DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

DU एडमिशन: स्नातक का विषय 12वीं में ना होने पर कटेंगे नंबर

दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला मेरिट तैयार करने में चार विषयों के नंबरों का प्रयोग किया जाता है। इसमें यह याद रखना जरूरी है कि छात्र जिस भी विषय से स्नातक करना चाहता है उस विषय का बारहवीं में होना जरूरी है।

ऐसा नहीं होने पर मेरिट बनाते समय उसके बेस्ट 4 विषयों के नंबरों में से 2.5 फीसदी अंक कट जाएंगे।

वहीं एक अन्य स्थिति में भी अंकों में कटौती की जाती है यदि छात्र के स्नातक का विषय बेस्ट चार विषयों में शामिल न हो। उदाहरण के लिए अगर किसी छात्र के अंग्रेजी विषय में 92, इतिहास में 65, राजनीतिक विज्ञान में 85, भूगोल में 89 और होम साइंस में 89 अंक हैं तो उसके बेस्ट फोर विषयों के अंक हुए 356, यानी 89 फीसदी अंक। अब वह बीए (ऑनर्स) राजनीतिक विज्ञान में दाखिला लेना चाहेगा तो उसकी मेरिट 89 ही रहेगी। बीए (ऑनर्स) इतिहास के लिए मेरिट 89-2.5=86.5 फीसदी हो जाएगी।.

डीयू में स्नातक के नौ पाठ्यक्रमों को छोड़कर सभी पाठ्यक्रमों में मेरिट के आधार पर दाखिले होते हैं। इसके तहत छात्र के 12वीं के परिणाम के आधार पर मेरिट तैयार होती है। इसके लिए बेस्ट फोर यानी जिन 4 विषयों में सर्वाधिक अंक आए हैं, उसकी गणना की जाती है। आर्ट्स और ह्यूमैनिटीज के पाठ्यक्रमों के लिए बेस्ट फोर विषयों में एक भाषा और तीन अन्य विषय होते हैं।

आर्ट्स और ह्यूमैनिटीज पाठ्यक्रम में भाषा एक विषय
डीयू में स्नातक के नौ पाठ्यक्रमों को छोड़कर सभी पाठ्यक्रमों में मेरिट के आधार पर दाखिले होते हैं। इसके तहत छात्र के 12वीं के परिणाम के आधार पर मेरिट तैयार होती है। इसके लिए बेस्ट फोर यानी जिन 4 विषयों में सर्वाधिक अंक आए हैं, उसकी गणना की जाती है। आर्ट्स और ह्यूमैनिटीज के पाठ्यक्रमों के लिए बेस्ट फोर विषयों में एक भाषा और तीन अन्य विषय होते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:one subject is must from class 12th for Admission in delhi university