DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

up board result 2018: यूपी बोर्ड हाई स्कूल और इंटरमीडिएट के नतीजे 29 अप्रैल को, पहले जान लें ये 10 खास बातें- VIDEO

OTET Result 2017

up board result 2018: उत्तर प्रदेश सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड (यूपीएसईबी - यूपी बोर्ड ) हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का रिजल्ट 29 अप्रैल को घोषित करेगा। तमाम कयासों के बाद आखिरकार यूपी बोर्ड ने परीक्षा परिणाम की तिथि का ऐलान कर दिया। यूपी बोर्ड ने पिछले साल 9 जून को हाईस्कूल और इंटर का रिजल्ट घोषित किया था। पिछले साल इंटर में फतेहपुर की प्रियांशी तिवारी ने 96.2% अंकों के साथ टॉप किया था जबकि हाईस्कूल में तेजस्वी देवी ने 95.83% अंकों के साथ टॉप किया था। यहां जानिए यूपी बोर्ड रिजल्ट 2018 के ऐलान से जुड़ी 10 खास और बड़ी बातें- 

1. दोपहर 12.30 बजे रिजल्ट
यूपी बोर्ड 10वीं (हाईस्कूल) और 12वीं (इंटरमीडिएट) के नतीजे एक ही दिन रविवार 29 अप्रैल को दोपहर साढ़े 12 बजे घोषित होंगे। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने परीक्षा परिणाम की तिथि घोषित कर दी। 10वीं-12वीं का रिजल्ट एक साथ घोषित होने से यूपी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट ट्राफिक ज्यादा होने से धीमी हो सकती है। ऐसी स्थिति को विद्यार्थियों को रिजल्ट देखने में कुछ मिनटों का इंतजार करना पड़ सकता है। अगर ऐसा होता है तो स्टूडेंट्स धैर्य रखें और कुछ कुछ देर के बाद कोशिश करते रहें। 

2. टॉपरों की कॉपी वेबसाइट पर होगी 
इस बार बोर्ड परीक्षाओं के टॉपर विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाएं बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड की जाएंगी, ताकि छात्र-छात्राएं उन्हें देखकर प्रेरणा लें और तैयारी करें।

3. पास प्रतिशत कम होने की संभावना
2018 की बोर्ड परीक्षा के लिए हाईस्कूल और इंटर में कुल 66,37,018 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। इनमें से 1129786 ने बीच में ही परीक्षा छोड़ दी थी। इतनी बड़ी संख्या में छात्र-छात्राओं के परीक्षा छोड़ने के कारण उत्तीर्ण प्रतिशत पिछले वर्ष की तुलना में कम होने की संभावना है। 

4. हाईस्कूल के छात्रों को इंटरनल में मिले ज्यादा ज्यादा नंबर
यूपी बोर्ड से जुड़े 25 हजार से अधिक राजकीय, सहायता प्राप्त और वित्तविहीन स्कूलों ने 30 नंबर के आंतरिक मूल्यांकन में 10वीं के छात्र-छात्राओं को दिल खोलकर नंबर दिए हैं। अधिकांश स्कूलों ने अपने बच्चों को 25 से अधिक अंक दिए हैं ताकि रिजल्ट अच्छा रहे। बोर्ड ने शैक्षिक सत्र 2011-12 से कक्षा 9 व 10 के सभी विषयों में प्रायोगिक (प्रोजेक्ट व सृजनात्मक कार्य) और आंतरिक मूल्यांकन पद्धति लागू की थी। इसके तहत हाईस्कूल के सभी विषयों में 70 अंकों की लिखित परीक्षा और शेष 30 अंक प्रायोगिक एवं आंतरिक मूल्यांकन के निर्धारित किये गये। यह परीक्षाएं हर दो महीने पर अगस्त, अक्तूबर और दिसंबर में करवाने का प्रावधान है। लेकिन अधिकांश स्कूलों में आंतरिक मूल्यांकन ही नहीं कराया जाता। शिक्षक अपने मन से बच्चों को नंबर दे देते हैं और वही नंबर स्कूल बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर देता है। बोर्ड सूत्रों की मानें तो बड़ी संख्या में 10वीं के छात्र-छात्रओं को 30 में से 26, 27 और 28 नंबर मिले हैं। जाहिर है 10वीं में पास होने वाले बच्चों की मेरिट में इन नंबरों की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। 

up board result 2018 की घोषणा
5. यूपी बोर्ड बनाएगा रिकॉर्ड
ऐसा पहली बार है जब यूपी बोर्ड का रिजल्ट अप्रैल महीने में जारी किया जा रहा है। पिछले साल रिजल्ट जून महीने में जारी किया गया था। दरअसल यूपी सरकार ने बोर्ड को आदेश दिया था कि नतीजे अप्रैल महीने तक घोषित कर दिए जाएं। ताकि 10वीं पास विद्यार्थियों की 11वीं पढ़ाई समय से शुरू हो सके और 12वीं पास विद्यार्थी को उच्च शिक्षा से जुड़ा फैसला लेने के लिए ज्यादा समय मिल सके। 

6. करीब 55 लाख छात्र-छात्राओं का आएगा रिजल्ट
इस साल छह फरवरी से 12 मार्च तक हुईं यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के लिये कुल 66 लाख 37 हजार छात्र-छात्राओं ने फार्म भरा था। परीक्षा में नकल रोकने के लिए इस बार पुख्ता इंतजाम किए गए थे। इसके चलते इस बार रिकॉर्ड 11 लाख छात्र-छात्राओं ने परीक्षा छोड़ दी थी। यानी 55 लाख विद्यार्थियों का रिजल्ट आएगा।
इस पर यूपी के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा है कि इस साल यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में सख्ती के कारण इम्तेहान छोड़ने वाले 11 लाख छात्र-छात्राओं में 75 प्रतिशत तादाद दूसरे राज्यों और देशों के निवासियों की है। परीक्षा छोड़ने वालों में सऊदी अरब, दुबई, क़तर, दोहा, नेपाल और बांग्लादेश के नागरिक भी शामिल हैं।

7. रिजल्ट से पहले इंटर के 4.69 लाख छात्र फेल
यूपी बोर्ड का रिजल्ट घोषित होने से पहले ही इंटर के 469279 छात्र फेल हो गए हैं। इन छात्रों ने बोर्ड परीक्षा बीच में ही छोड़ दी थी। बोर्ड के नियमों के मुताबिक इंटर में एक विषय में फेल होने पर परीक्षार्थी फेल माना जाता है। लिहाजा जिन छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी है, वे सभी फेल हो गए हैं। वैसे तो 1129786 छात्रों ने परीक्षा छोड़ी थी। लेकिन इनमें हाईस्कूल के 660507 छात्र भी शामिल हैं। हाई स्कूल में नियम है कि छह में से पांच विषय में भी पास होने पर भी पास मान लिया जाता है। इसलिए यह कहना मुश्किल है कि परीक्षा छोड़ने वाले हाईस्कूल के 6605707 छात्रों में से कितने फेल होंगे।  हालांकि बड़ी संख्या में 10वीं के छात्रों के फेल होने की भी आशंका है।

8. कहां से करें Result चेक
रिजल्ट जारी होने पर स्टूडेंट्स अपना रिजल्ट यूपी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट upmspresults.up.nic.in या upresults.nic.in पर देख सकेंगे।  

9. livehindustan.com आपके मोबाइल तक पहुंचाएगा रिजल्ट

रिजल्ट जारी होने पर लाइव हिन्दुस्तान डॉट कॉम पर भी रिजल्ट (UP board results 2018) चेक किए जा सकते हैं: 

10वीं का रिजल्ट चेक करने के लिए यहां क्लिक करना होगा। इसके लिए यहां रजिस्ट्रेशन कराना होगा। 

12वीं का रिजल्ट चेक करने के लिए यहां क्लिक करना होगा। इसके लिए यहां रजिस्ट्रेशन कराना होगा। 

10. असंतुष्ट होने पर री-चेकिंग के लिए करें आवेदन
अगर आप अपने प्राप्तांकों से असंतुष्ट हैं तो अपनी उत्तर पुस्तिका की री चेकिंग करवाएं। इसके लिए पूरा शेड्यूल यूपी बोर्ड अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर जारी करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UP Board Results 2018 date confirmed Class 10 and 12 results to be declared on 29 April read 10 points