ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरUP पुलिस भर्ती परीक्षा: सॉल्वर गैंग में शामिल है ये 2 कांस्टेबल, दे चुके हैं 3-4 उम्मीदवारों की परीक्षा, पकड़े गए

UP पुलिस भर्ती परीक्षा: सॉल्वर गैंग में शामिल है ये 2 कांस्टेबल, दे चुके हैं 3-4 उम्मीदवारों की परीक्षा, पकड़े गए

उत्तर प्रदेश पुलिस ने यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2024 परीक्षा के दौरान सॉल्वर गैंग में दो कांस्टेबल को गिरफ्तार किया गया है। इन्होंने परीक्षा सॉल्व करने के लिए 3 लाख रुपये लिए थे। अब इन पर कार्रवा

UP पुलिस भर्ती परीक्षा: सॉल्वर गैंग में शामिल है ये 2 कांस्टेबल, दे चुके हैं 3-4 उम्मीदवारों की परीक्षा, पकड़े गए
Priyanka SharmaANI,नई दिल्लीMon, 19 Feb 2024 07:58 PM
ऐप पर पढ़ें

UP Police Constable Bharti Exam: इस  साल 17 और 18 फरवरी 2024 को  यूपी पुलिस कांस्‍टेबल भर्ती 2024 की लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया। राज्य सरकार ने परीक्षा में नकल को रोकने के लिए खूब तैयारी की थी। बता दें, सीसीटीवी की निगरानी के बीच परीक्षा का आयोजन शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराया गया। वहीं एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा में शामिल 'सॉल्वर गैंग' के 20 सदस्यों के साथ दो कांस्टेबलों को गिरफ्तार किया है।

एडिशनल सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस (रूरल) कुमार रण विजय सिंह के मुताबिक, "अब तक 19-20 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से कुछ लोग बिहार के हैं, जिन्हें बिहार से सॉल्वर बनाकर लाया गया था। इन सॉल्वर में  दीपू यादव नाम का एक शख्स है, जो पटना का रहने वाला है। वह कंडक्टरी का काम करता था और यहां के शिकोहाबाद गैंग से शामिल है।

वहीं रण विजय सिंह ने न्यूज एजेंसी ANI को बताया, "शिकोहाबाद से पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें से दो कांस्टेबल हैं। ये दोनों कांस्टेबल शिकोहाबाद के रहने वाले हैं। कांस्टेबल निरंजन ने 3-4 लोगों के लिए परीक्षा दी थी। जिसके बदले में उसने 3 लाख रुपये लिए थे। वहीं दूसरा कांस्टेबल जिसका नाम अनुज सुमित है, वह एक उम्मीदवार के लिए परीक्षा देने जा रहा था, लेकिन हमने उसे रोक लिया"

रण विजय ने बताया, इन दोनों कांस्टेबल के खिलाफ हमारे पास सभी पुख्ता सबूत हैं और  इनपर कानूनी कार्रवाई की जा रही है। कानूनी कार्रवाई पूरी होने के बाद कांस्टेबल समेत सभी सॉल्वर को जेल भेजा जा सकता है। बता दें, उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी कांस्टेबल सिविल पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा आयोजित करने के लिए कड़े सुरक्षा नियम लागू किए थे। प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर मजिस्ट्रेट तैनात किए गए थे और प्रत्येक केंद्र पर उम्मीदवारों  की संख्या के आधार पर केंद्र पर्यवेक्षक के रूप में पुलिस उपाधीक्षक से लेकर सब इंस्पेक्टर तक के पुलिस अधिकारी तैनात किए गए थे।

वहीं, परीक्षा के दौरान भर्ती परीक्षा में धांधली की योजना बनाने वाले 15 व्यक्तियों को एटा पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 2 लाख नकद, 64 मार्कशीट, 30 जाति प्रमाण पत्र, 30 मूल निवास प्रमाण पत्र व 23 एडमिट कार्ड बरामद किए गए हैं। वहीं परीक्षा को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पेपर लीक होने की खबरें फैलाई जा रही है। जिसके चलते उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड (Uppbpb) ने बताया कि कैसे सोशल मीडिया पर पेपर लीक संबंधी भ्रम फैलाया जा रहा रहा है। Uppbpb ने कल अपने आधिकारिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X (पूर्व में ट्विटर) पर एक पोस्ट में लिखा था कि, "प्रारंभिक जांच में पाया गया कि अराजक तत्वों द्वारा ठगी के लिए Telegram की Edit सुविधा का प्रयोग कर सोशल मीडिया पर पेपर लीक संबंधी भ्रम फैलाया जा रहा है। बोर्ड एवं @Uppolice इन प्रकरणों की निगरानी के साथ इनके सोर्स की गहन जांच कर रहा है। परीक्षा सुरक्षित एवं सुचारू रूप से जारी है।"

आपको बता दें, यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का आयोजन 60244 पदों के लिए किया जा रहा है। इस भर्ती के लिए 48 लाख उम्मीदवारों से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं। ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी कांस्टेबल की भर्ती के लिए इतनी बड़ी संख्या में आवेदन आए हों। परीक्षा 17 और 18 फरवरी को राज्य के सभी 75 जिलों में 2385 परीक्षा केंद्रों पर कुल 4 शिफ्ट में आयोजित की गई थी।

 

 

Virtual Counsellor