ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरयूपीटीईटी में सेंधमारी करते सॉल्वर गैंग के सरगना समेत तीन अरेस्ट

यूपीटीईटी में सेंधमारी करते सॉल्वर गैंग के सरगना समेत तीन अरेस्ट

एसटीएफ ने यूपी टीईटी भर्ती में सेंधमारी का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ ने सभी की गिरफ्तारी मेरठ के रामसहाय इंटर कॉलेज से की है। सॉल्वर और मूल अभ्यर्थी समेत तीन आरोपियों...

यूपीटीईटी में सेंधमारी करते सॉल्वर गैंग के सरगना समेत तीन अरेस्ट
Alakha Singhमुख्य संवाददाता,मेरठSun, 23 Jan 2022 08:54 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

एसटीएफ ने यूपी टीईटी भर्ती में सेंधमारी का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ ने सभी की गिरफ्तारी मेरठ के रामसहाय इंटर कॉलेज से की है। सॉल्वर और मूल अभ्यर्थी समेत तीन आरोपियों के खिलाफ नौचंदी थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। गिरोह का सरगना भी दबोच लिया गया है। गिरोह के तार बुलंदशहर के एक कोचिंग सेंटर और बागपत से जुड़े हैं। आरोपियों के संपर्क में रहे अन्य लोगों की भी तलाश की जा रही है।

एसटीएफ नोएडा टीम को सूचना मिली कि मेरठ में यूपी टीईटी भर्ती में मूल अभ्यर्थी की जगह पर सॉल्वर बैठाया जाएगा। इसी सूचना पर पुलिस ने कुछ आरोपियों की धरपकड़ के लिए रविवार को घेराबंदी की। गढ़ रोड पर परीक्षा केंद्र रामसहाय इंटर कालेज में एसटीएफ टीम दोपहर पहुंची। एसटीएफ ने अनिल नामक अभ्यर्थी को हिरासत में लिया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि मूल अभ्यर्थी का नाम अनिल है और उसकी जगह पर राजा तोमर निवासी बागपत परीक्षा देने आया था। इसके बाद एसटीएफ ने साल्वर राजा तोमर की गिरफ्तारी के बाद सॉल्वर गैंग के सरगना मोनू प्रजापति निवासी बड़ौत और मूल अभ्यर्थी अनिल कुमार निवासी बुलंदशहर को भी गिरफ्तार कर लिया। खुलासा हुआ कि अनिल की जगह पर राजा को परीक्षा देने के लिए भेजा गया था। मेरठ के नौचंदी थाने में आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

12वीं पास करते ही बनाया अपना गैंग
मोनू प्रजापति 12वीं पास है। बताया कि 12वीं की पढ़ाई के दौरान वह बड़ौत में ट्यूशन पढ़ता था। इसी दौरान शहनवाज का भाई भी साथ पढ़ता था। शहनवाज 2012 से ही प्रतियोगी परीक्षाओं में सॉल्वर बैठाता था। मोनू ने बताया कि उसने भी वर्ष 2016 में रेलवे की ग्रुप-डी की भर्ती का फार्म भरा था और पास कराने के लिए शहनवाज को 2.50 लाख रुपये दिए थे। हालांकि पास नहीं हो सका। मोनू ने बताया कि इसके बाद वह शहनवाज के साथ ही जुड़ गया और सॉल्वर गैंग के लिए काम करने लगा। वर्ष 2018 में शहनवाज परीक्षा में धांधली कराने के आरोप में जेल भी जा चुका है।

बुलंदशहर के कोचिंग सेंटर में फैला है जाल
अनिल बुलंदशहर का रहने वाला है और वहीं कोचिंग करता है। कोचिंग में पढ़ाने वाला एक शिक्षक भी मोनू गैंग से जुड़ा है। इसी शिक्षक ने अनिल का परिचय मोनू से कराया था। कुछ समय पूर्व अनिल ने आरपीएफ का फार्म भरा था और पास कराने के लिए मोनू को 2.50 लाख रुपये दिए थे। हालांकि अनिल पास नहीं हो सका। इसी रकम की एवज में अब यूपी टीईटी परीक्षा में पास कराने के लिए दोबारा मोनू ने ठेका लिया था। अनिल की जगह पर राजा तोमर को परीक्षा देने भेजा गया था। एसटीएफ अब बुलंदशहर के कोचिंग सेंटर के शिक्षक की भी तलाश में है।

आखिर कौन है सॉल्वर राजा तोमर
राजा तोमर मूल रेप बागपत जिले के रमाला क्षेत्र के गूगाखेड़ी गांव का रहने वाला है और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा है। राजा बड़ौत में ही रहता है और कोचिंग कर रहा है। एक परीक्षा में अभ्यर्थी को पास कराने के लिए मोनू ही राजा को 50 हजार रुपये देता है। पिछले एक साल से राजा इस गिरोह के लिए काम कर रहा है।

इनकी हुई गिरफ्तारी

1. मोनू प्रजापति निवासी पट्टी चौधरान बावली रोड, बड़ौत (सरगना)
2. अनिल कुमार निवासी ख्याजपुर अशरफपुर, औरंगाबाद, बुलन्दशहर। (वास्तविक अभ्यर्थी)

3. राजा तोमर निवासी गांव गूगाखेडी, थाना रमाला, बागपत। (सॉल्वर)

यह बरामद
आरोपियों से एक एडमिट कार्ड की कॉपी, आधार कार्ड, पैनकार्ड, ओएमआर शीट, एक नकल कराने वाली डिवाइस बरामद की गई है।
 

epaper