DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टरों को नहीं पढ़ा सकेंगे गैर-मेडिकल डिग्री वाले, M.Sc मेडिकल वालों को होगी मुश्किल

National Medical Commission Bill

अब से गैर-मेडिकल डिग्री रखने वाले एमएससी अभ्यर्थी मेडिकल कॉलेजों में बतौर शिक्षक नियुक्त नहीं हो सकेंगे। बोर्ड ऑफ गवर्नर के इस निर्णय का सबसे बड़ा असर एमएससी मेडिकल करने वाले अभ्यर्थियों पर पड़ेगा, जिनके लिए शिक्षक बनना अब मुश्किल हो जाएगा।

एमसीआई का कामकाज देखने के लिए मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) को भंग कर बनाए गए बोर्ड ऑफ गवर्नर की ओर से जारी नई अधिसूचना में गैर-मेडिकल डिग्रीधारियों को मेडिकल शिक्षक की अर्हता नहीं दी गई है। बोर्ड ने हाल ही में मेडिकल कॉलेज में वरिष्ठ प्रदर्शक, सहायक आचार्य , सह आचार्य व आचार्य की शैक्षिणक योग्यता के संदर्भ में परिवर्तित अधिसूचना जारी की है। 

NEET 2019: रजिस्ट्रेशन शुरू, ntaneet.nic.in पर जाकर करें आवेदन

भारत के राजपत्र में प्रकाशित हुई इस अधिसूचना में मेडिकल कॉलेजों में बतौर शिक्षक नियुक्त के लिए तीन डिग्रियों- डॉक्टर ऑफ मेडिसिन (एमडी), मास्टर ऑफ सर्जरी (एमएस) और डिप्लोमेट इन नेशनल बोर्ड (डीएनबी) को ही बतौर शिक्षक नियुक्ति के योग्य करार दिया गया है। इसमें एमएससी मेडिकल एवं पीएचडी का कोई उल्लेख नहीं किया गया है। ऐसे में जानकारों का कहना है कि इस अधिसूचना के रहते मेडिकल कॉलेजों में एमएससी मेडिकल अभ्यर्थियों की नियुक्ति नहीं की जा सकती। हालांकि, जिनकी नियुक्ति अधिसूचना जारी होने से पहले हो चुकी है, उन पर इसका प्रभाव नहीं पड़ेगा।

डॉ. अनूप सिंह गुर्जर (महासचिव, आल इंडिया प्री एंड पैरा क्लीनिकल मेडिकोज एसोसिएशन) ने कहा- अब किसी भी मेडिकल कॉलेज में यदि बीएससी ग्रेजुएट को मेडिकल कॉलेज में फ़ैकल्टी की तरह नई नियुक्ति दी जाती है तो इसे भारत के राजपत्र का उल्लंघन माना जाएगा। हम ऐसी किसी भी नियुक्ति के खिलाफ कोर्ट की शरण में जाएंगे।

कार्यकारी समिति ने पहले एक प्रस्ताव तैयार किया था
एमसीआई की कार्यकारी समिति ने भंग होने से पहले एक प्रस्ताव तैयार किया था। इसमें एमएससी मेडिकल डिग्रीधारियों की मेडिकल कॉलेजों में बतौर शिक्षक नियुक्ति को धीरे-धीरे कम करते हुए उसे तीन साल में बंद करने का उल्लेख था। इस पर आगे परीक्षण करने के लिए दिल्ली एम्स के तीन प्रोफेसरों की उपसमिति का गठन किया गया था। नेशनल एमएससी मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. श्रीधर राव से बात करने की कोशिश की, लेकिन संपर्क नहीं हो पाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:now non medical degree holders can not teach doctors bad news for msc medical