DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी के शिक्षकों पर सख्ती, अटेंडेस को लेकर बना ये कड़ा नियम

69000-teacher-recruitment

उत्तर प्रदेश में प्राइमरी और जूनियर हाईस्कूल के शिक्षकों को पांच सितंबर से ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करानी होगी। उन्हें पहली बार स्कूल आने पर और दूसरी बार छुट्टी होने पर अटेंडेस लगानी होगी।  इसके अलावा स्कूल में होने वाली समस्त गतिविधियों की सूचना भी ऑनलाइन ही देनी होगी। इसके लिए उन्हें अनिवार्य रूप से अपने स्मार्टफोन में 'प्रेरणा' एप डाउनलोड करना होगा। अभी तक प्रयोग के तौर यह योजना प्रदेश के सिर्फ तीन जिलों में चल रही थी।  

इस व्यवस्था को सफल बनाने के लिए मंगलवार को सर्व शिक्षा अभियान की ओर से लखनऊ में एक कार्यशाला हुई।  इसमें सभी जिलों के बीएसए और जिला समन्यवकों को बुलाया गया था। परियोजना निदेशक विजय किरण आनंद ने सभी को  आनलाइन व्यवस्था के बारे में जानकारी दी। बीएसए जय सिंह ने इस सिलसिले में बुधवार को सभी खंड शिक्षाधिकारियों की बैठक बुलाकर पूरे योजना की जानकारी दी। एप से मु्ख्य रूप से उपस्थिति और मिड डे मील की जानकारी ली जाएगी। शिक्षक अकेले और ग्रुप में फोटो खींच कर एप्प के माध्यम से अपलोड करेंगे। मिड डे मील ग्रहण करते हुए विद्यार्थियों की फोटो भी रोज भेजनी होगी।  अगर एक बार सभी विद्यार्थियों की फोटो नहीं आती है तो दो बार में अलग-अलग  खींची जाएगी।

UP DElEd : इंजीनियर कर रहे हैं D.EL.Ed , सरकारी टीचर बनने की है आस

पोर्टल पर दर्ज होगा सभी विवरण
शिक्षकों के कार्यभार ग्रहण करने, कार्यमुक्त होने, वेतन वितरण, सेवा पुस्तिका, अवकाश विवरण, परिवार और नामांतरण,  तबादला आदेश, पदोन्नति और नियुक्ति आदेश,  वार्षिक गोपनीय प्रतिवेदन दर्ज करने की व्यवस्था को भी आनलाइन कर दिया गया है। इसके लिए पोर्टल बनाया गया है। पोर्टल कैसे काम करेगा? इसका प्रेजेंटेशन कार्यशाला में किया गया था। जेम पोर्टल के माध्यम से स्वेटर की खरीद होगी। स्थानीय स्तरीय पर किसी प्रकार की खरीददारी नहीं होगी।

15 से 20 सितंबर को होगी लर्निंग आउटकम की परीक्षा
 विद्यार्थी ने पढ़ाई के दौरान कितना सीखा इसको जांचने के लिए 15 से 20 सितंबर को लर्निंग आउटकम की परीक्षा होगी। परीक्षा में कक्षा 5 से आठ तक के विद्यार्थी शामिल होंगे। परीक्षा लेने के लिए शासन से आर्थिक मदद मिलेगी।

आनलाइन उपस्थिति का शिक्षकों ने किया विरोध
शिक्षकों का कहना है कि एप के माध्यम से उपस्थित लेना अव्यवहारिक है। ग्रामीण अंचल के स्कूलों नेटवर्क की समस्या रहती है। यह व्यवस्था शिक्षकों पर अविश्वास करने जैसा है। निजी मोबाइल से किसी का फोटो खींचना निजता का उल्लंघन है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:up : now uttar pradesh teachers have to mark attendence two times read new rules