DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय वायुसेना को मिला अत्याधुनिक 'चिनूक', ये हैं खासियतें

 chinook helicopter

काफी भार उठाने में सक्षम और ऊंची उड़ान भरने वाला अत्याधुनिक चिनूक हेलिकॉप्टर आज औपचारिक रूप से भारतीय सेना को मिल गया है। इस हेलीकॉप्टर की खासियतों की बात करें तो इसमें भारी तोपों और सैनिकों को देश के उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ले जाने की क्षमता है। यही नहीं इनकी सबसे खास बात यहा है कि संकीर्ण घाटियों वाले इलाकों में जहां सड़क के रास्ते राहत सामग्री पहुंचाने , उपकरण और सैन्य हथियार ले जाने  का चिनूक हेलिकॉप्टर आसानी से कर सकता है।

भारतीय नौसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने इस मौके पर कहा कि चिनूक हेलीकॉप्टर सिर्फ दिन में नहीं, रात के वक्त भी सैन्य ऑपरेशन को अंजाम दे सकता है। दिनजान (असम) में पूर्वी भारत के लिए एक और यूनिट गठित की जाएगी। चिनूक का शामिल होना भी उसी तरह गेम चेंजर साबित होगा, जैसे लड़ाकू विमानों की फ्लीट में राफेल का शामिल होना होगा। 

चिनूक हेलीकॉप्टर इंडियन एयरफोर्स में शामिल, रात में भी उड़ान भरने में सक्षम

चिनूक पहला मोडर्न हैवी लिफ्ट चोपर है जो 9.6 टन भार उठा सकता है। इससे वायुसेना को और अधिक ताकत और बल मिलेगा।  इस भार में भारी मशीनें, आर्टलरी गन और हथियार को उच्च ऊंचाई तक ले जा सकता है। 

खासतौर पर ये पहाड़ी इलाकों में संकीर्ण घाटियों में ऑपरेशन के समय काफी फायदेमंद है। बोइंग इंडिया कंपनी के एक बयान की मानें तो  1960 से अब तक 1179 चिनूक हेलिकॉप्टर बनाए हैं।  

15 चिनूक हेलीकॉप्टर की डिलीवरी 2023 तक संभावित है। आपको बता दें कि CH-47F (I) चिनूक हेलीकॉप्टर लद्दाख, कश्मीर और नोर्थ इस्ट क्षेत्र में आईएएफ मिशन के लिए इस्तेमाल किए जा सकते हैं। बताया जा रहा है कि ये खराब मौसम में भी ये हेलिकॉप्टर उड़ान भरने में सक्षम है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The Indian Air Force will getChinook helicopters today these are special features