ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरसाउथ एशियन यूनिवर्सिटी में 4 नए कोर्स के साथ दाखिले के लिए आवेदन शुरू, 8 देशों के सहयोग से चलता है विश्वविद्यालय

साउथ एशियन यूनिवर्सिटी में 4 नए कोर्स के साथ दाखिले के लिए आवेदन शुरू, 8 देशों के सहयोग से चलता है विश्वविद्यालय

South Asian University admission : साउथ एशियन यूनिवर्सिटी ने नए अकादमिक सत्र 2024-25 के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू कर दी है। विश्वविद्यालय इस वर्ष चार नए पाठ्यक्रम शुरू करने जा रहा है।

साउथ एशियन यूनिवर्सिटी में 4 नए कोर्स के साथ दाखिले के लिए आवेदन शुरू, 8 देशों के सहयोग से चलता है विश्वविद्यालय
Pankaj Vijayप्रमुख संवाददाता,नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 12:31 PM
ऐप पर पढ़ें

साउथ एशियन यूनिवर्सिटी ने नए अकादमिक सत्र 2024-25 के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू कर दी है। विश्वविद्यालय के अध्यक्ष प्रो. केके अग्रवाल ने गुरुवार को फॉरेन कॉरेस्पांडेंट्स क्लब में दाखिला पुस्तिका जारी कर इसकी घोषणा की। विश्वविद्यालय इस वर्ष चार नए पाठ्यक्रम शुरू करने जा रहा है। दाखिला संबंधी जानकारी के लिए अभ्यर्थी विश्वविद्यालय की वेबसाइट sau.int पर विजिट कर सकते हैं। आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च है। प्रो. अग्रवाल ने बताया कि इस सत्र से चार नए प्रोग्राम डिपार्टमेंट ऑफ कम्प्यूटर साइंस में बीटेक, बीटेक एमटेक डुअल डिग्री, एमटेक और इंट्रीगेटेड एमएससी एमटेक शुरू होने जा रहे हैं। वर्तमान में स्नातक, परास्नातक और पीएचडी स्तर पर इकोनॉमिक्स, बायोटेक्नॉलजी, कम्प्यूटर साइंस, इंटरनेशनल रिलेशन, लीगल स्टडीज, मैथमैटिक्स और सोशल साइंस के कोर्स संचालित किए जा रहे हैं। 

उन्होंने बताया कि इस यूनिवर्सिटी में दाखिला प्रवेश परीक्षा के आधार पर दिया जाता है। ये परीक्षाएं 20 और 21 अप्रैल को साउथ एशियन देशों में निर्धारित परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जाएंगी। कक्षाएं 29 जुलाई से शुरू होंगी। उन्होंने बताया कि वीजा के कारण पाकिस्तान और अफगानिस्तान के छात्रों को आने में दिक्कत हो रही है। हमारी कोशिश है कि कक्षाएं ऑनलाइन भी संचालित कर सकें। उन्होंने बताया कि कुछ पीएचडी सीटों पर सीधे दाखिला का प्रावधान है। 

आठ देशों के सहयोग से चलता है विश्वविद्यालय 
साउथ एशियन यूनिवर्सिटी आठ सार्क देशों के सहयोग से चलती है, जिसमें सबसे अधिक धन भारत देता है। इसमें 50 फीसदी सीटें भारत के छात्रों के लिए उपलब्ध रहती हैं। अफगानिस्तान, भूटान, नेपाल और श्रीलंका के लिए चार-चार फीसदी सीटें रिक्त रहती हैं। पाकिस्तान और बांग्लादेश के 10 फीसदी छात्र हैं। सार्क देशों से बाहर के छात्रों के लिए 10 फीसदी सीटें आरक्षित हैं। 

वर्तमान में करीब 600 छात्र इन देशों के यहां अध्यनरत हैं। इसे बढ़ाकर 5,000 करने की योजना है। अभी सिफ पांच स्कूल हैं इसके बढ़ाकर 13 स्कूल करने की योजना है।

Virtual Counsellor