DA Image
हिंदी न्यूज़ › करियर › UPSC Civil Services Result : यूपीएससी ने कहा, रिजर्व लिस्‍ट को वेटिंग लिस्‍ट न समझें, बताया क्यों की जाती है जारी
करियर

UPSC Civil Services Result : यूपीएससी ने कहा, रिजर्व लिस्‍ट को वेटिंग लिस्‍ट न समझें, बताया क्यों की जाती है जारी

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Pankaj Vijay
Sat, 09 Jan 2021 06:36 PM
UPSC Civil Services Result : यूपीएससी ने कहा, रिजर्व लिस्‍ट को वेटिंग लिस्‍ट न समझें, बताया क्यों की जाती है जारी

UPSC Civil Services Exam Result : संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा 2019 परीक्षा की रिजर्व लिस्ट को लेकर एक अहम नोटिस जारी किया है। यूपीएससी ने बयान जारी कर हाल में जारी रिजर्व लिस्ट से जुड़ी कंफ्यूजन दूर करने का प्रयास किया है। आयोग ने कहा, 'यह संघ लोक सेवा आयोग के संज्ञान में आया है कि सिविल सेवा परीक्षा 2019 की रिजर्व लिस्ट की घोषणा से जुड़ी कुछ गुमराह करने वाली जानकारियां सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही हैं। इसलिए परीक्षा में शामिल होने जा रहे और परीक्षा दे चुके अभ्यर्थियों की शंकाओं को दूर करने के लिए बयान जारी किया जा रहा है।'

यूपीएससी ने कहा, 'आयोग सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम पूरी सख्ती के साथ भारत सरकार द्वारा अधिसूचित परीक्षा नियमों को ध्यान में रखकर ही तैयारी करता है। सिविल सेवा परीक्षा के लिए आयोग विभिन्न सिविल सर्विसेज में नियुक्ति के लिए विभिन्न कैटेगरी से संबंध रखने वाले अभ्यर्थियों की सिफारिश करता है। मुख्य परीक्षा का रिजल्‍ट जारी करते समय अनारक्षित कैटेगरी के उम्‍मीदवारों की संख्या उन आरक्षित उम्‍मीदवारों से कम कर दी जाती है जो बगैर किसी रियायत के जनरल कैटेगरी के उम्‍मीदवारों के बराबर या उच्‍च मेरिट स्‍कोर हासिल करते हैं।' 

आयोग का कहना है कि रिजल्ट की यह पद्धति दशकों से चली आ रही है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि रिजर्व कैटेगरी के ऐसे उम्मीदवार, जिनका चयन जनरल स्टैंडर्ड पर किया गया है, वह फायदे को देखते हुए अपने रिजर्व स्टेटस के आधार पर अपनी सर्विस और कैडर चुन लेते हैं, ऐसी स्थिति में खाली हुई वैकेंसी को रिजर्व लिस्ट से भरा जाता है।

पढ़ें पूरा नोटिस

रिजर्व लिस्ट में रिजर्व कैटेगरी के अभ्यर्थियों की पर्याप्त संख्या होती है। वरीयता को लेकर होने वाली कमी की भरपाई भी इससे होती है। 

आयोग का कहना है कि रिजर्व लिस्‍ट कोई वेटिंग लिस्‍ट नहीं है। असम में किसी भी मल्टी सर्विस एग्‍जाम में यह इसलिए जरूरी होती है ताकि आरक्षित कैटेगरी के वे उम्‍मीदवार जो बगैर किसी रियायत के जनरल कैटेगरी के उम्‍मीदवारों से बेहतर स्‍कोर करते हैं, उन्‍हें हायर प्रेफरेंस की सर्विस चुनने का मौका मिल सके।

संबंधित खबरें