REET 2021-2022: कहीं रद्द न हो जाए राजस्थान रीट परीक्षा, मई में होने वाले रीट एग्जाम पर भी संकट

REET : रीट पेपर लीक पर एसओजी की मुहर लगने के बाद मामले की सीबीआई जांच की मांग तेज होती जा रही है। एसओजी ने खुलासा किया है कि रीट का पेपर जयपुर शिक्षा संकुल के स्ट्रांग रूम से ही लीक हुआ था। बहुत से...

offline
Pankaj Vijay लाइव हिन्दुस्तान टीम , नई दिल्ली
Last Modified: Fri, 28 Jan 2022 1:29 PM

REET : रीट पेपर लीक पर एसओजी की मुहर लगने के बाद मामले की सीबीआई जांच की मांग तेज होती जा रही है। एसओजी ने खुलासा किया है कि रीट का पेपर जयपुर शिक्षा संकुल के स्ट्रांग रूम से ही लीक हुआ था। बहुत से अभ्यर्थियों ने मामले की जांच सीबीआई से कराने और परीक्षा रद्द करने के लिए सोशल मीडिया पर आंदोलन छेड़ दिया है। लेकिन सवाल यह है कि अगर रीट परीक्षा रद्द हुई तो मेहनत से एग्जाम पास करने वाले लाखों अभ्यर्थियों के भविष्य का क्या होगा। वैसे इससे पहले जेईएन और लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा के पेपर भी लीक हुए थे। जेईएन-2018 और लाइब्रेरियन भर्ती परीक्षा-2018 में एसओजी ने पेपर लीक माना था। सरकार ने दोनों परीक्षाएं रद्द की थीं। इसके बाद दोबारा आयोजन हुआ था।

मई में प्रस्तावित रीट 2022 परीक्षा पर भी संकट
अगर रीट 2021 की परीक्षा रद्द होती है या फिर उस पर सीबीआई जांच होती है तो मई में प्रस्तावित रीट परीक्षा का आयोजित होना मुश्किल है। अगर रीट-2021 रद्द हुई तो मई वाली रीट को स्थगित करना पड़ सकता है। ऐसा भी हो सकता है कि दोनों रीट एक साथ करा दी जाएं। एक साथ 52000 शिक्षकों की भर्ती हो। 

खंगाले गए राजस्थान बोर्ड अध्यक्ष के रूम के कागज 
मामले की जांच कर रही एसओजी की एक टीम गुरुवार को अजमेर स्थित रीट मुख्यालय पहुंची। अजमेर राजस्थान बोर्ड रीट परीक्षा का मुख्य आयोजक है और अजमेर में ही रीट का मुख्यालय है। एसओजी ने रीट समन्वयक एवं बोर्ड अध्यक्ष डॉ. डी पी जारोली के रूम में पहुंचकर दस्तावेज खंगाले। 

पेपर लीक मामले में एसओजी जांच में सब सामने आ जायेगा: जारोली
राजस्थान बोर्ड के अध्यक्ष एवं रीट परीक्षा के मुख्य समन्वयक डॉ. डीपी जारोली ने कहा है कि पेपर लीक मामले में एसओजी द्वारा जांच की जा रही है और इसमें सच सामने आकर दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। जारोली ने कहा कि ऐसे किसी भी मामले में जानकारी जुटाई जाती है। रीट मामले में भी जब पहला आरोपी पकड़ा गया था तब भी जानकारी चाही गई थी और हमने उपलब्ध कराई थी और आज भी जब एसओजी दल यहां आया और जो जानकारी उन्होंने चाही, वह उन्हें दी गई। डॉ. जारोली ने कहा कि हमारा काम परीक्षा पत्र को सुरक्षित पहुंचाना है। बाद में संबंधित प्रभारी की जम्मिेदारी है। हमारे बोर्ड के स्तर पर कहीं भी कोई कोताही नहीं बरती गई है।

बीजेपी गहलोत सरकार पर हमलावर, 
राज्यसभा सदस्य किरोड़ी लाल मीणा ने राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 रीट के पेपर लीक मामले में राज्य की कांग्रेस सरकार के एक कैबिनेट मंत्री और मुख्यमंत्री कार्यालय के एक वरिष्ठ नौकरशाह के शामिल होने का आरोप लगाते हुए मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से करवाने की मांग की है। मीणा ने बिना किसी का नाम लिये कहा कि वह पहले ही कह चुके हैं कि पेपर शिक्षा संकुल से ही लीक हुआ था, जिसे पुलिस की विशेष शाखा (एसओजी) ने स्वीकार किया था। उन्होंने कहा कि पेपर की छपाई का टेंडर कोलकाता के एक प्रकाशक को दिया गया जो कैबिनेट मंत्री के परिचित है।

वहीं भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने मामले में पूर्व शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि डोटासरा ने राजस्थान लोक सेवा आयोग को रिश्तेदार लोक सेवा आयोग में बदल दिया। पूनियां ने पारदर्शी जांच के लिये मामले को सीबीआई को सौंपने की भी मांग की।

पेपर लीक मामले में एसओजी ने अब तक 35 लोगों को गिरफ्तार किया है। राजस्थान सरकार की ओर से 26 सितंबर को आयोजित की गई राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 के दौरान संदिग्ध गतिविधियों और अनियमितताओं में शामिल राजस्थान प्रशासनिक सेवा के एक अधिकारी और राजस्थान पुलिस सेवा के दो अधिकारियों, शिक्षा विभाग के 13 कर्मियों और तीन अन्य पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया था।

ऐप पर पढ़ें

Reet 2022 REET Reet Exam 2022 Reet 2021