ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरUPSC, UPPSC PCS व अन्य परीक्षाओं में पूछे जा सकते हैं अयोध्या राम मंदिर से जुड़े ये प्रश्न

UPSC, UPPSC PCS व अन्य परीक्षाओं में पूछे जा सकते हैं अयोध्या राम मंदिर से जुड़े ये प्रश्न

अयोध्या जी में श्रीराम मंदिर निर्माण के साथ ही राम लला की भव्य व दिव्य प्राण प्रतिष्ठा का उत्साह पूरे देश में देखने को मिल रहा है। मंदिर को किस्म-किस्म के फूलों और वंदवार से सजाया गया है। अब से कुछ ही

UPSC, UPPSC PCS व अन्य परीक्षाओं में पूछे जा सकते हैं अयोध्या राम मंदिर से जुड़े ये प्रश्न
Alakha Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 22 Jan 2024 07:53 AM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या में चल रहे श्रीराम मदिर में राम लला के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की पावन बेला सफल हुई। अब रामभक्ति का उल्लास चरम पर है। देश के हर गली मोहल्ले के मंदिरों, पूजा स्थलों में श्रद्धालुओं की भक्ति व खुशी देखने को मिल रही है। देश के नर नारी राममय हैं। हर व्यक्ति के मोबाइल पर रामधुन बज रही। 22 जनवरी 2024 को दोपहर करीब 12:30 बजे देश के प्रधानमंत्री समेत हजारों गणमान्य व अपने क्षेत्र में महारथ रखने वाली हस्तियों के बीच राम लला की प्राण प्रतिष्ठा संपन्न हुई। कार्यक्रम को देशभर में एलईडी स्क्रीन्स के माध्यम लोग लाइव दर्शन किया। इसी के साथ ही अयोध्या नगरी देश की सांस्कृतिक अस्मिता के साथ ही राष्ट्रीय धरोहर का प्रतीक बन गई। अब अयोध्या व राम मंदिर से जुड़े प्रश्न प्रतियोगी परीक्षाओं में पहले ज्यादा पूछे जाने की संभावना है। इसी को देखते हुए हम यहां श्रीराम मंदिर से जुड़े कुछ खास प्रश्नोत्तरी आपके लिए लेकर आए हैं जो आने वाली परीक्षाओं में आपकी मदर कर सकती है।

Questions Related to Ayodhay Ram Temple 2024:

प्रश्न : राम मंदिर के स्थान पर मस्जिद कब और कैसे आई थी?
उत्तर- 1528 में बाबर एक एक सैनिक मीरबाकी राम मंदिर को नष्ट कर उसके अवशेषों से मस्जिद का निर्माण कराया जिसका नाम बाबरी मस्जिद रखा गया।

प्रश्न : अयोध्या राम मंदिर का विवाद पहली बार अदालत में कब पहुंचा?
उत्तर - 1885 में पहली बार मामला फैजाबाद जिला अदालत में पहुंचा था।

प्रश्न : अयोध्या राम मंदिर विवाद को सुलझाने में अदालती लड़ाई कितने वर्षों तक चली?
उत्तर - 134 वर्ष। 102 साल फैजाबाद जिला अदालत में, 23 साल इलाहाबाद हाईकोर्ट में और 9 साल सु्प्रीम कोर्ट में मामला चला।

प्रश्न : अयोध्या राम मंदिर का फैसला सुनाने वाले जज कौन थे?
उत्तर- वर्तमान के सीजेआई न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई , पूर्व प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, पूर्व न्यायाधीश अशोक भूषण और  एस अब्दुल नजीर।

प्रश्न : अयोध्या राम मंदिर फैसले की तिथि?
उत्तर- 9 नवंबर 2019, दिन- शिनवार।

प्रश्न : राम मंदिर का पुनर्निर्माण (पुनर्स्थापना) कब से शुरू हुई?
उत्तर- 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिला पूजा कर श्रीराम मंदिर पुनर्स्थापना की शुरुआत की।

प्रश्न : अयोध्या राम मंदिर की डिजाइन किसने तैयार की ?
उत्तर- अहमदाबाद के चंद्रकांत सोमपुरा और उनके बेटे आशीष सोमपुरा ने।

प्रश्न : अयोध्या राम मंदिर का निर्माण किस शैली में हुआ?
उत्तर- नागर शैली में।

प्रश्न : श्रीराम मंदिर का निर्माण किस पत्थर से हुआ?
उत्तर- राजस्थान के बलुआ पत्थर से।

प्रश्न : मकराना पत्थर क्या है?
उत्तर- यह एक उच्चतम श्रेणी का संगमरमर है। राम मंदिर के गर्भगृह में मकराना मार्बल का इस्तेमाल किया गया है।

प्रश्न :  श्रीराम मंदिर का मुख्य शिखर कितने फलक का है?
उत्तर- अष्ठफलकीय।

प्रश्न :  राम मंदिर का परिमाप (लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई) क्या है?
उत्तर- लंबाई- 350 फिट, चौड़ाई- 250 फिट, ऊंचाई- 161 फिट।

प्रश्न : विष्णु पंचायतन के देवता कौन हैं?
उत्तर- 1- शिव, 2- मां दुर्गा, 3- हनुमान जी, 4- गणेश जी और 5- सूर्य देव।

प्रश्न :  भगवान राम लला की मूर्ति तराशने वाले शिल्पकार कौन हैं?
उत्तर- अरुण योगीराज

प्रश्न :  अयोध्या राम मंदिर में राम लला की मूर्ति के निर्माण में किस पत्थर का प्रयोग किया गया है?
उत्तर- शालिग्राम पत्थर (श्याम वर्ण) या काला पत्थर।

प्रश्न : राम लला की मूर्ति का पत्थर कहां से लाया गया?
उत्तर- नेपाल की गंडकी नदी से।

प्रश्न : राम मंदिर में कितने मंडप बनाए गए हैं?
उत्तर- 5, नृत्य मंडप, रंग पंडप, कीर्तन मंडप, प्रार्थना मंडप और सभा मंडप।

प्रश्न : राम लला का गर्भगृह किस मंडप के सामने है? 
उत्तर- सभा मंडप।

प्रश्न : श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के मुख्य यजमान कौन हैं?
उत्तर- डॉ अनिल मिश्रा व उनकी धर्मपत्नी ऊषा मिश्रा । डॉ मिश्रा श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य हैं।

प्रश्न : श्रीराम मंदिर निर्माण का जिम्मा किस कंपनी के हाथ में है?
उत्तर- एल एंड टी।

प्रश्न : राम मंदिर निर्माण में खर्च?
उत्तर - प्राण प्रतिष्ठा तक हुए निर्माण में करीब 1100 करोड़ रुपए। कुल अनुमानित राशि 1400 करोड़ रुपए।

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें