DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

up board exam 2020 : यूपी बोर्ड परीक्षा में बनेगा पुलिस जैसा कंट्रोल रूम, हर हरकत पर नजर

gate 2020 exam

प्रदेश सरकार नकल माफियाओं की कमर तोड़ने जा रही है। यूपी बोर्ड परीक्षा-2020  में हर परीक्षा केन्द्र लखनऊ की निगरानी में रहेगा। केन्द्रों पर होने वाली हर हलचल पर यहां से नजर रखी जाएगी। इसके लिए पुलिस जैसा कंट्रोल रूम बनाया जा रहा है। 

यह कंट्रोल रूम हर जिले में बनेंगे। प्रत्येक परीक्षा केन्द्र पर लगे सीसीटीवी कैमरों को इनसे जोड़ा जाएंगा। इससे कोई भी कभी भी प्रदेश के किसी भी परीक्षा केन्द्र पर होने वाली हरकत पर नजर रख सकेगा। लखनऊ और अलीगढ़ में पिछले परीक्षा के दौरान इसका सफल प्रयोग किया जा चुका है। अब, इसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा। 

UP board exam 2020: यूपी बोर्ड इंटर कोर्स में किया गया ये अहम बदलाव

कार्ययोजना बनाने के लिए सोमवार को एक बैठक राजधानी में होगी। ‌उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के समक्ष मुख्य भवन कमरा नम्बर 80 में एक प्रस्तुतिकरण भी किया जाएगा। वर्ष 2020 की परीक्षा में सभी जनपदों में बनने वाले कंट्रोल रूम और उसके लिए आवश्यक हाईवेयर एवं सॉफ्टवेयर की व्यवस्था करने के लिए ही उनपर होने वाले खर्चे को लेकर मंथन किया जाएगा। 

UP Board : यूपी में कक्षा 9 से 12 तक का पंजीकरण 5 सितम्बर तक बढ़ा

सचिव माध्यमिक शिक्षा नीना श्रीवास्तव का कहना है कि पिछली परीक्षाओं में नकल माफिया के काकस को तोड़ गया है। अब, इसे पूरी तरह से खत्म करने पर कवायद है। इसी दिशा में कंट्रोल रूम बनाने की योजना पर काम शुरू हो गया है। जल्द ही, नतीजे सामने आएंगे। 

मोबाइल फोन से जोड़े गए थे राजधानी के केन्द्र 
पिछले वर्ष की परीक्षाओं राजधानी में कंट्रोल रूम बनाकर केन्द्रों पर नजर रखी गई थी। इसके लिए करीब दो दर्जन परीक्षा केन्द्रों के सीसीटीवी कैमरों को एप के जरिए डीआईओएस के मोबाइल फोन से जोड़ दिया गया था। इनमें,  बाबा ठाकुरदास इंटर कॉलेज, अमीनाबाद इंटर कॉलेज, श्री अयोध्या सिंह मेमोरियल इंटर कॉलेज, करामत हुसैन गर्ल्स इंटर कॉलेज, महात्मा गांधी इंटर कॉलेज,  इरम कॉन्वेंट इंटर कॉलेज इंदिरानगर समेत कई अन्य परीक्षा केन्द्रों शामिल रहे। 

इस तकनीकी से इस्तेमाल से होगी संभव 
यह पी-2-पी तकनीकी है। जिसे हाल में लाया गया है। इसमें, जिस कम्पनी का कैमरा होता वह एक सॉफ्टवेयर भी देती है। उनके एक सर्वर होता है। कैमरा और मोबाइल फोन दोनों इस सर्वर से जोड़े जाते हैं।  यह सर्वर ही कैमरे से प्राप्त होने वाली तस्वीरों को मोबाइल या स्क्रीन तक पहुंचाने का माध्यम बनता है। आजकल घरों में नजर रखने के लिए लोग इस तकनीकी का इस्तेमाल भी काफी कर रहे हैं। 
- कपिल पाण्डेय, तकनीकी विशेषज्ञ 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:up board exam 2020: control room like police will be made in uttar pradesh board exam