ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरUPRTOU Admission 2023: यूजी-पीजी में शिक्षार्थियों की बढ़ी संख्या, नए पाठ्यक्रमों में भी दिखी रुचि

UPRTOU Admission 2023: यूजी-पीजी में शिक्षार्थियों की बढ़ी संख्या, नए पाठ्यक्रमों में भी दिखी रुचि

उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय में इस साल मौजूदा सत्र में कुल 123 पाठ्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इनमें कई नए पाठ्यक्रम भी शामिल है। यूपीआरटीओयू के यूजी-पीजी कोर्सो में दाखिला लेने वाले छात्

UPRTOU Admission 2023: यूजी-पीजी में शिक्षार्थियों की बढ़ी संख्या, नए पाठ्यक्रमों में भी दिखी रुचि
Alakha Singhसंवाददाता,प्रयागराजMon, 20 Nov 2023 09:33 AM
ऐप पर पढ़ें

UPRTOU Admission 2023: उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय के जुलाई सत्र में पांच नए पाठ्यक्रमों में प्रवेश लिया गया है। एमए इन प्राचीन इतिहास एवं पुरातत्व विज्ञान में 182 अभ्यर्थियों ने प्रवेश लिया है। वहीं, आपदा प्रबंधन में डिप्लोमा और आपदा प्रबंधन में सर्टिफिकेट, डिप्लोमा इन कर्मकांड, सरल संस्कृत शिक्षण सर्टिफिकेट की पढ़ाई शुरू हुई है। मौजूदा सत्र में 123 पाठ्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं। इन सभी पाठ्यक्रमों में सर्वाधिक 69350 अभ्यर्थियों ने प्रवेश लिया है। जबकि पिछले जुलाई सत्र में 65 हजार अभ्यर्थियों ने अलग-अलग पाठ्यक्रमों में प्रवेश लिया था।

मुक्त विश्वविद्यालय के प्रवेश प्रभारी प्रो. जेपी यादव के मुताबिक मुक्त विश्वविद्यालय के शैक्षिक सत्र 2023-24 में स्थापना के बाद से पहली बार सर्वाधिक 69350 प्रवेश हुए हैं। जुलाई सत्र के विभिन्न पाठ्यक्रमों में 32580 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है। मुक्त विश्वविद्यालय में 123 पाठ्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं। सूबे के 12 क्षेत्रीय अध्ययन केंद्र और 1400 अध्ययन केंद्रों पर प्रवेश लिए गए।


राजर्षि टंडन और रामभद्राचार्य विवि में समझौता
उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय प्रयागराज एवं जगतगुरु रामभद्राचार्य दिव्यांग राज्य विश्वविद्यालय चित्रकूट शिक्षा के क्षेत्र में मिलकर कार्य करेंगे। दोनों विश्वविद्यालयों के मध्य समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए गए।

मुक्त विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सीमा सिंह एवं जगतगुरु रामभद्राचार्य दिव्यांग राज्य विश्वविद्यालय, चित्रकूट के कुलपति प्रो.शिशिर कुमार पांडेय ने शिक्षा के क्षेत्र में एक दूसरे को सहयोग देने के लिए परस्पर सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। प्रो. सीमा सिंह ने कहा कि मुक्त विश्वविद्यालय के शिक्षार्थियों को विशिष्ट शिक्षा के क्षेत्र में जगतगुरु रामभद्राचार्य दिव्यांग राज्य विश्वविद्यालय की विशिष्टताओं का लाभ मिलेगा। जो उनके करियर संवर्धन में काफी लाभदायक सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षार्थियों की क्षमता का विकास करना विश्वविद्यालय का उद्देश्य है। कुलपति के विशेष कार्याधिकारी डॉ दिनेश सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय का कार्यक्षेत्र सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश होने से पूरे प्रदेश के छात्रों को रोजगारपरक शिक्षा सुलभ कराने के लिए विश्वविद्यालय निरंतर प्रयासरत है। 

Virtual Counsellor