ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरराज्य के 545 में 157 निजी स्कूलों का यू-डायस कोड रद्द

राज्य के 545 में 157 निजी स्कूलों का यू-डायस कोड रद्द

राज्य के 545 सीबीएसई और आईसीएसई में से 157 स्कूलों का यू-डायस कोड को बंद (रद्द) कर दिया गया है। संबंधित जिला शिक्षा कार्यालय ने जानकारी यू-डायस पोर्टल पर अपलोड कर दी है। अब संबंधित निजी स्कूल अधिकारिक

राज्य के 545 में 157 निजी स्कूलों का यू-डायस कोड रद्द
Alakha Singhवरीय संवाददाता,पटनाSat, 27 May 2023 11:17 PM
ऐप पर पढ़ें

राज्य के 545 सीबीएसई और आईसीएसई में से 157 स्कूलों का यू-डायस कोड को बंद (रद्द) कर दिया गया है। संबंधित जिला शिक्षा कार्यालय ने जानकारी यू-डायस पोर्टल पर अपलोड कर दी है। अब संबंधित निजी स्कूल अधिकारिक रूप से बंद हो जाएंगे। ये न तो आगे नामांकन ले पायेंगे और न ही स्कूल चला पायेंगे। स्कूल का बैनर भी हटाना होगा। वहीं पटना जिला शिक्षा कार्यालय की मानें तो जो छात्र इन निजी स्कूलों में नामांकित थे, उनका सरकारी स्कूलों में नामांकन करवाया जाएगा। इधर पटना जिले में 45 स्कूलों के यू-डायस कोड को बंद करना है। शुक्रवार तक 38 स्कूलों का यू-डायस कोड बंद किया गया। शेष का जल्द ही कोड बंद कर दिया जाएगा। इनमें पटना सदर से 12, मसौढ़ी से आठ, फुलवारीशरीफ और बिहटा से छह-छह, बख्तियारपुर से तीन, विक्रम से दो और दानापुर, मनेर, फतुहा से एक-एक निजी स्कूल शामिल हैं। बता दें कि समीक्षा में सैकड़ों फर्जी निजी स्कूल पकड़ में आ रहे हैं। विद्यार्थी का डिटेल्स देने का दबाव दिया जा रहा है तो स्कूल प्रशासन यू-डायस कोड बंद करने का आग्रह कर रहा है।

तीन साल से नहीं हुआ सैकड़ों निजी स्कूलों में नामांकन
पटना जिला शिक्षा कार्यालय के अनुसार जिलेभर में कई ऐसे निजी स्कूल हैं जहां कागजों पर ही नामांकन हो रहा है। आठवीं पास करने के बाद विद्यार्थी का नौवीं रजिस्ट्रेशन अन्य स्कूलों से किया जाता है। हर साल विद्यार्थी सीबीएसई से परीक्षा में भी शामिल हो रहे हैं। लेकिन अब जब स्कूल से छात्र-छात्राओं की संख्या मांगी जा रही है तो स्कूल हाथ खड़े कर रहा है। इन स्कूलों में नौवीं कक्षा में तीन साल से एक भी नामांकन नहीं हुआ है।

- 88.50 फीसदी स्कूलों का भरा गया यू-डायस कोड
बिहार शिक्षा परियोजना परिषद की मानें तो राज्य के 88.50 फीसदी जिलों के स्कूलों द्वारा यू-डायस भरने का काम पूरा हो गया है। सबसे बेहतर स्थिति समस्तीपुर जिले की है। यहां से 98.43% स्कूलों का यू-डायस कोड का काम पूरा हो गया है। इसके अलावा शेखपुरा से 96.90%, कटिहार से 94.87%, किशनगंज से 95.63%, वैशाली से 94.59% , जहानाबाद से 90.38% , दरभंगा से 92.14% , बेगूसराय से 90.87% स्कूलों की इंट्री का काम पूरा कर लिया गया है। पटना जिला की बात करें तो 87.38% स्कूलों की इंट्री का काम पूरा कर लिया गया है।

ये होगा असर
- स्थानीय स्तर पर स्कूल बंद होने से निजी स्कूल में नामांकन का विकल्प खत्म हो जाएगा

- सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ेगा
- अभिभावक फर्जी स्कूल में नामांकन से बचेंगे

- दूसरे स्कूल भी फर्जी तरीके से स्कूल नहीं खोल पायेंगे
- फ्लाइंग छात्रों की संख्या कम होगी

Virtual Counsellor