DA Image
2 दिसंबर, 2020|8:40|IST

अगली स्टोरी

जापान के इस शख्स ने दुनिया में पहली बार निंजा पाठ्यक्रम में ली डिग्री

image credit  afp

ज्यादातर लोग जहां पारंपरिक पाठ्यक्रमों की डिग्री लेकर बेहतर भविष्य बनाने का सपना देखते हैं,वहीं जापान के एक शख्स ने निंजा पाठ्यक्रम से डिग्री कर लड़ने और युद्ध के कौशल में महारत हासिल की है। सुनने में अजीब लग सकता है लेकिन, जापान के जिनीची मित्सुहाशी दुनिया के पहले इंसान हैं जिन्होंने जापान की माई यूनवर्सिटी से निंजा पाठ्यक्रम में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की है। इस पाठ्यक्रम में प्राथमिक मार्शल आर्ट्स की कला के साथ युद्ध की निंजा तकनीक और बिना किसी सहारे के पहाड़ों पर चढ़ना सीखाया जाता है। 

दो साल तक की पढ़ाई-
45 वर्षीय जिनीची ने दो साल तक इस पाठ्यक्रम का अध्ययन किया। इस पाठ्यक्रम में निंजा युद्ध तकनीक के इतिहास, परंपरा और लड़ने के कौशलों के बारे में बताया जाता है। निंजा सामंती जापान के रहस्मयी गुप्त एजेंट हुआ करते थे। निंजा स्टडी के प्रोफेसर यूजी यामाडा ने कहा कि जिनीची एक समर्पित छात्र हैं। उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी निंजा युद्ध कला को समर्पित कर दी है। जिनीची इगा प्रांत में रहते हैं और अपनी सब्जियां व चावल खुद उगाते हैं। वे जीवनयापन के लिए एक सराय चलाते हैं और वहां के बच्चों को मार्शल आर्ट्स और निंजा तकनीक की शिक्षा देते हैं। 

पीएचडी करने की चाहत-
जिनीची ने कहा कि वे निंजा स्टडीज में पीएचडी करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि इस कोर्स ने उन्हें वर्तमान और इतिहास के बारे में बहुत कुछ बताया है। उन्होंने कहा, अपने स्वयं के अस्तित्व और समृद्धि के लिए स्वतंत्र रूप से रहना आधुनिक जापान के लिए महत्वपूर्ण है। हम में से प्रत्येक के लिए दुनिया वैश्विक नहीं है, लेकिन स्थानीय है। वैश्विकतावाद का युग समाप्त हो गया है। 

कौन थे निंजा-
अपने रहस्यमयी प्रवृत्ति और उच्च युद्ध कला के लिए पहचाने जाने वाले निंजा जापान में 14वीं शताब्दी के सबसे खतरनाक योद्धा माने जाते थे। वे जासूसी,तोड़फोड़, हत्याओं और गुरिल्ला युद्ध के स्वामी माने जाते थे। जिनीची ने कहा निंजा योद्धा होने के अलावा स्वतंत्र रूप से कृषि का काम भी करते थे। उसके अनुसार निंजा इगा प्रांत में रहा करते थे। निंजा के जीवन की असली झलक पाने के लिए जिनीची ने टोक्यो छोड़कर 220 मील दूर इगा में रहने का फैसला किया। उन्होंने कहा, इगा के वातावरण ने ही निंजा की प्रकृति का निर्माण किया है। 

खास है पाठ्यक्रम-
2017 में माई यूनिवर्सिटी ने इंटरनेशनल निंजा रिसर्च सेंटर की इगा में स्थापना की थी। यह दुनिया का पहला निंजा अध्ययन केंद्र था। 2018 में यहां मास्टर्स डिग्री कोर्स की शुरुआत की गई। इस पाठ्यक्रम में छात्रों को निंजा योद्धाओं के इतिहास के बारे में पढ़ाया जाता है। इसके अलावा छात्रों को पारंपरिक युद्ध के कौशल, लड़ाई में टिकने के कौशल, प्राथमिक मार्शल आर्ट्स की कला सीखायी जाती है। वहीं, छात्रों को अपनी पहचान गुप्त रखने और पहाड़ों पर बिना किसी सहारे के गुप्त तरीके से चढ़ना सीखाया जाता है।  

प्रोफेसर यूजी यामाडा ने कहा, इस पाठ्यक्रम में दाखिला लेने के लिए छात्रों को जापान के इतिहास से संबंधित एक परीक्षा उत्तीर्ण करनी पड़ती है और ऐतिहासिक निंजा दस्तावेजों का रीडिंग टेस्ट देना पड़ता है। उनके अनुसार इस साल तीन छात्रों ने इस पाठ्यक्रम में शामिल होने के लिए आवेदन दिया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Surprise:Ninja Genichi Mitsuhashi became Japan First Ninja Graduate who Just Got His Degree in ninja studies offered by Mei University in Central Japan