ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरUPPSC RO ARO : यूपी आरओ- एआरओ पेपर लीक में जांच समिति गठित, आयोग ने मांगी शिकायत

UPPSC RO ARO : यूपी आरओ- एआरओ पेपर लीक में जांच समिति गठित, आयोग ने मांगी शिकायत

UPPSC RO ARO Paper Leak : यूपी आरओ एआरओ 2023 की प्रारंभिक परीक्षा के पेपर लीक होने की खबरों को देखते हुए उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने एक जांच समिति गठित की है। आयोग ने अभ्यर्थियों से इस संबंध में शिक

UPPSC RO ARO : यूपी आरओ- एआरओ पेपर लीक में जांच समिति गठित, आयोग ने मांगी शिकायत
Alakha Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 17 Feb 2024 02:01 PM
ऐप पर पढ़ें

UPPSC RO ARO Exam Paper Leak : उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने समीक्षा अधिकारी व सहायक समीक्षा अधिकारी भर्ती परीक्षा का पेपर लीक मामले में जांच के लिए समिति का गठन किया है। आपको बता दें कि यूपी आरओ-एआरओ भर्ती के लिए प्रारंभिक परीक्षा 12 फरवरी 2024 को आयोजित हुई थी। परीक्षा का प्रश्नपत्र कथित तौर पर वॉट्सएप पर वायरल होने पर अभ्यर्थियों को परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर प्रदर्शन भी किया था। लेकिन मामले में अभी तक आयोग कोई शिकायत नहीं मिली।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने आरओ-एआरओ परीक्षा के पेपर लीक की खबरों के बीच एक नोटिस जारी किया है जिसमें कहा गया है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच के लिए समिति का गठन किया गया है। आयोग ने कहा है कि यदि इस परीक्षा के प्रश्नपत्रों के वायरल होने के संबंध में किसी के पास प्रासंगिक प्रमाण/साक्ष्य हो तो उसकी प्रति शपथ पत्र के माध्यम से जिसमें उसका नाम, पूरा पता, मोबाइल नंबर एवं आधार नंबर अंकित हो, ई-मेल आईडी roaro2023info@gmail.com पर 2 मार्च 2024 तक भेज सकते हैं।

आपको बता दें कि आरओ के 334 और एआरओ के 77 कुल 411 पदों के लिए 12 फरवरी 2024, रविवार को प्रदेश के 58 जिलों में 2387 केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की गई थी। इस परीक्षा के लिए पंजीकृत 1076004 अभ्यर्थियों में से 64 प्रतिशत उपस्थित रहे। कहा जा रहा है कि परीक्षा से पूर्व प्रश्नपत्र के प्रश्नों के जवाब वॉट्सएप पर वायरल हो गए थे।

आरओ/एआरओ परीक्षा रद्द करने को आयोग के बाहर प्रदर्शन:
आरओ/एआरओ पेपर लीक होने के विरोध में प्रतियोगी छात्रों ने सोमवार को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के बाहर प्रदर्शन किया था। ‘पेपर लीक है, सरकार बिल्कुल वीक है नारे लगाते हुए आक्रोशित छात्रों ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका था। छात्रों ने मांग की कि आरओ/एआरओ परीक्षा निरस्त करते हुए दोबारा से कराई जाए। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र नेता हरेन्द्र कुमार ने दावा किया कि परीक्षा शुरू होने से पहले व्हाट्सएप पर पेपर वायरल हो रहा था। छात्रों के भविष्य के साथ लगातार खिलवाड़ हो रहा है। आयोग को चेतावनी दी कि अगर आरओ/एआरओ का पेपर तुरंत निरस्त करके परीक्षा की नई तिथि निर्धारित नहीं की जाती तो प्रदेश सरकार छात्रों का विरोध झेलने को तैयार रहे। पुतला फूंकने वालों में शिवा केसरवानी, आनंद, आदर्श भदौरिया, सद्दाम अंसारी, अवनीश यादव, अजय राज, विकाश, आशुतोष मौर्या आदि शामिल थे। 

Virtual Counsellor