ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरRSOS : राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल 10वीं का रिजल्ट 69 और 12वीं का 64 फीसदी रहा, ये हैं टॉपर

RSOS : राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल 10वीं का रिजल्ट 69 और 12वीं का 64 फीसदी रहा, ये हैं टॉपर

आरएसओएस में इस वर्ष कक्षा 10 वीं का कुल परीक्षा परिणाम 69.79 प्रतिशत रहा। इसमें छात्रों का परिणाम 67.37 प्रतिशत एवं छात्राओं का परिणाम 71.42 प्रतिशत रहा। नतीजों की घोषणा शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने की

RSOS : राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल 10वीं का रिजल्ट 69 और 12वीं का 64 फीसदी रहा, ये हैं टॉपर
bd kalla
Pankaj Vijayलाइव हिन्दुस्तान,जयपुरFri, 25 Aug 2023 08:48 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के शिक्षा मंत्री डॉ. बी.डी कल्ला ने गुरुवार को शिक्षा संकुल में राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल की 10वीं एवं 12वीं के परीक्षा परिणाम की घोषणा की। उन्होंने कम्प्यूटर पर क्लिक कर राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल की गत मार्च-मई 2023 में आयोजित परीक्षाओं का परिणाम जारी किया। कक्षा 10 एवं 12 का विस्तृत परीक्षा परिणाम वेब लिंक https://rsosadmission.rajasthan.gov.in/rsos/ पर देखा जा सकता है। इस वर्ष कक्षा 10 वीं का कुल परीक्षा परिणाम 69.79 प्रतिशत रहा। इसमें छात्रों का परिणाम 67.37 प्रतिशत एवं छात्राओं का परिणाम 71.42 प्रतिशत रहा। मार्च-मई 2022 के मुख्य परीक्षा परिणाम 49.97% रहा था जिसमें 19.82% की वृद्धि हुई है। इसी प्रकार कक्षा 12वीं का कुल परीक्षा परिणाम 64.07 प्रतिशत रहा है। इसमें पुरुषों का परिणाम 64.91 प्रतिशत एवं महिला अभ्यर्थियों का परिणाम 63.42 प्रतिशत रहा। वहीं मार्च-मई 2022 के मुख्य परीक्षा परिणाम 57.61% था जिसमें 6.46% की वृद्धि हुई है।

शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला ने इस अवसर पर सभी उत्तीर्ण परीक्षार्थियों को बधाई दी और असफल विद्यार्थियों को निराश नहीं होने और फिर से अथक परिश्रम करने का संदेश दिया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि, परीक्षा परिणामों में बच्चों ने अच्छा प्रदर्शन किया है 12वीं के परिणाम में बालिकाएं अव्वल रहीं तो 10वीं के परिणाम में लड़के अव्वल रहे। ये एक बेहद हेल्दी कॉम्पीटिशन है।

यहां देखें 12वीं के टॉपरों की लिस्ट 
महिलाओं में प्रथम स्थान - संगीत कुमावत, काकरौली - 12वीं बायोलॉजी 91.8 फीसदी मार्क्स, 500 में से 459 अंक, उम्र - 31 वर्ष।  -इन्हें मीरा पुरस्कार मिलेगा।
महिलाओं में दूसरा स्थान - निरमा, जोधपुर - 88.0 फीसदी मार्क्स, 500 में से 440 अंक, उम्र - 24 वर्ष।  -इन्हें मीरा पुरस्कार मिलेगा।

पुरुषों में प्रथम स्थान - राहुल चौधरी, बीकानेर, उम्र 19 साल, 12वीं मैथ्स 87.8 फीसदी , 500 में से 439 अंक। एकलव्य पुस्कार।
पुरुषों में दूसरा स्थान - कन्हैया लाल, किशनगढ़ अजमेर, उम्र 24 साल, 12वीं आर्ट्स 84.8  फीसदी , 500 में से 424 अंक। एकलव्य पुस्कार।

यहां देखें 10वीं के टॉपरों की लिस्ट 
महिलाओं में टॉपर - मीरा पुरस्कार 
पहला स्थान - जहाबिया रतलामवाला , प्रतापढ़, उम्र 18 वर्ष। 500 में से 428 अंक। 85.6 फीसदी मार्क्स। 
दूसरा स्थान - सुमारी शारदा - फलौदी, उम्र 30 वर्ष। 500 में से 427 अंक। 85.4 फीसदी मार्क्स। 

पुरुषों में टॉपर- एकलव्य पुरस्कार
पहला स्थान - पीरा राम - सुमेरपुर पाली, उम्र 26 वर्ष। 86.4 फीसदी, 500 में से 432 अंक
दूसरा स्थान - सुमित सोनी - बीकानेर, 18 वर्ष उम्र, 500 में से 418 अंक, 83.6 फीसदी मार्क्स
 
पीरियोडिक टेस्ट वाले सिलेबस बनाएं
शिक्षा मंत्री ने बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ टाइम मैनेजमेंट की आवश्यकता को भी समझाया। उन्होंने बच्चों को भविष्य में आगे बढ़ने और पढ़ाई की महत्ता भी समझाई। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों की संगत किताबों के साथ होनी चाहिए, ना कि मोबाइल और वीडियो गेम्स के साथ। उन्होंने शिक्षकों और अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि, बच्चों के लिए ऐसे पाठ्यक्रम बनाए जिसमें पीरियोडिक टेस्ट शामिल किए जा सकें। ऐसे कोर्स भी सिलेबस में शामिल होने चाहिए जिनसे बच्चों के फंडामेंटल क्लियर हो। हमने बच्चों को स्ट्रेस से बचाने के लिए स्कूलों में हर शनिवार नो बैग डे रखा है। राजस्थान की सुदृढ़ शिक्षा व्यवस्था के चलते ही आज हम देश के टॉप-3 स्टेट में शामिल हैं। आने वाला वक्त राजस्थान का है। हमे शिक्षा विभाग की टीम हमें पहले नंबर पर लेकर आएगी।

परीक्षा परिणाम की घोषणा पर स्कूल शिक्षा विभाग के शासन सचिव नवीन जैन ने सभी उत्तीर्ण विद्यार्थियों को उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि, ओपन स्कूल को हम और बेहतर करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हें पूरी तरह ओपन स्कूल किया जाएगा ताकि बच्चों को सिर्फ एग्जाम्स देने ही सेंटर पर आना पड़े।

Virtual Counsellor