Monday, January 17, 2022
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरREET 2021 : राजस्थान रीट के पद बढ़ाकर 50000 करने की मांग, ये हैं बेरोजगार युवाओं के तर्क

REET 2021 : राजस्थान रीट के पद बढ़ाकर 50000 करने की मांग, ये हैं बेरोजगार युवाओं के तर्क

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPankaj Vijay
Thu, 18 Nov 2021 12:05 PM
REET 2021 : राजस्थान रीट के पद बढ़ाकर 50000 करने की मांग, ये हैं बेरोजगार युवाओं के तर्क

इस खबर को सुनें

REET 2021 : राजस्थान में पिछले कुछ दिनों से रीट अभ्यर्थियों ने तृतीय श्रेणी शिक्षकों के 31 हजार पदों को बढ़ाकर 50 हजार करने की मांग को लेकर सोशल मीडिया पर जबरदस्त आंदोलन छेड़ रखा है। ट्विटर पर लगातार हैश टैग #रीट_के_पद_बढ़ाकर_50000_करो और #रीट_में_पद_50000_करो के साथ सीएम अशोक गहलोत और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को टैग करते हुए ट्वीट किए जा रहे हैं। बेरोजगार युवाओं का तर्क है कि राज्य सरकार ने दिसंबर 2019 में रीट से 31000 शिक्षक भर्ती का ऐलान किया था लेकिन अभी तक भर्ती की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है। कोरोना के चलते रीट समय पर नहीं हो सकी और 6 बार परीक्षा तिथि आगे खिसकाई गई। ऐसे में सोशल मीडिया पर अभियान चलाकर बेरोजगार युवा मांग कर रहे हैं कि दो साल में खाली पदों की संख्या में बढ़ोतरी हो चुकी है, इसलिए सरकार भर्ती में पद बढ़ाकर बेरोजगारों को राहत दे।

आंदोलन कर रहे कुछ युवाओं ने कहा कि वर्ष 2016 और 2018 में हुई भर्तियों में बैकलॉग के बड़ी संख्या में पद खाली रह गए थे। उनको भी शिक्षक भर्ती में जोड़ा जाना चाहिए। एक अभ्यर्थी ने कहा कि दो साल में बीएड और बीएसटीसी के ढाई लाख नए अभ्यर्थी शिक्षक भर्ती की दौड़ में शामिल हो गए। 

राजस्थान बोर्ड ने 2 नवंबर को परीक्षा के 36 दिन के भीतर ही रिजल्ट जारी कर दिया गया।  रीट में 11,04,216 को पात्र घोषित किया गया है। लेवल-1 के लिए 3,03,604 व लेवल-2 के लिए 7,73,612 को शिक्षक पात्रता मिली। दोनों लेवल में 25.35 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। अब तृतीण श्रेणी शिक्षकों के 31 हजार पदों पर भर्ती का इंतजार है।

REET के बाद पद पर चयन के लिए हो सकती है एक और परीक्षा
राजस्थान में शिक्षक भर्ती के लिए रीट पात्रता परीक्षा के बाद एक बाद फाइनल चयन के लिए एक और परीक्षा शुरू हो सकती है। गहलोत सरकार इस पर विचार कर रही है। मुख्यमंत्री निवास पर शुक्रवार को आयोजित शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में इस पर विचार किया गया। बैठक में इस पर विचार हुआ कि अध्यापक भर्ती प्रक्रिया को बेहतर बनाने के लिए पात्रता परीक्षा के बाद चयन के लिए अलग से परीक्षा हो। हालांकि वर्तमान में जारी 31000 शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया में यह नियम लागू मुश्किल ही लागू हो क्योंकि इसका नोटिफिकेशन पहले जारी हो चुका है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें