SSC JHT SHT Hindi Pradhyapak Examination 2019-20 Exam Preparation Tips and Strategy - SSC JHT 2019: यूं करें हिन्दी ट्रांसलेटर भर्ती परीक्षा की तैयारी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

SSC JHT 2019: यूं करें हिन्दी ट्रांसलेटर भर्ती परीक्षा की तैयारी

ssc chsl 2018

SSC JHT Preparation Strategy: कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने जूनियर हिन्दी ट्रांसलेटर, सीनियर हिन्दी ट्रांसलेटर और हिन्दी प्राध्यापक की भर्ती निकाली है। आवेदन प्रक्रिया पिछले कई दिनों से जारी है। आवेदन की अंतिम तिथि 26 सितंबर, 2019 है। एसएससी विभिन्न विभागों के लिए जेएचटी (जूनियर हिन्दी ट्रांसलेटर) व एसएचटी (सीनियर हिन्दी ट्रांसलेटर) पदों पर भर्ती करेगा। उम्मीदवारों की आयु सीमा 30 वर्ष तय की गई है। आयु की गणना 01 जनवरी, 2020 से की जाएगी। फर्स्ट स्टेज सीबीटी का एग्जाम 26 नवंबर को होगा। आवेदन की फीस 100/- रुपए है। जिसे BHIM UPI, नेट बैंकिंग, मास्टरकार्ड, वीसा, माइस्ट्रो, रूपे जैसे क्रेडिट या डेबिट कार्ड के जरिए भरा जा सकता है। इसके अलावा SBI की ब्रांच में SBI चालान बनवाकर भी भरा जा सकता है। महिला अभ्यर्थियों, आरक्षित वर्गों, दिव्यांगों और एक्स-सर्विसमैन में से आरक्षण के पात्रों के लिए फीस में छूट का प्रावधान भी है।

SSC JHT: एसएससी जूनियर हिंदी ट्रांसलेटर पेपर-2 परीक्षा के नतीजे जारी

 

परीक्षा का पैटर्न क्या है और इसकी तैयारी कैसे करें- 

यह परीक्षा दो चरणों अर्थात् पेपर-I (computer based Objective Type) और पेपर-II (Conventional Type Essay and Translation) में होती है। इन दोनों परीक्षाओं के कुल अंक 400 होते हैं।  
प्रारंभिक परीक्षा: पेपर- I (200 अंक वस्तुनिष्ठ प्रश्न)

पेपर-I के इस परीक्षा का पहला चरण है। इसमें 100 नम्बर की सामान्य अंग्रेजी और 100 नम्बर की सामान्य हिन्दी आती है। यह परीक्षा वस्तुनिष्ठ (objective type) प्रकार की होती है। इसमें 0.25 की नेगेटिव मार्किंग भी होती है। 

पेपर-1 के Part 1 General English की तैयारी कैसे करें-
जैसा कि आपको बताया गया है कि यह पेपर वस्तुनिष्ठ प्रकार (Objective Type) का होता है। इसमें English Grammar की किसी अच्छी पुस्तक से common errors, Idiom Phrases, Cloze Test, synonyms, Antonyms, Tense, Voice, Narration, Phrasal Verbs, spelling Test, Articles, Conjunction, One word Substitution आदि विषयों को अच्छी तरह से पढ़ना फायदेमंद हो सकता है। इन विषयों की आधारभूत जानकारी होने के पश्चात् इनका वस्तुनिष्ठ प्रकार से अधिक से अधिक अभ्यास करना चाहिए। अंग्रेजी का अख़बार पढ़ने से आपको विषय का अच्छी तरह से ज्ञान हो सकता है।


पेपर-1 के Part 2 सामान्य हिन्दी की तैयारी कैसे करें-
पेपर 1 का यह भाग भी वस्तुनिष्ठ प्रकार का होता है। इसमें हिन्दी व्याकरण की किसी पुस्तक से संधि, समास, विलोम शब्द, पर्यायवाची, अनेक शब्दों के लिए एक शब्द, मुहावरे, क्रिया, अवयव, स्वर-व्यंजन, सर्वनाम, उपसर्ग, प्रत्यय, काल, वाच्य, लिंग भेद, वाक्य शुद्धि, कारक, लोकोक्ति, अलंकार, तत्सम-तद्भव एवं विदेशी शब्द आदि विषय की अच्छे से जानकारी होनी चाहिए। इसके पश्चात इन विषयों के आधार पर वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्नों का अभ्यास करना फायदेमंद होगा।
पेपर-1 में अधिक से अधिक नम्बर आने से क्या लाभ होगा?
•    SSC JHT, SHT, Hindi Pradhyapak के पेपर-1 में अच्छे मार्क्स आने से आपकी सफलता की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाएगी। क्योंकि इस पेपर में हर वर्ष कट-ऑफ बढ़ती जा रही है। इसमें कंपीटीशन भी बढ़ता जा रहा है।
•    जिन विद्यार्थियों को Descriptive  Exam  में कठिनाई होती है, उनके लिए यह सुनहरा अवसर है कि वे 200 में से अधिक से अधिक नम्बर लाकर अपनी सीट को सुरक्षित कर लें।
•    इस पेपर में अधिक नम्बर प्राप्त करना Descriptive paper की तुलना में थोड़ा आसान होता है। 
पहला पेपर हो जाने के बाद, आपका 1 से 2 महीनों में रिजल्ट घोषित किया जाएगा। उसमें एक Cut Off निर्धारित की जाएगी और उस cut off के अंदर आने वाले विद्यार्थियों को मुख्य परीक्षा अर्थात् इस परीक्षा के पेपर – 2 में प्रतिस्पर्धा करने का अवसर मिलेगा।
मुख्य परीक्षा (Paper -2 Conventional Type Essay and Translation) का पैटर्न क्या है तथा इसकी तैयारी कैसे करें?

Paper 2 Descriptive Type (Translation And Essay) 200 अंक
इस पेपर में एक English Passage  और एक Hindi Passage दिया जाएगा। इसमें English Passage का हिन्दी अनुवाद करना होगा, इसी प्रकार Hindi Passage का अंग्रेजी अनुवाद करना होगा। इसके अलावा, एक अंग्रेजी निबंध तथा एक हिन्दी निबंध लिखने को दिया जाएगा।
अक्सर देखा गया है इस चरण तक लगभग 50 प्रतिशत विद्यार्थी पहुँच ही नहीं पाते तथा जो विद्यार्थी इस चरण तक पहुँच जाते हैं उनमें से अधिकांश विद्यार्थी इस मुख्य परीक्षा में पिछड़ जाते है। इसके मुख्य कारण हैं- 


•    अंग्रेजी भाषा का कम ज्ञान होना।
•    हिन्दी भाषा का कम ज्ञान होना।
•    अनुवाद का कम ज्ञान होना।
•    अंग्रेजी से हिन्दी तथा हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद का अभ्यास न करना होना।
•    निबंध लिखने का अभ्यास न करना।


ऊपर दिए गए कारणों से परीक्षा में असफलता से बचने के लिए आपको नियमित रूप से अनुवाद तथा निबंध का अभ्यास करना होगा। अंग्रेजी तथा हिन्दी के शब्दों का आपके मस्तिष्क में एक अच्छा भंडार होना चाहिए। क्योंकि इस परीक्षा के दौरान किसी भी प्रकार की सहायक सामग्री या उपकरण का इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं होती है।


अनुवाद करते समय ध्यान रखने योग्य बातें- 
•    शब्दानुवाद से बचें, दिए गए अंश का भाव समझकर उसका भावानुवाद करें।
•    लंबे वाक्यों को छोटे-छोटे तथा सरल वाक्यों में तोड़कर अनुवाद कर दें।
•    अनुवाद हेतु दी गई मूल सामग्री में किसी अन्य अंश को न जोड़े, और न ही किसी अंश को छोड़ें।
•    अनुवाद करते समय सटीक एवं समतुल्य शब्दों का उपयोग करें।
•    परीक्षा से पहले निरंतर अनुवाद का अभ्यास करते रहें।
     निबंध लिखते समय ध्यान रखने योग्य बातें- 
•    अच्छा निबंध लिखने के लिए नियमित रूप से समाचार पत्र और पत्रिकाएं तथा अच्छी पुस्तकें पढ़िए।
•    दोनों भाषाओं की व्याकरण में सुधार करें क्योंकि निबंध की परीक्षा लेने का मंतव्य विद्यार्थी की भाषा तथा लेखन शैली की जाँच करना होता है।
•    साधारण शब्दों का उपयोग करें।
•    यथासंभव सुंदर एवं साफ Handwriting लिखने पर ध्यान दें।
•    सीमित समय तथा संतुलित मात्रा में निबंध को लिखें।
•    निरंतर अभ्यास करते रहें।

मुख्य परीक्षा होने के बाद दोनों पेपरों के अंकों को मिलाकर एक बार फिर Cut Off निकाली जाएगी तथा cut off के भीतर आने वाले विद्यार्थियों को documents verification के लिए बुलाया जाएगा। इस documents verification को सफलतापूर्वक पार कर लेने वाले उम्मीदवारों की सूची तैयार करके इस वर्ष की वैकेन्सी के आधार अंतिम मेरिट सूची बनाकर उम्मीदवारों को चयनित किया जाएगा। 


(लेखक राज्यसभा सचिवालय, भारतीय संसद में अनुवादक के पद पर कार्यरत हैं। इससे पहले इन्होंने दो बार SSC JHT की परीक्षा पास करके अलग-अलग मंत्रालयों में कनिष्ठ हिन्दी अनुवादक के रूप में अपनी सेवाएं दी हैं।)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:SSC JHT SHT Hindi Pradhyapak Examination 2019-20 Exam Preparation Tips and Strategy