ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरUPPSC PCS mains exam 2022: पीसीएस 2022 मेन्स  आज से शुरू, प्रतियोगियों के लिए आसान नहीं होगी पीसीएस 2022 की राह

UPPSC PCS mains exam 2022: पीसीएस 2022 मेन्स  आज से शुरू, प्रतियोगियों के लिए आसान नहीं होगी पीसीएस 2022 की राह

UPPCS mains exam 2022: मंगलवार से शुरू हो रहे पीसीएस 2022 मेन्स के लिए उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने प्रयागराज, गाजियाबाद और लखनऊ में 13 केंद्र बनाए गए हैं। प्रयागराज के पांच केंद्रों पर 2038, गाजियाब

UPPSC PCS mains exam 2022: पीसीएस 2022 मेन्स  आज से शुरू, प्रतियोगियों के लिए आसान नहीं होगी पीसीएस 2022 की राह
Anuradha Pandeyप्रमुख संवाददाता,प्रयागराजTue, 27 Sep 2022 05:47 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

UPPCS mains exam 2022: मंगलवार से शुरू हो रहे पीसीएस 2022 मेन्स के लिए उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने प्रयागराज, गाजियाबाद और लखनऊ में 13 केंद्र बनाए गए हैं। प्रयागराज के पांच केंद्रों पर 2038, गाजियाबाद के चार केंद्रों पर 1616 और लखनऊ के चार केंद्रों पर 2142 अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल होंगे। 27 जुलाई को घोषित प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम में 5954 अभ्यर्थी सफल हुए थे। इनमें से 5796 ने ही आवेदन किया हैं। हालांकि ऑफलाइन आवेदन न कर सकने वाले कुछ छात्र परीक्षा में शामिल होने की अनुमति के लिए हाईकोर्ट भी गए हैं। परीक्षा एक अक्टूबर तक सुबह 9.30 से 12.30 बजे तक तथा दो से पांच बजे तक दो पालियों में होगी।

प्रदेश की सबसे प्रतिष्ठित भर्ती सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (पीसीएस)-2022 की राह प्रतियोगी छात्रों के लिए आसान नहीं होगी। पीसीएस 2021 का अंतिम परिणाम घोषित न होने के कारण उसके संभावित चयनित अभ्यर्थी भी मंगलवार से शुरू हो रही पीसीएस 2022 की मुख्य परीक्षा में शामिल होंगे। इसके चलते प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी। 2021 में 670 की तुलना में पीसीएस 2022 में 384 पद होने के कारण भी प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।

पूर्व सैनिकों को पांच फीसदी आरक्षण न देने का विवाद हाईकोर्ट में लंबित होने के कारण पीसीएस 2021 का अंतिम परिणाम साक्षात्कार संपन्न होने के बावजूद घोषित नहीं हो सका है। अभ्यर्थियों का दावा है कि 2021 का साक्षात्कार दे चुके अभ्यर्थी ऊहापोह में होने के कारण 2022 मुख्य परीक्षा की तैयारी एकाग्रता से नहीं कर सके हैं। तो वहीं 2022 के अभ्यर्थी भी 2021 का अंतिम परिणाम न आने से परेशान हैं और तैयारी प्रभावित हुई है। यही नहीं तमाम अभ्यर्थियों ने 30 सितंबर को प्रस्तावित बिहार लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा के लिए भी आवेदन किया है। ये अभ्यर्थी दो में से किसी एक परीक्षा चुनने को लेकर भी परेशान हैं। एक परीक्षा का चक्र पूरा हुए बगैर जब भी दूसरी प्रक्रिया आगे बढ़ती है तब ओवरलैपिंग के कारण छात्रों का नुकसान होता है। इसी प्रकार पीसीएस 2016 की प्रक्रिया पूरी हुए बगैर 2017 का चयन शुरू हो गया था। इसके कारण 2016 में नायब तहसीलदार के 209 पदों पर चयन के बावजूद 134 अभ्यर्थियों ने ही ज्वाइन किया था।

epaper