DA Image
हिंदी न्यूज़ › करियर › Teachers' Day 2020 Speech & Essay : टीचर्स डे पर इस तरह लिखें भाषण और निबंध, जानें स्पीच प्रस्तुत करने का तरीका
करियर

Teachers' Day 2020 Speech & Essay : टीचर्स डे पर इस तरह लिखें भाषण और निबंध, जानें स्पीच प्रस्तुत करने का तरीका

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,नई दिल्ली Published By: Pratima Jaiswal
Fri, 04 Sep 2020 10:53 PM
Teachers' Day 2020 Speech & Essay : टीचर्स डे पर इस तरह लिखें भाषण और निबंध, जानें स्पीच प्रस्तुत करने का तरीका

'हमें मानवता को उन नैतिक जड़ों तक वापस ले जाना चाहिए, जहां से अनुशासन और स्वतंत्रता दोनों का उदय हो।' दुनिया को ऐसे ही विचार देने वाले महान विचारक, शिक्षाविद और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर टीचर्स डे मनाया जाता है. भारत में पहली बार शिक्षक दिवस 1962 में मनाया गया था।
 

शिक्षक दिवस पर भाषण 
शिक्षक ही बच्चों के भविष्य का निर्माण करते हैं। हम बच्चे चाहे हीरे हो, हालांकि हमारी पहचान शिक्षक रूपी जौहरी ही करते हैं। साथ ही आप कहें कि सदा शिक्षकों का मान-सम्मान करना चाहिए और उनकी बातों पर अमल करना चाहिए। जिंदगी में यदि हम थोड़े भी सफल होते हैं, तो इसका श्रेय हमारे माता-पिता के बाद जिन्हें जाना चाहिए वो है हमारे शिक्षक। हम तो महज एक मिट्टी है, जबकि हमें किसी भी रूप में ढालने का काम कुमार रूपी शिक्षक करते हैं। अंत में अपने भाषण की समाप्ति के पहले आपको शिक्षकों को दिल से धन्यवाद देना है और फिर सभी शिक्षकों के चरणों में सादर नमन करना है। हो सके तो भाषण समाप्ति के बाद अपने शिक्षकों को कोई अच्छा उपहार प्रदान करें।


सर्वपल्ली राधा कृष्णन के विचारों के साथ करें समापन 
-केवल निर्मल मन वाला व्यक्ति ही जीवन के आध्यात्मिक अर्थ को समझ सकता है। स्वयं के साथ ईमानदारी आध्यात्मिक अखंडता की अनिवार्यता है। 
-शिक्षक वह नहीं जो छात्र के दिमाग में तथ्यों को जबरन ठूंसे, बल्कि वास्तविक शिक्षक तो वह है जो उसे आने वाले कल की चुनौतियों के लिए तैयार करें।
-ज्ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है।
-कोई भी आजादी तब तक सच्ची नहीं होती,जब तक उसे विचार की आजादी प्राप्त न हो। किसी भी धार्मिक विश्वास या राजनीतिक सिद्धांत को सत्य की खोज में बाधा नहीं देनी चाहिए।

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें