ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरजो खुद यूजीसी नेट क्वालीफाइड होंगे, वही करा सकेंगे नेट और जेआरएफ की तैयारी, क्लास 1 दिसंबर से

जो खुद यूजीसी नेट क्वालीफाइड होंगे, वही करा सकेंगे नेट और जेआरएफ की तैयारी, क्लास 1 दिसंबर से

DDU में मेधावी विद्यार्थियों के लिए नेट और जेआरएफ की तैयारियों के लिए कक्षाएं 1 दिसंबर से शुरू हो जाएंगी। परास्नातक, पीजी डिप्लोमा तथा पीएचडी कर रहे विद्यार्थियों को तैयारी कराई जाएगी।

जो खुद यूजीसी नेट क्वालीफाइड होंगे, वही करा सकेंगे नेट और जेआरएफ की तैयारी, क्लास 1 दिसंबर से
Pankaj Vijayनिज संवाददाता,गोरखपुरWed, 29 Nov 2023 03:44 PM
ऐप पर पढ़ें

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में मेधावी विद्यार्थियों के लिए नेट और जेआरएफ की तैयारियों के लिए कक्षाएं 1 दिसंबर से शुरू हो जाएंगी। परास्नातक, पीजी डिप्लोमा तथा पीएचडी कर रहे विद्यार्थियों को तैयारी कराई जाएगी। कॉलेजों के शोधार्थी भी इसका लाभ उठा सकेंगे। नेट की कोचिंग के लिए वही शिक्षक अर्ह होंगे, जो खुद नेट क्वालीफाइड होंगे। प्रधानमंत्री उच्चतर शिक्षा अभियान (पीएम उषा) के अन्तर्गत डीडीयू को अपने विद्यार्थियों को नेट और जेआरएफ की तैयारी के लिए 32 लाख रुपये मिलने हैं। इसकी पहली किस्त के रूप में 19 लाख रुपये जारी भी कर दिए गए हैं। डीडीयू प्रशासन ने इसकी कक्षाएं विभागों में ही चलाने का निर्णय लिया है। सभी विभागाध्यक्षों को विभागीय शिक्षकों की मदद से परास्नातक के मेधावी छात्रों को चयनित करने की जिम्मेदारी दी गई है।

सभी विभागाध्यक्षों से नेट की कोचिंग के लिए कक्षाओं की समय-सारणी, शिक्षकों के नाम तथा विद्यार्थियों की संख्या की जानकारी मांगी गई है। जो विद्यार्थी ये कक्षाएं करना चाहते हैं, उनके लिए गूगल फॉर्म जारी किया गया है। इस सम्बंध में विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. पूनम टंडन ने विभागाध्यक्षों की बैठक कर उन्हें जरूरी दिशा-निर्देश दिया है।

क्वालीफाइड शिक्षक ही करा पाएंगे नेट की तैयारी
नेट व जेआरएफ की तैयारी के लिए अलग से कक्षाएं चलाना विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए बड़ी सौगात है। इससे छात्रों को तैयारी करने के लिए बाहर लगने वाली मोटी फीस बचेगी। अपने ही विभाग में कक्षाएं चलने से इधर-उधर भागदौड़ भी नहीं करनी होगी।- प्रो. पूनम टंडन, कुलपति, डीडीयू

नेट क्वालीफाइड शोधार्थियों को भी अध्यापन का मौका
नेट की तैयारी कराने के लिए शिक्षकों के साथ ही नेट क्वालीफाइड शोधार्थियों को भी मौका मिल सकता है। डीडीयू प्रशासन के मुताबिक जो शोधार्थी नेट क्वालीफाइड हैं, वे मददगार साबित होंगे। उनमें टीचिंग स्किल डेवलप होने के साथ ही प्रति लेक्चर मानदेय भी मिलेगा।

10 लाख की खरीदी जाएंगी ई-बुक्स
नेट और जेआरएफ की तैयारी करने में सहायक करीब 10 लाख रुपये की ई-बुक्स भी खरीदी जाएंगी। विभागवार होने वाली इन कक्षाओं की सफलता से विभाग की प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जितनी बड़ी संख्या में विद्यार्थी नेट या जेआरएफ में सफल होंगे विभाग का उतना ही नाम होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें