DA Image
30 मई, 2020|11:56|IST

अगली स्टोरी

UPPSC RO ARO Result 2017: यूपीपीएससी आरओ एआरओ 2017 का रिजल्ट जारी, यहां देखें पूरा परिणाम

uppsc ro aro final result 2017

UPPSC RO ARO Result 2017: यूपी लोक सेवा आयोग ने समीक्षा अधिकारी-सहायक समीक्षा अधिकारी भर्ती 2017 (आरओ-एआरओ) का अंतिम परिणाम ( UPPSC RO ARO Final Result 2017 ) मंगलवार को वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर घोषित कर दिया। इस भर्ती में कुल 809 पद थे लेकिन चयन 663 पदों पर ही हो सका है। योग्य अभ्यर्थी न मिलने के कारण 146 पद खाली रह गए। इस भर्ती में उत्तर प्रदेश सचिवालय, लोक सेवा आयोग के साथ ही राजस्व परिषद के पद शामिल थे। आयोग के सचिव जगदीश ने बताया कि खाली रह गए 146 पदों में 142 पद सामान्य और 4 पद विशेष चयन के हैं। विशेष चयन के तहत समीक्षा अधिकारी के पांच पदों पर चयन किया जाना था लेकिन सिर्फ एक ही पद पर चयन हो सका। खास बात यह है कि इन 146 पदों में 99 प्रतिशत पद एआरओ के हैं। बकौल सचिव योग्य अभ्यर्थी न मिल पाने के कारण इन पदों पर चयन नहीं किया जा सका। इन पदों को शासन को वापस कर दिया जाएगा।

UPPSC RO ARO Final Result 2017 PDF - पूरा रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें

सचिव ने बताया कि परिणाम पूरी तरह से औपबंधिक है। सफल सभी अभ्यर्थियों के मूल प्रमाण पत्रों का सत्यापन करवाया जाएगा। प्रमाण पत्र सही पाए जाने पर ही शासन को संस्तुति पत्र भेजा जाएगा। अभिलेखों के सत्यापन का कार्यक्रम अलग से जारी किया जाएगा।

दाखिल हुई हैं 38 याचिकाएं
इस भर्ती को लेकर हाईकोर्ट में 38 याचिकाएं दाखिल की गई हैं। आयोग के सचिव ने परिणाम घोषित करते वक्त जो विज्ञप्ति जारी की है उसमें इन सभी याचिकाओं का उल्लेख किया गया है। कहा गया है कि इस भर्ती का परिणाम इन सभी याचिकाओं के अंतिम परिणाम के अधीन रहेगा। 

बढ़ गई थी पदों की संख्या
इस भर्ती के विज्ञापन के वक्त 465 पद घोषित किए गए थे। प्री का परिणाम आने तक पदों की संख्या बढ़कर 809 हो गई थी। इसकी प्रारंभिक परीक्षा 8 अप्रैल 2017 को 21 जिलों में बनाए गए 1146 केंद्रों पर हुई थी, जिसमें कुल पंजीकृत 533447 परीक्षार्थियों में से 339632 शामिल हुए थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:UPPSC RO ARO Result 2017: up combined state upper subordinate service exam sahayak samiksha adhikari result declared check direct link