DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी शिक्षक अटेंडेंस नियम: महिला टीचर बोलीं- कहीं हमारी फोटो का गलत इस्तेमाल न हो जाए

69000-teacher-recruitment

शिक्षक दिवस यानी 5 सितम्बर से पूरे प्रदेश के परिषदीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक स्कूलों के लिए लागू होने जा रहे प्रेरणा एप को लेकर शिक्षिकाओं में चिंता बनी हुई है। इस नई व्यवस्था में स्कूल के प्रधानाध्यापक/प्रधानाध्यापिका को पूरे स्टाफ के साथ तीन बार सेल्फी भेजनी है ताकि स्कूल में सही समय पर उनकी उपस्थिति की पुष्टि हो सके।

लेकिन शिक्षिकाओं को चिंता है कि एप से भेजी गई फोटो का कहीं दुरुपयोग न हो जाए। कक्षा 6 से 8 तक अवयस्क बच्चियां भी पढ़ती हैं जिनकी फोटो एप से साझा होने पर उनके दुरुपयोग की आशंका बनी रहेगी। यह नई व्यवस्था भारतीय संविधान में दिए गए निजता के अधिकार (अनुच्छेद 19 से 21 के अंतर्गत) का भी उल्लंघन बताया जा रहा है।

यूपी: सेल्फी से हाजिरी पर शिक्षक हुए लामबंद, 11 से 13 सितंबर तक करेंगे विरोध प्रदर्शन

प्राथमिक विद्यालय कुसुवा कौड़िहार सेकेंड की शिक्षिका अर्चना मिश्रा का कहना है कि आधार की अनिवार्यता को लेकर दायर याचिका में सुप्रीम कोर्ट की 9 सदस्यीय संविधान पीठ ने 24 अगस्त 2017 को दिए निर्णय में निजता के अधिकार को हमारे मूल अधिकार में निहित एक अनिवार्य तत्व माना था। इससे साफ हो गया था कि सरकारें हमारे बेडरूम में न तो झांक सकती हैं और न ही हमारे जीवन और निजता में दखल दे सकती हैं।

up teacher attendence rule

लेकिन इसके बावजूद प्रेरणा एप लागू किया जा सकता है। फेसबुक और व्हाट्सएप पर फोटो साझा करने पर उनका कहना है कि फेसबुक और व्हाट्सएप पर हम चुनिंदा लोगों के साथ अपनी फोटो या विचार साझा करते हैं। यह हमारे अपने लोगों के बीच रहती है। बाहरी लोगों को हम ब्लॉक रखते हैं। लेकिन प्रेरणा एप पर ली गई फोटो कहां जा रही है और उसका क्या दुरुपयोग होगा इसे लेकर आशंका बनी हुई है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:up teacher attendance rule : women teacher said our photo can be misused after sharing on prerna app