DA Image
हिंदी न्यूज़ › करियर › UP panchayat sahayak bharti 2021: बिना परीक्षा मिलेगी यूपी में 12वीं पास को नौकरी, 58000 पदों पर हो रही है भर्ती
करियर

UP panchayat sahayak bharti 2021: बिना परीक्षा मिलेगी यूपी में 12वीं पास को नौकरी, 58000 पदों पर हो रही है भर्ती

लाइव हिन्दुस्तान टीम,ऩई दिल्लीPublished By: Anuradha Pandey
Sat, 31 Jul 2021 10:29 AM
UP panchayat sahayak bharti 2021: बिना परीक्षा मिलेगी यूपी में 12वीं पास को नौकरी,  58000 पदों पर हो रही है भर्ती

यूपी में ग्राम पंचायत स्तर पर पंचायत सहायक/एकाउंटेंट-कम-डाटा-एंट्री आपरेटर के 58000 पदों पर भर्ती निकली हैं।  इस भर्ती से संबंधित आदेश जारी कर दिया गया है। 12वीं पास उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। इस भर्ती की खास बात यह है कि इस भर्ती में कोई परीक्षा नहीं ली जाएगी, 10वीं, 12वीं के अंकों की मेरिट से ही उम्मीदवारों को नौकरी दी जाएगी।  पंचायतों में जन सेवा केंद्र और बीसी सखी के लिए स्थान सुलभ कराने वाले सचिवालयों के संचालन के लिए पंचायत सहायक-कम-एकाउंटेंट-कम-डाटा एंट्री आपरेटर की भर्ती की जानी है। इन पंचायत सहायकों की नियुक्ति संबंधित ग्राम पंचायत के प्रधान द्वारा आवेदन पत्र आमंत्रित करके की जाएगी। 

योग्यता: उम्मीदवारों को उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद(यूपीएमएसपी) यानि यूपी बोर्ड से इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण होनी चाहिए। समकक्ष योग्यता रखने वाले उम्मीदवार भी आवेदन कर पाएंगे।

उम्र सीमा: उम्मीदवारों की आयु एक जुलाई 2021 को 18 वर्ष से कम और 40 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। एससी, एसटी व ओबीसी के अभ्यर्थियों को पांच वर्ष की छूट होगी। उम्मीदवार को जिस पंचायत के लिए आवेदन करना है। उसी का निवासी होना चाहिए। साथ ही आरक्षित श्रेणी की पंचायतों में उसी श्रेणी के उम्मीदवार का ही पंचायत सहायक के तौर पर चयन किया जाएगा।

ऐसे करना होगा आवेदन
आवेदन पत्र सादे कागज पर ग्राम पंचायत या संबंधित विकास खंड या जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय में जमा होंगे। इसमें शैक्षिक अर्हता, आयु एवं जाति संबंधी प्रमाण पत्र लगाना होगा। इसके लिए दो अगस्त से आवेदन कर सकते हैं।

सैलरी: छह हजार रुपये प्रतिमाह भुगतान किया जाएगा। साथ ही एक साल की संविदा की अवधि होगी। 

उम्मीदवारों को सूचना जारी किए जाने की तिथि से 15 दिनों के भीतर आवेदन करना होगा। प्रधान इसमें अपने परिवार व रिश्तेदारों को नहीं रख पाएंगे। साथ ही पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत जिस श्रेणी में आरक्षित होगी, उसी श्रेणी के सहायक का चयन किया जाएगा। यानि जिन पंचायतों के प्रधान पद अनुसूचित जाति के हैं, वहीं अनुसूचित नियुक्त होगा।

संबंधित खबरें