DA Image
12 जुलाई, 2020|6:21|IST

अगली स्टोरी

तैयारी:डीयू में आवेदन के साथ दाखिला प्रक्रिया भी हो सकती है ऑनलाइन

online class

दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला समिति ने गुरुवार को बैठक कर स्नातक और परास्नातक के दाखिला संबंधी नियमों के अलावा इसके प्रारूपों पर चर्चा की। दाखिला समिति की सिफारिशों पर स्थाई समिति निर्णय लेगी।

दाखिला शाखा की डीन प्रो. शोभा बगई ने बताया कि दाखिले को लेकर समिति गंभीर है। ऑनलाइन हुई बैठक में सबने अपने सुझाव और दाखिले से जुड़े विषयों पर अपनी राय दी। अब दाखिला से जुड़े जो भी निर्देश हैं, उन पर स्थाई समिति निर्णय लेगी। उसके बाद बुलेटिन जारी होगी।

ज्ञात हो कि इस वर्ष डीयू की दाखिला शाखा ने ऑनलाइन आवेदन के साथ-साथ ऑनलाइन दाखिले का भी ्रसुझाव दिया है, जिसकी संभावनाओं को तलाशा जा रहा है। डीयू के सभी कॉलेजों ने एडिशनल एडमिशन को लेकर सुविधा की जानकारी विश्वविद्यालय को भेज दी है। डीयू ने सभी कॉलेजों से 30 अप्रैल तक दाखिला प्रक्रिया में शामिल होने वाले शिक्षकों, वालेंटियर सहित अन्य लोगों की भी जानकारियां मांगी है। बता दें कि इस बार लॉकडाउन की वजह से दाखिला प्रक्रिया भी बाधित हुई है।इसी कारण से डीयू ऑनलाइन दाखिले के संबंध में तैयारी कर रहा है।

कोरोना से उपजी परिस्थितियां असामान्य और मुश्किल भरी हैं। ऐसे में कोई भी निर्णय ऐसा नहीं लिया जाए, जिससे छात्रों को समस्या हो।हमने जो सुझाव विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की एक्सपर्ट कमेटी को दिए हैं, वह छात्रों से विस्तृत राय जानने के बाद दिए हैं। सिद्धार्थ यादव, प्रदेश मंत्री, एबीवीपी

एबीवीपी ने छात्रों से ऑनलाइन परीक्षा और आंतरिक मूल्यांकन परीक्षा पर गूगल फॉर्म के जरिए सुझाव लिए हैं। जेएनयू, आंबेडकर विश्वविद्यालय, डीयू, दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय आदि के 3000 छात्रों ने अपनी राय दी है। इन सुझावों को एबीवीपी ने गुरुवार को यूजीसी के साथ साझा करते हुए कहा है कि ऑनलाइन परीक्षा मुमकिन नहीं है। छात्रों का सुझाव है कि यदि शैक्षणिक संस्थानों की तालाबंदी अगले दो महीनों के लिए बढ़ा दी जाती है तो स्नातक के प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों और स्नातकोत्तर के प्रथम वर्ष के छात्रों को अगले सेमेस्टर में प्रोन्नत कर दिया जाए। इस सेमेस्टर के विषयों में समान रूप से आगे के सेमेस्टरों में भी पास करने के अवसर दिए जाएं।

 

दिसंबर 2019 को परीक्षा कक्ष में छात्रा गलती से कुछ नोट अपने थैले में लेकर आ गई थी

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक छात्रा का परीक्षा परिणाम रोकनेे पर डीयू से जवाब मांगा है। छात्रा ने याचिका में अर्थशास्त्र (ऑनर्स) के पांचवें सेमेस्टर की परीक्षा का परिणाम घोषित करने की मांग की है। जस्टिस प्रतिभा एम सिंह मामले में अगली सुनवाई 11 मई को करेगी। तीन दिसंबर 2019 को इंटरनेशनल ट्रेड विषय की परीक्षा में ट्रैफिक जाम के कारण छात्रों देर हो गई थी। इस दौरान वह गलती से कुछ नोट अपने थैले में लेकर परीक्षा कक्षा में आ गई थी।

 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Preparation: With DU application admission process can also be done online