ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरअब साल में 2 बार एडमिशन दे सकेंगे विश्वविद्यालय व कॉलेज, प्लेसमेंट भी होगा दो बार, UGC ने दी खुशखबरी

अब साल में 2 बार एडमिशन दे सकेंगे विश्वविद्यालय व कॉलेज, प्लेसमेंट भी होगा दो बार, UGC ने दी खुशखबरी

देश के विश्वविद्यालयों के रेगुलर कोर्सेज में छात्र छात्राओं को साल में दो बार एडमिशन लेने का मौका मिलेगा। यूजीसी ने विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को साल में दो मर्तबा एडमिशन लेने की अनुमति दे दी है।

अब साल में 2 बार एडमिशन दे सकेंगे विश्वविद्यालय व कॉलेज, प्लेसमेंट भी होगा दो बार, UGC ने दी खुशखबरी
Pankaj Vijayफारिहा इफ्तिखार,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 06:42 PM
ऐप पर पढ़ें

देश के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के रेगुलर कोर्सेज में छात्र छात्राओं को साल में दो बार एडमिशन लेने का मौका मिलेगा। यूजीसी ने विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को साल में दो मर्तबा एडमिशन लेने की अनुमति दे दी है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उच्च शिक्षा संस्थानों में शैक्षणिक वर्ष 2024-25 से ही यह सुविधा शुरू हो जाएगी।  कुमार ने बताया कि यह निर्णय 5 मई को आयोजित यूजीसी की बैठक के दौरान लिया गया था। वर्तमान में विश्वविद्यालय और कॉलेज हर साल जुलाई-अगस्त में रेगुलर कोर्सेज में छात्रों को एडमिशन देते हैं और भारत में सभी उच्च शिक्षा संस्थानों में जुलाई-अगस्त से सेशन शुरू होता है और मई-जून में समाप्त होता है। 

कुमार ने ये भी जानकारी दी कि कैंपस प्लेसमेंट ड्राइव भी साल में दो बार आयोजित की जाएगी। ऐसे में स्टूडेंट्स को साल में दो बार रोजगार पाने का मौका मिलेगा।

पिछले साल, यूजीसी ने शैक्षणिक वर्ष के दौरान जनवरी और जुलाई में दो बार ओपन एंड डिस्टेंस लर्निंग (ओडीएल) और ऑनलाइन मोड में छात्रों को दाखिला देने की अनुमति दी थी। कुमार ने कहा कि पिछले वर्ष के फैसले का फायदा लगभग पांच लाख स्टूडेंट्स को मिला। उन्होंने एक साल का इंतजार नहीं कर पड़ा। उनका साल बर्बाद नहीं होगा। उन्हें अकादमिक वर्ष के बीच में ही अपने डिग्री कोर्स में शामिल होने में मदद मिली।

उन्होंने कहा, “यूजीसी द्वारा ओपन एंड डिस्टेंस लर्निंग (ओडीएल) और ऑनलाइन मोड के लिए एक वर्ष में दो बार एडमिशन लेने की अनुमति देने के बाद यूजीसी पोर्टल पर उच्च शिक्षा संस्थानों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, जुलाई 2022 में कुल 19,73,056 छात्रों का एडमिशन हुआ और जनवरी 2023 में ओडीएल और ऑनलाइन कोर्सेज अतिरिक्त 4,28,854 छात्र शामिल हुए।” यूजीसी अध्यक्ष ने कहा कि इस शानदार रिजल्ट को देखते हुए काउंसिल ने रेगुलर कोर्सेज के लिए भी साल में दो बार एडमिशन (जनवरी-फरवरी और जुलाई -अगस्त)  लिए जाने की अनुमति देने का निर्णय लिया है। 

कुमार ने कहा, 'साल में दो बार यूनिवर्सिटी एडमिशन होने से उन स्टूडेंटस् को फायदा होगा जिनके 12वीं बोर्ड रिजल्ट देरी से घोषित हुए हैं या फिर हेल्थ या निजी समस्याओं के चलते वह एग्जाम में नहीं बैठ सका था। दो बार एडमिशन होने से इंडस्ट्री साल में दो बार कैंपस प्लेसमेंट के लिए आएगी, इससे संस्थान में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। 

कई देशों में पहले से है यह व्यवस्था
यूजीसी अध्यक्ष जगदेश कुमार ने कहा, दुनियाभर के विश्वविद्यालयों में पहले से ही द्विवार्षिक प्रवेश प्रणाली है। यदि भारतीय उच्च शिक्षा संस्थान द्विवार्षिक प्रवेश चक्र को अपनाते हैं, तो हमारे उच्च शिक्षा संस्थान अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोग और छात्र आदान-प्रदान बढ़ा सकते हैं। इससे हमारी वैश्विक प्रतिस्पर्धा सुधरेगी। हम वैश्विक शैक्षिक मानकों के अनुरूप होंगे। 

विश्वविद्यालयों के लिए दो बार प्रवेश अनिवार्य नहीं
विश्वविद्यालयों के लिए साल में दो बार प्रवेश देना अनिवार्य नहीं होगा। जिन संस्थानों के पास आवश्यक ढांचा और शिक्षक संकाय है, वे इसका लाभ उठा सकते हैं। यह वह लचीलापन है, जो यूजीसी उन उच्च शिक्षा संस्थानों को प्रदान करता है, जो अपने छात्रों की संख्या बढ़ाना चाहते हैं और उभरते क्षेत्रों में नए कार्यक्रम पेश करना चाहते हैं। साल में दो बार छात्रों को प्रवेश देने में सक्षम होने के लिए उच्च शिक्षा संस्थानों को अपने संस्थागत नियमों में उपयुक्त संशोधन करने होंगे।

सुगमता से कामकाज होगा 
यूजीसी प्रमुख ने बताया कि साल में दो बार प्रवेश से उच्च शिक्षण संस्थानों (एचईआई) को अपने संसाधन वितरण, जैसे संकाय, प्रयोगशाला, कक्षाएं और सहायक सेवाओं की योजना अधिक कुशलतापूर्वक बनाने में मदद मिलेगी, जिससे विश्वविद्यालय के भीतर सुगमता से कामकाज होगा।

Virtual Counsellor