up board result 2019: teacher have to follow these rules during answer sheet checking and assessment centers - UP Board Result 2019: मूल्यांकन केंद्र में शिक्षकों के लिए बनाए गए ये सख्त नियम DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UP Board Result 2019: मूल्यांकन केंद्र में शिक्षकों के लिए बनाए गए ये सख्त नियम

cameras monitor

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा की कॉपियों के मूल्यांकन में शिक्षकों के मोबाइल रखने पर रोक लगा दी गई है। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने सभी डीआईओएस को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि मूल्यांकन कार्य में लगे किसी भी व्यक्ति द्वारा मूल्यांकन के दौरान मोबाइल फोन का इस्तेमाल किसी भी दशा में न किया जाए तथा मूल्यांकन संबंधी किसी भी प्रपत्र (ओएमआर शीट, मूल्यांकित उत्तर पुस्तकों के किसी भी पृष्ठ) की फाटो न खींची जाए। 

यदि कोई भी परीक्षक या कर्मचारी इस आदेश का पालन नहीं करता तो उसके कृत्य को विश्वासघात की श्रेणी में माना जाएगा और उसके खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्रवाई (अर्थदंड या परीक्षा कार्यों से वंचित करने की कार्रवाई) की जाएगी। डीआईओएस यह भी सुनिश्ति करेंगे की परीक्षा कार्यों की पवित्रता एवं शुचिता को देखते हुए मूल्यांकन केंद्रों के महत्वपूर्ण स्थान कोठार, मूल्यांकन कक्ष, बंडलों के सीलिंग-पैकिंग कक्ष व पत्राचार कक्ष आदि पर सीसीटीवी कैमरे लगे हों और क्रियाशील हों।

CBSE 10th 12th Exam 2019: सीबीएसई ने नियम बदले, छात्रों को मिली ये छूट

कोठार से कॉपी जारी करने से लेकर मूल्यांकन, बंडलों की सीलिंग-पैकिंग व पत्राचार संबंधी सभी कार्य पूरी सख्ती के साथ सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में कराए जाएंगे। पिछले साल गोपनीय अवार्ड ब्लैंक और कॉपियों की फोटो व्हाट्सएप पर वायरल होने की घटना से सतर्क बोर्ड सचिव ने सख्त निर्देश दिए हैं। सचिव नीना श्रीवास्तव ने कहा कि शासन की मंशा के अनुसार मूल्यांकन की गोपनीयता बनाए रखने के लिए सख्त निर्देश दिए गए हैं।

UP Board result 2019: जानें कब आएंगे यूपी बोर्ड 10th-12th के नतीजे

मूल्यांकन प्रक्रिया पर एक नजर
- 8 मार्च से पूरे प्रदेश में शुरू होगा मूल्यांकन
- 230 स्कूलों को बनाया गया है मूल्यांकन केंद्र
- 1,24,796 शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई
- 3.20 करोड़ कॉपियां (हाईस्कूल 1.90 करोड़, इंटर 1.30 करोड़)
- 15 दिन में पूरा होगा कॉपियों को जांचने का काम 

पहले दो दिन मंडल मुख्यालयों में नहीं जंचेंगी कॉपियां
यूपी बोर्ड की कॉपियों का मूल्यांकन भले ही 8 मार्च से शुरू हो रहा है लेकिन शुरूआत के दो दिन मंडल मुख्यालय वाले जिलों में कॉपी नहीं जांची जा सकेगी। दरअसल 8 व 9 मार्च को माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड की प्रशिक्षत स्नातक भर्ती परीक्षा है। इसके लिए तकरीबन सभी राजकीय व एडेड स्कूलों को केंद्र बनाया गया है। इसलिए प्रयागराज, वाराणसी, लखनऊ, कानुपर नगर, गोरखपुर समेत अन्य मंडल मुख्यालय वाले जिलों में शुरू के दो दिन कॉपियां नहीं जांची जा सकेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:up board result 2019: teacher have to follow these rules during answer sheet checking and assessment centers