC टॉपर साबित किया, ऐसे बनीं IAS

IAS निरीश राजपूत ने शेयर की वह घटना जिसने बदल दी उनकी जिंदगी-

एक ऐसा समय आया जब नीरीश अपने एक दोस्त के साथ जुड़ गए। उन्होंने वादा किया कि अगर उनका कोचिंग संस्थान खिल गया तो उन्हें कुछ आर्थिक मदद मिलेगी। निरीश वहां शिक्षक थे और धीरे-धीरे अपने पढ़ाने के स्टाइल के कारण फेमस होने लगे। कई छात्रों ने उस संस्थान में दाखिला लेना शुरू कर दिया।

लेकिन कुछ समय बाद निरीश के साथ वो हुआ जिसके बाद वह आश्चर्यचकि रह गए, दरअसल उनके दोस्त ने उन्हें कोचिंग सेंटर से निकाल दिया था। वह इस तरह की पीठ में छुरा घोंपने वाला रवैया बर्दाश्त नहीं कर सके। जिसके बाद निरीश ने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। उस वक्त उनके पास किसी भी कोचिंग क्लास के लिए पैसे नहीं थे, लेकिन फिर भी उन्होंने UPSC CSE को क्रैक करने का फैसला किया और UPSC सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी।

वह दिल्ली में अपने एक अन्य मित्र के पास गया और अपने नोट्स उधार लेकर तैयारी शुरू कर दी। उनकी तैयारी में उसके दोस्त ने उनकी मदद की। निरीश ने बिना किसी कोचिंग के UPSC CSE 2013 में  परीक्षा पास की।

निरीश उन लोगों में से हैं जिन्होंने अपनी स्थिति को दोष नहीं दिया या मदद के लिए दूसरों की ओर नहीं देखा। उन्होंने अपने आप में मदद पाई और खुद को अपनी गरीबी से ऊपर उठने में मदद की। आज वह एक IAS अधिकारी हैं और उनके परिवार को भी उन पर गर्व है।

 

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें