ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरNetaji Subhas Chandra Bose Jayanti 2022: पराक्रम दिवस पर शेयर करें नेताजी सुभाष चंद्र बोस के ये क्रांतिकारी और प्रेरक विचार

Netaji Subhas Chandra Bose Jayanti 2022: पराक्रम दिवस पर शेयर करें नेताजी सुभाष चंद्र बोस के ये क्रांतिकारी और प्रेरक विचार

parakram diwas 2022 netaji subhash chandra bose birth anniversary : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयंती है।  आजादी...

Netaji Subhas Chandra Bose Jayanti 2022: पराक्रम दिवस पर शेयर करें नेताजी सुभाष चंद्र बोस के ये क्रांतिकारी और प्रेरक विचार
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSun, 23 Jan 2022 08:07 AM

इस खबर को सुनें

parakram diwas 2022 netaji subhash chandra bose birth anniversary : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयंती है।  आजादी की लड़ाई को नई ऊर्जा देने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था। नेताजी की जीवनी और कठोर त्याग आज के युवाओं के लिए बेहद ही प्रेरणादायक है। नेताजी के कई ऐसे विचार है, जिन्हें अपनाकर जीवन के प्रति हमारा नजरिया सकारात्मक होने के साथ हम ऊर्जा से भर जाएंगे-


-ऐसे सिपाही जो अपने देश के प्रति हमेशा वफादार रहते हैं और देश के लिए बलिदान देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं, उन्हें कभी हराया नहीं जा सकता है।
-एक सच्चे सिपाही को मिलिट्री और आध्यात्मिकता दोनों की ट्रेनिंग लेनी चाहिए।
-संघर्ष किसी भी व्यक्ति को मनुष्य बनाता है। संघर्ष से ही आत्मविश्वास की प्राप्ति होती है।

subhash chandra bose jayanti 2020


-मैंने अपने अनुभवों से सीखा है, जब भी जीवन भटकता हैं, कोई न कोई किरण उबार लेती है और जीवन से दूर भटकने नहीं देती।
-माँ का प्यार स्वार्थ रहित और होता सबसे गहरा होता है। इसको किसी भी प्रकार नापा नहीं जा सकता।
-यदि आपको अस्थायी रूप से झुकना पड़े, फिर भी वीरों की भांति ही झुकना।
-हमारा कार्य केवल कर्म करना हैं। कर्म ही हमारा कर्तव्य है। फल देने वाला स्वामी ऊपर वाला  है।
-एक व्यक्ति एक विचार के लिए मर सकता है, लेकिन वह विचार उसकी मृत्यु के बाद, एक हजार जीवन में खुद को अवतार लेगा।
-अपनी ताकत पर भरोसा करो। उधार की ताकत तुम्हारे लिए घातक है।

subhash chandra bose jayanti 2020


-सफलता हमेशा असफलता के स्तम्भ पर खड़ी होती है।
-नेताजी सुभाष चंद्र बोस महात्मा गांधी की कई बातों और विचारों से इत्तेफाक नहीं रखते थे, और इस पर उनका मानना था कि हिंसक प्रयास के बिना भारत को आजादी नहीं मिलेगी।
-नेताजी का ऐसा मानना था कि अंग्रेजों को भारत से खदेड़ने के लिए सशक्त क्रांति की आवश्यकता है, तो वहीं गांधी अहिंसक आंदोलन में विश्वास करते हैं।


 

epaper