DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   करियर  ›  UPHESC Assistant Professor Recruitment 2021 : 7 साल की सबसे बड़ी भर्ती से लगी आस

करियरUPHESC Assistant Professor Recruitment 2021 : 7 साल की सबसे बड़ी भर्ती से लगी आस

वरिष्ठ संवाददाता,प्रयागराजPublished By: Pankaj Vijay
Fri, 11 Jun 2021 12:29 PM
UPHESC Assistant Professor Recruitment 2021 : 7 साल की सबसे बड़ी भर्ती से लगी आस

उत्तर प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में 47 विषयों के लिए असिस्टेंट प्रोफेसर के 2003 पदों पर भर्ती से एक लाख युवाओं की आस लगी है। उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने 26 मई से परीक्षा प्रस्तावित की थी। लेकिन अन्य परीक्षाओं की तरह इसे भी कोरोना के कारण टालना पड़ गया है।

आयोग ने साढ़े चार साल के बाद भर्ती शुरू की थी। 2014 में लिखित परीक्षा शुरू होने के बाद से यह पहला अवसर था जब इतनी बड़ी संख्या में पद विज्ञापित हुए थे। उससे पहले 1984 से 2014 तक सीधे साक्षात्कार के जरिए भर्ती होती थी। चयन को लेकर विवाद तमाम होने पर मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और परीक्षा व्यवस्था लागू की गई।
कोरोना के कारण आयोग ने 11 मई को परीक्षा स्थगित कर दी थी। हालांकि दूसरी लहर के बाद स्थितियां सामान्य होने के बाद आयोग की गतिविधियां पर पटरी पर लौटने लगी है। अध्यक्ष ईश्वर शरण विश्वकर्मा समेत सदस्य व स्टाफ आने लगा है। सूत्रों के अनुसार परीक्षा की तैयारियां शुरू हो गई है।

2002 पदों में से 150 महिलाओं के लिए आरक्षित
असिस्टेंट प्रोफेसर के 2003 पदों में से 150 महिला अभ्यर्थियों के लिए आरक्षित हैं। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के आश्रितों के लिए 25 जबकि दिव्यांग अभ्यर्थियों के लिए 61 पद आरक्षित हैं। हिन्दी के सर्वाधिक 162 पदों में से एक भी पद महिलाओं के लिए आरक्षित नहीं है। महिलाओं के लिए सर्वाधिक 25 पद भूगोल विषय में आरक्षित हैं। रसायन विज्ञान के 159 पदों में से 23 महिला, 6 दिव्यांग व 3 स्वतंत्रता संग्राम सेनानी आश्रित के लिए आरक्षित है। सह शिक्षा महाविद्यालयों में 1728 जबकि महिला महाविद्यालयों में 274 पद पर भर्ती होगी।

बड़ी संख्या में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद हैं खाली
अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 2003 पदों के अलावा बड़ी संख्या में अभी पद खाली है। उच्च शिक्षा निदेशालय को 31 दिसंबर 2019 तक 3920 रिक्त पदों की सूचना मिली थी जिस पर नियुक्ति की अनुमति शासन से मांगी गई। ये पद 31 मार्च 2020 तक के थे। उसके बाद 31 दिसंबर 2020 तक और 520 रिक्त पदों की सूचना उच्च शिक्षा निदेशालय को प्राप्त हुई। ये पद 31 मार्च 2021 तक के हैं। लेकिन निदेशालय ने आयोग को 2002 पदों का ही अधियाचन भेजा था।

- असिस्टेंट प्रोफेसर के 2003 पदों पर एक लाख आवेदक
- उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने टाल दी थी मई अंत से प्रस्तावित परीक्षा
- प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में भर्ती का इंतजार
- 2014 से अब तक पहली बार इतनी बड़ी संख्या में हो रही नियुक्ति

ईश्वर शरण विश्वकर्मा (अध्यक्ष, उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग) ने कहा, '47 विषयों के 2003 पदों की परीक्षा कई चरणों में कराई जानी है। थोड़ी अनुकूलता आने पर परीक्षा कराएंगे। परीक्षा कब होगी इसका निर्णय आयोग की बैठक में होगा लेकिन हमने अपना काम शुरू कर दिया है। हमारा लक्ष्य जल्द से चयन प्रक्रिया पूरी करना है क्योंकि मेरा मानना है कि एक नियुक्ति से पूरा संभल जाता है।'

डॉ. सौरभ सिंह (अध्यक्ष, उच्च शिक्षा प्रतियोगी संघर्ष मोर्चा) ने कहा, 'कोरोना के कारण उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की भर्तियां सबसे अधिक प्रभावित हुई थी। लेकिन आयोग ने तत्परता दिखाते हुए संशोधित कैलेंडर जारी कर दिया है। उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग से भी हम उम्मीद करते हैं कि असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती की तारीख जल्द घोषित करे ताकि उसी के अनुरूप हम अपनी तैयारी शुरू कर सकें।'

संबंधित खबरें