DA Image
10 अप्रैल, 2021|5:24|IST

अगली स्टोरी

यूपी बोर्ड: सख्ती के डर से पांच लाख से ज्यादा छात्रों ने परीक्षा छोड़ी

UP BOARD

नकल रोकने के लिए की जा रही सख्ती के डर से अब तक पांच लाख से ज्यादा विद्यार्थी यूपी बोर्ड की परीक्षा छोड़ चुके हैं। वहीं नकलचियों की संख्या भी कम हो गई है। परीक्षा के दूसरे दिन 144 नकलची पकड़े गए जबकि बीते वर्ष यह संख्या 266 थी। 

उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के जौनपुर समेत कई जिलों में औचक निरीक्षण से यूपी बोर्ड परीक्षा को नकलविहीन बनाने के प्रयासों को बल मिला है। इसी तरह इलाहाबाद में एसटीएफ की कार्रवाई से भी कड़ा संदेश गया है। जानकारों का मानना है कि इस बार प्रदेश में नकलविहीन परीक्षा का माहौल बना है और स्कूल के शिक्षक-कर्मचारी नकल कराने से बचेंगे। 

इलाहाबाद में एसटीएफ की कार्रवाई महकमे में चर्चा के केन्द्र में रही। इलाहाबाद में एक स्कूल में सामूहिक नकल के मामले में प्रधानाचार्य समेत तीन को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। बुधवार को अधिकारी जहां व्यवस्था चाकचौबंद रखने में जुटे रहे वहीं जिलाधिकारी भी पल-पल की जानकारी लेते रहे। मुख्यमंत्री अपने  निर्देशों में स्पष्ट कर चुके हैं कि सामूहिक नकल के मामलों में विभागीय अधिकारियों के साथ डीएम भी जिम्मेदार होंगे। 

परीक्षा के दो दिन बीत चुके हैं। सभी जिलों से उत्साहजनक सूचनाएं आ रही हैं। नकल माफिया के हौसले पस्त हैं। एसटीएफ सक्रिय है। सूचना मिलते ही कार्रवाई की जाएगी। 
 नीना श्रीवास्तव, सचिव, यूपी बोर्ड
 
नकल रोकने के लिए पहली बार-
इस वर्ष परीक्षा केंद्र का निर्धारण ऑनलाइन किया गया है।
50 संवेदनशील जिलों में कोड वाली कॉपियां भेजी गई हैं. परीक्षार्थी का कॉपी कोड उपस्थिति पंजिका पर लिखा जाएगा।
कॉपियां जब स्कूलों से भेजी जाएंगी तब साथ में सुरक्षा इंतजाम रहेंगे। रिक्शे पर लावारिस तरीके से कॉपियां नहीं भेजी जाएंगी।
सभी परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी का इंतजाम है।
परीक्षा के दौरान एसटीएफ जैसी विशेषज्ञ एजेंसी की मदद ली जा रही है। 
जिला विद्यालय निरीक्षकों को गोपनीय सूचनाएं देने के लिए एलआईयू का इस्तेमाल किया गया।
सामूहिक नकल पकड़े जाने पर डीएम तथा विभागीय अधिकारी जिम्मेदार माने जाएंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:UP Board More than five lakh students leave the examination due to strict vulnerabilities