DA Image
4 अगस्त, 2020|1:49|IST

अगली स्टोरी

University Exams 2020: फाइनल ईयर की परीक्षाएं रद्द करने को कई राज्यों से उठी मांग

ugc

University Exams: यूजीसी की रिवाइज्ड गाइडलाइन्स जारी किए जाने और दिल्ली सरकार द्वारा सभी स्टेट यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं रद्द करने के बाद कई राज्यों से अब यूजीसी व केंद्र सरकार से फाइल ईयर/फाइनल सेमेस्टर की परीक्षाएं रद्द किए जाने की मांग उठी है। एक दिन पहले दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली सरकार द्वारा विश्वविद्यालयों की सभी परीक्षाएं रद्द कर स्टूडेंट्स को यूनिवर्सिटी द्वारा तय किए गए मूल्यांकन मापदंडों के आधार पर डिग्री दिए जाने का ऐलान किया था।
.
उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर केंद्र के अंतर्गत आने वाले सभी विश्वविद्यालयों में भी अंतिम वर्ष समेत सभी परीक्षाओं को रद्द करने का अनुरोध किया है। फाइनल ईयर की परीक्षाओं को लेकर यूजीसी और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की नई गाइडलाइंस आने के बाद दिल्ली सरकार समेत अन्य राज्यों द्वारा परीक्षाएं रद्द करने की मांग हैरान करने वाली है।
 
शनिवार को दिल्ली सरकार के फैसले के बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने भी मीडिया को बताया था कि उन्होंने केंद्र सरकार और यूजीसी से अनुरोध किया है कि फाइनल ईयर की परीक्षाएं रद्द की जाएं और छात्रों को पिछली परीक्षाओं के आधार पर प्रमोट किया जाना चाहिए।

इसी प्रकार रविवार को यूपी पुदुच्चेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने यह कहते हुए केंद्र से अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों की कॉलेज परीक्षाएं आयोजित करने की योजना निरस्त करने की अपील की कि इससे उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को समझना चाहिए कि वर्तमान स्थिति में स्नातक और स्नातकोत्तर की अंतिम सेमेस्टर परीक्षाओं में शामिल होना विद्यार्थियों के लिए कितना 'जोखिमपूर्ण और अव्यावहारिक होगा। 

इसी प्रकार महाराष्ट्र में भी सत्ताधारी पार्टी शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को राज्य में विश्वविद्यालय की अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित कराए जाने के अपने रुख पर पुनर्विचार करना चाहिए।


इन राज्यों में रद्द हो चुकी हैं फाइनल ईयर की परीक्षाएं
आपको बता दें कि फाइनल ईयर की परीक्षाएं रद्द करने वाले दिल्ली अकेला राज्य नहीं हैं। 6 जून को यूजीसी की रिवाइज्ड गाइडलाइंस जारी होने से कई दिन पहले राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, ओडिशा, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल की सरकारें भी अपने क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आने वाले विश्वविद्यालयों में सभी परीक्षाएं रद्द कर चुकी हैं। 


यूजीसी रिवाइज्ड गाइडलाइन्स से 30 सितंबर तक करानी हैं परीक्षाएं
यूजीसी की रिवाइज्ड गाइडलाइंस के मुताबिक सभी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों के लिए 30 सितंबर तक यूजी और पीजी कोर्सेज के फाइनल ईयर/सेमिस्टर की परीक्षाएं कराना अनिवार्य है। 

इसे भी पढ़ें-  UGC की रिवाइज्ड गाइडलाइन्स जारी, सितंबर 2020 अंत तक होंगी फाइनल ईयर की परीक्षाएं

 

UGC ने की थी सभी राज्यों से फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने की अपील
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के सचिव प्रो. रजनीश जैन ने गुरुवार को सभी राज्यों से अपील की थी कि वह अपने यहां के सभी विश्वविद्यालयों के फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा जरूर कराएं। उन्होंने कहा था, 'हमें पता चला है कि कई राज्यों ने अपने यहां के विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। लेकिन देश में उच्च शिक्षा स्तर में एकरूपता होना बेहद जरूरी है। इसके लिए ही गाइडलाइंस स्वीकार की जाती हैं और उनका अनुसरण किया जाता है। उन राज्यों को भी यूजीसी की गाइडलाइंस माननी चाहिए और फाइनल ईयर की परीक्षाएं करानी चाहिए। अगर हम फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं नहीं कराएंगे तो इससे उनकी डिग्री की वैधता पर एक सवाल उठता है। यूनिवर्सिटी और कॉलेज ऑनलाइन, ऑफलाइन या ब्लेंडेड किसी भी मोड से परीक्षाएं आयोजित कर सकते हैं। अगर कोई स्टूडेंट सितंबर में आयोजित होने वाली परीक्षाओं में नहीं बैठ पाता है तो यूनिवर्सिटी ऐसे छात्रों के लिए स्पेशल एग्जाम करवाएगी।'

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:University Exams 2020: Demand from many states to cancel the final year exams