ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरप्रोफेशनल कॉलेजों के शिक्षकों की नौकरी पर खतरा

प्रोफेशनल कॉलेजों के शिक्षकों की नौकरी पर खतरा

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद  द्वारा शिक्षक- छात्र अनुपात में किए गए बदलाव से प्रोफेशनल कॉलेजों के शिक्षकों की नौकरी पर खतरा मंडरा रहा है। एआईसीटीई द्वारा प्रस्तावित अनुपात को लागू किए जाने...

प्रोफेशनल कॉलेजों के शिक्षकों की नौकरी पर खतरा
Kasturiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 06 Mar 2018 04:05 PM
ऐप पर पढ़ें

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद  द्वारा शिक्षक- छात्र अनुपात में किए गए बदलाव से प्रोफेशनल कॉलेजों के शिक्षकों की नौकरी पर खतरा मंडरा रहा है। एआईसीटीई द्वारा प्रस्तावित अनुपात को लागू किए जाने से करीब 1.78 लाख निजी इंजीनियरिंग, एमबीए, होटल मैनेजमेंट और अन्य प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों के शिक्षकों की नौकरी जा सकती है। इन कॉलेजों के शिक्षकों ने एआईसीटीई द्वारा प्रस्तावित शिक्षक-छात्र अनुपात के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। इस याचिका पर 9 मार्च को सुनवाई होगी।
क्या है शिक्षक-छात्र अनुपात
एआईसीटीई के निर्देशों के अनुसार निजी इंजीनियरिंग, एमबीए, एमसीए, होटल मैनेजमेंट और अन्य प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों में शिक्षक-छात्र अनुपात 1:20 होना चाहिए। वहीं, डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए शिक्षक-छात्र अनुपात को घटाकर 1:25 कर दिया गया है। पहले प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों में शिक्षक-छात्र अनुपात 1:15 था और डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में शिक्षक-छात्र अनुपात 1:20  था। 
पीईआईइए ने दाखिल की याचिका
तमिलनाडु और तेलंगना के प्राइवेट एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस इम्पलॉयी एसोसिएशन (पीईआईइए) ने सुप्रीम कोर्ट में एआईसीटीई के इस फैसले के विरोध में याचिका दाखिल की है। एसोसिएशन के अनुसार एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त पाठ्यक्रमों के लगभग 1.78 लाख शिक्षक बेरोजगार हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि नया शिक्षक-छात्र अनुपात प्रोफेशनल एजुकेशनल सिस्टम को कमजोर करेगा और इससे बेहतरीन दिमागों का ब्रेन ड्रेन बढ़ेगा। बी.ई और बी.टेक जैसे पाठ्यक्रमों में शिक्षकों की कमी होने से इन पाठ्यक्रमों में छात्रों की रुचि कम होगी।  
ट्रस्टों को फायदा पहुंचाने की कोशिश  
याचिकाकर्ता ने याचिका में कहा है कि ज्यादातर निजी संस्थान शैक्षणिक ट्रस्ट द्वारा संचालित की जाती है। मौजूदा वक्त में एआईसीटीई के नए निर्देशों के बाद संस्थानों को संचालित करने वाले ट्रस्ट फीस में तो बढ़ोतरी कर रहे हैं लेकिन शिक्षकों के वेतन में कटौती कर रहे हैं। एआईसीटीई शिक्षक-छात्र अनुपात को घटाकर इन ट्रस्टों को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रहा है। ऐसे संस्थान मान्यता प्राप्त करने के लिए फर्जी फैकल्टी रखने का भी तरीका अपना रहे हैं।