सुविधा : दूसरे संस्थान से भी पढ़ाई कर क्रेडिट अंक जुटा सकेंगे - suvidha: doosre sansthan se padhai kar credit ank juta sakenge DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुविधा : दूसरे संस्थान से भी पढ़ाई कर क्रेडिट अंक जुटा सकेंगे

education

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने नेशनल एकेडमिक क्रेडिट बैंक (नैक बैंक) की योजना को अंतिम रूप दे दिया है। नैक बैंक बन जाने के बाद एक संस्थान के छात्र किसी दूसरे मान्यता प्राप्त उच्च शिक्षा संस्थान से मनपसंद कोर्स कर सकेंगे और उसका क्रेडिट उनके मुख्य कोर्स में जुड़ जाएगा।

नैक बैंक अगले अकादमिक सत्र से काम करना शुरू कर देगा। यूजीसी के उपाध्यक्ष डॉ. भूषण पटवर्धन ने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि नई शिक्षा नीति के अनुरूप ही नैक बैंक की कल्पना की गई है। यह एक केंद्रीय डिपॉजिटरी होगा। जिसमें छात्रों द्वारा अर्जित किए गए क्रेडिट स्कोर को रखा जाएगा। नैक बैंक की सहायता से छात्र देश के किसी भी कोने से क्रेडिट देने वाले कोर्स, गतिविधि कर सकेंगे। इसके लिए छात्रों को नैक बैंक में खाते खुलवाने होंगे, जो ऐच्छिक होगा। डॉ. पटवर्धन ने बताया कि यदि कोई बीएससी करने वाली छात्रा मान्यता प्राप्त संस्थान से भरतनाट्यम सीखती है या फोटोग्राफी का कोर्स करती है तो इसके लिए निर्धारित क्रेडिट उसके नैक बैंक में स्थिति खाते में जमा हो जाएगा और आगे ये क्रेडिट उसके मुख्य कोर्स के क्रेडिट से जुड़ जाएगा।

अलग-अलग विषयों के क्रेडिट की अलग-अलग आयु सीमा होगी और उस क्रेडिट को उसकी आयुसीमा समाप्त होने से पहले इस्तेमाल करना होगा। मुख्य कोर्स से इतर विषयों के जरिए अधिकतम 20 फीसदी क्रेडिट ही इस्तेमाल किया जा सकेगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:suvidha: doosre sansthan se padhai kar credit ank juta sakenge