DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UPPSC : PCS 2017 Result के बाद हो 2018 का UPPCS Mains Exam

UPPSC Mains Result: परीक्षा के 2 साल बाद घोषित हुआ रिजल्ट

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ( UPPSC ) की पीसीएस 2017 परीक्षा ( UPPCS 2017 Result ) का अंतिम परिणाम घोषित होने के बाद पीसीएस 2018 की मुख्य परीक्षा ( UPPCS Mains 2018 ) कराने की मांग उठी है। प्रतियोगी छात्रों ने आयोग के नए अध्यक्ष डॉ. प्रभात कुमार से यह मांग की है। प्रतियोगी सोशल मीडिया पर अपनी इस मांग का जिक्र कर बुधवार को अध्यक्ष से मुलाकात करने वालों से इसे उठाने की अपील कर रहे हैं।

इस तर्क के साथ कि ऐसा करने से पद बर्बाद नहीं होंगे। साथ ही दोनों भर्तियों में शामिल अभ्यर्थियों को चयन के बाद बेवजह एक और परीक्षा नहीं देनी होगी। पीसीएस 2017 मुख्य परीक्षा पिछले वर्ष जून और जुलाई में हो चुकी है। इसकी कॉपियों का मूल्यांकन किया जा रहा है जबकि पीसीएस 2018 की प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम घोषित किया जा चुका है। मुख्य परीक्षा 17 जून 2019 से प्रस्तावित थी लेकिन एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती के पेपर लीक प्रकरण की वजह से परीक्षा स्थगित कर दी गई थी। पीसीएस 2017 का अंतिम परिणाम आने के बाद इसमें चयनित अभ्यर्थी पीसीएस 2018 की मुख्य परीक्षा में शामिल नहीं होंगे।

UPSSSC 2019: यूपीएसएसएससी की 5709 पदों पर भर्ती परीक्षाएं 28 जुलाई से

अक्सर ऐसा होता है कि पहली भर्ती पूरी होने से पहले दूसरी भर्ती की परीक्षा होने से अभ्यर्थी दोनों भर्तियों में शामिल होते हैं और फिर पहली भर्ती में मनचाहा पद मिलने के बाद दूसरी भर्ती में चयन के बाद उसे छोड़ देते हैं। इस वजह से पद बर्बाद होता और प्रतियोगियों का हक मारा जाता है। 22 फरवरी 2019 को पीसीएस 2016 का अंतिम परिणाम घोषित होने के बाद इसमें चयनित कई अभ्यर्थियों ने आयोग में लिखकर दिया था कि उनकी पीसीएस 2017 की कॉपी का मूल्यांकन न किया जाए। अगर 2018 का मेंस 2017 के अंतिम परिणाम के बाद आए तो इसकी नौबत ही नहीं आएगी। प्रतियोगियों की मांग है कि पैटर्न और पाठ्यक्रम में हुए बदलाव के मुताबिक पीसीएस 2018 का मॉडल पेपर भी जारी किया जाए।

पेपर लीक मामला: UPPSC के पूर्व चेयरमैन अनुरुद्ध यादव से होगी पूछताछ

दो परीक्षाएं एक साथ लेने का सुझाव
पूर्व अध्यक्ष डॉ. अनिल यादव के कार्यकाल के दौरान नियमित हुआ पीसीएस का सत्र एक बार फिर अनियमित हो गया है। इसे नियमित करने के लिए प्रतियोगियों का सुझाव है कि पीसीएस 2019 और 2020 की परीक्षा संयुक्त रूप से एक साथ करा ली जाए।

BPSC मेंस में पूछा गया सवाल- क्या राज्यपाल कठपुतली हैं?

1665 पदों पर होना है चयन
पीसीएस 2017 में 27 प्रकार के 677 और  पीसीएस 2018 में 40 प्रकार के 988 पद हैं। दोनों भर्तियों को मिलाकर कुल 1665 पदों पर चयन किया जाना है। खास बात यह है कि इनमें 184 पद डिप्टी एसपी और 141 पद डिप्टी कलेक्टर के हैं। पीसीएस 2017 में डिप्टी कलेक्टर के 22 और डिप्टी एसपी के 90 तो 2018 में डिप्टी कलेक्टर के 119 और डिप्टी एसपी के 94 पद हैं।

आयोग अध्यक्ष आज फिर करेंगे मुलाकात
लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष डॉ. प्रभात कुमार बुधवार को अभ्यर्थियों और आमजन से मुलाकात करेंगे। यह उनकी दूसरी मुलाकात होगी। मुलाकात के लिए ई-मेल के जरिए समय मांगने वालों को आयोग की तरफ से संदेश भेजा जा चुका है। प्रतियोगियों के संगठन भ्रष्टाचार मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष कौशल सिंह को भी मुलाकात के लिए वक्त मिला है। कौशल का कहना है कि प्रतियोगी छात्रों से चर्चा के बाद उन्होंने 17 समस्याओं की सूची तैयारी की है, जिसे अध्यक्ष को सौंपा जाएगा। साथ ही आयोग के कुछ चिह्नित लोगों का नाम भी अध्यक्ष को देते हुए जांच कर कार्रवाई की मांग की जाएगी।

आरओ-एआरओ 2016 प्री हो निरस्त
मोर्चा के अध्यक्ष की ओर से तैयार 17 समस्याओं में आरओ-एआरओ प्री 2016 परीक्षा निरस्त करने की मांग भी शामिल है। इस भर्ती के पेपर लीक प्रकरण की जांच सीबीसीआईडी कर रही थी, जिसने अपनी अंतरिम रिपोर्ट दे दी है पर प्रतियोगी इससे संतुष्ट नहीं हैं। इनकी मांग है कि परीक्षा निरस्त कर फिर से कराई जाए और आरओ-एआरओ मेंस 2017 का परिणाम जल्द घोषित किया जाए। इन 17 समस्याओं में पीसीएस में हिन्दी और अंग्रेजी माध्यम के छात्रों के साथ हो रहे भेदभाव को समाप्त करने, प्रश्न और उत्तर की गलती को रोकने, मेंस की तैयारी के लिए 90 दिन का समय देने, भर्ती प्रक्रिया (प्री, मेंस और इंटरव्यू) एक साल में पूरी करने, पीसीएस मेंस में एक दिन में सिर्फ एक पेपर कराने, मेंस की कॉपियों को ऑनलाइन करने, प्रतीक्षा सूची जारी करने, स्केलिंग की समीक्षा कर इसकी कमियों को दूर करने, एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा 2018 को निरस्त कर पीसीएस प्री 2018 की जांच कराने, जीआईसी और राजकीय डिग्री कॉलेज प्रवक्ता का चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर करने, पूरे वर्ष का विस्तृत कैलेंडर जारी करने, जेई सहित अन्य लंबित परिणाम को जल्द घोषित किया जाना शामिल है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UPPCS : UPPCS Mains Exam 2018 should conduct after uppcs 2017 result