DA Image
24 फरवरी, 2020|7:33|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कबाड़ के भाव में बिकीं संविधान छापने वाली मशीनें

printing press

Republic Day 2020 Special: भारत आज 26 जनवरी 2020 को अपना 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। भारत के गणतंत्र के रूप में स्थापित होने की वर्षगांठ पर आयोजित नब्बे मिनट के समारोह में ब्राजील के राष्ट्रपति जायेर बोलसोनारो मुख्य अतिथि होंगे। इस मौके पर राजपथ पर रविवार को आयोजित होने वाले समारोह में देश की बढ़ती हुई सैन्य शक्ति, बहुमूल्य सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का भव्य प्रदर्शन किया जाएगा। इन सबके बीच क्या आप जानते हैं इस दिन का को खास बनाने वाली दो मशीनें जिन्होंने हस्तलिखित संविधान की शुरुआती कॉपियां छापकर भारतीय संविधान के बारे में लोगों को जागरूक किया उन्हें पिछले साल कबाड़ में बेच दिया गया है।  

दरअसल, जिन दो मशीनों ने हस्तलिखित संविधान की शुरुआती कॉपियां छापी थीं, उसे भारतीय सर्वेक्षण संस्थान ने पिछले साल डेढ़ लाख रुपए में कबाड़ में बेच दिया था। ब्रिटिश कंपनी आरडब्ल्यू क्रैबट्री एंड संस द्वारा निर्मित इन मशीनों ने 1000 कॉपियां छापी थीं।

सर्वेयर जनरल ऑफ इंडिया लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त ) गिरीश कुमार ने बताया, 'दोनों मशीनों के रखरखाव का खर्चा बहुत ज्यादा था और इसकी तकनीक भी पुरानी हो चुकी थी। इसलिए इसको टुकड़ों में बांटकर कबाड़ में बेच दिया गया।

हमें गर्व है कि हमारे संस्थान ने संविधान की शुरुआती 1000 कॉपियां छापी थीं और हम इन मशीनों के ऐतिहासिक महत्व को भी समझते हैं। लेकिन ये मशीनें बहुत बड़ी और ज्यादा जगह घेर रही थीं। इसके अलावा पुरानी पड़ चुकी ये पारंपरिक मशीनें काम करने में भी ज्यादा वक्त लेती थीं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Republic Day 2020 Special:Machines that printed first copies of the Constitution sold as scrap