ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरडिप्लोमा पर नियुक्त कंप्यूटर शिक्षकों की हो रही तलाश, सिर्फ BTech डिग्री ही मान्य

डिप्लोमा पर नियुक्त कंप्यूटर शिक्षकों की हो रही तलाश, सिर्फ BTech डिग्री ही मान्य

डिप्लोमा सर्टिफिकेट पर नियुक्त कंप्यूटर शिक्षकों की खोज हो रही है। करीब 350 कंप्यूटर शिक्षक नियुक्त हुए हैं। कोर्ट का आदेश है कि केवल बीटेक की डिग्री पर ही कंप्यूटर शिक्षकों की नियुक्ति मान्य है।

डिप्लोमा पर नियुक्त कंप्यूटर शिक्षकों की हो रही तलाश, सिर्फ BTech डिग्री ही मान्य
Pankaj Vijayप्रमुख संवाददाता,मुजफ्फरपुरMon, 27 May 2024 08:56 AM
ऐप पर पढ़ें

डिप्लोमा सर्टिफिकेट पर नियुक्त कंप्यूटर शिक्षकों की खोज हो रही है। मुजफ्फरपुर जिले में करीब 350 कंप्यूटर शिक्षक नियुक्त हुए हैं। इसमें से अब तक 30 कंप्यूटर शिक्षकों का प्रमाणपत्र नहीं मिला है। डीईओ ने ऐसे शिक्षकों को चिह्नित किया है। इन सभी कंप्यूटर शिक्षकों को 24 घंटे का अल्टीमेटम प्रमाण पत्रा जमा करने के लिए दिया गया है। कोर्ट के आदेश के बाद कंप्यूटर शिक्षकों की खोज शुरू की गई है और इनके प्रमाण पत्रों की जांच कराई जा रही है। कोर्ट का आदेश है कि केवल बीटेक की डिग्री पर ही कंप्यूटर शिक्षकों की नियुक्ति मान्य है। कुछ जिलों में डिप्लोमा पर नियुक्ति का मामला सामने आया है। इसके बाद कोर्ट में मामला गया।

हाईकोर्ट के आदेश पर शिक्षा विभाग ने सभी जिलों को कंप्यूटर शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की जांच का आदेश दिया है। डीईओ अजय कुमार सिंह ने कहा कि जिन शिक्षकों ने प्रमाण पत्र नहीं दिया है, उनके खिलाफ निर्धारित समय सीमा खत्म होने के बाद अनुशासनिक और विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।

बीआरएबीयू में बदलेगा फिशरीज का सिलेबस
बीआरएबीयू में फिश एंड फिशरीज का सिलेबस बदलेगा। एफिलिएशन कमेटी ने इसे पास कर दिया गया है। नये सत्र से इसे लागू कर दिया जायेगा। फिश एंड फिशरीज के यूजी और पीजी दोनों का सिलेबस बदलेगा। जूलॉजी विभाग के अध्यक्ष प्रो. शिवानंद सिंह ने बताया कि फिश एंड फिशरीज को और भी रोजगारपरक बनाया जायेगा। जूलॉजी की प्रो. ममता कुमारी ने बताया कि नये सिलेबस में एमएससी और बीएससी दोनों में सेमेस्टर सिस्टम लागू किया गया है। अब तक एमएससी में दो वर्ष औ स्नातक में तीन वर्ष की सीधी पढ़ाई होती थी।

नये सिलेबस में पीजी और यूजी दोनों में सेमेस्टर सिस्टम लागू किया जायेगा। छह-छह महीने पर परीक्षा होगी। नये सिलेबस में फिश एंड फिशरीज की आधुनिक तकनीक को शामिल किया गया है। सिलेबस पास होने बाद अब इसका रेगुलेशन तैयार किया जायेगा। पांच वर्ष पहले भी फिश एंड फिशरीज का सिलेबस तैयार किया गया था, लेकिन रेगुलेशन तैयार नहीं होने के कारण लागू नहीं किया गया। इसे अब एकेडमिक काउंसिल, सिंडिकेट और सीनेट में लेकर जाया जायेगा। यहां से पास होने के बाद यह विवि में लागू हो सकेगा।

Virtual Counsellor