ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News करियरस्कूलों में लाइब्रेरियन की एक दशक से बहाली नहीं, हजारों पर रिक्त

स्कूलों में लाइब्रेरियन की एक दशक से बहाली नहीं, हजारों पर रिक्त

बिहार लोक सेवा आयोग की ओर से राज्य में शिक्षकों की भर्ती के लिए दूसरे चरण की आवेदन प्रक्रिया शुरू होने पर अब लाइब्रेरियन बहाली की मांग जोर पकड़ रही है। आपको बता दें कि राज्य में लाइब्रेरियन के हजारों

स्कूलों में लाइब्रेरियन की एक दशक से बहाली नहीं, हजारों पर रिक्त
Alakha Singhवरीय संवाददाता,पटनाTue, 14 Nov 2023 09:03 AM
ऐप पर पढ़ें

एक दशक से अधिक समय से लाइब्रेरियन की बहाली नहीं हो रही है। जबकि हजारों पद रिक्त पड़े हुए हैं। इधर शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू होने के बाद से लाइब्रेरियन बहाली की मांग जोर-शोर से उठने लगी है। इसे लेकर कई संगठनों की ओर से आंदोलन किया गया है। विधान सत्र के दौरान लगातार लाइब्रेरियन नियुक्ति के लिए आंदोलन हुआ है। वहीं आईटीई और पोलिटेक्निक में कई बार लाइब्रेरियन की नियुक्ति की बात मंत्री की ओर से कही गई पर अब तक कुछ नहीं हो सका है।

संगठनों की ओर से कई बार बिहार लाइब्रेरियन भर्ती प्रक्रिया नियमावली 2023 जारी करने एवं लाइब्रेरियन बहाली प्रक्रिया शुरू करने को की मांग की गयी है। वहीं, शिक्षा विभाग ने पहले ही कहा है कि 6421 नवस्थापित एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों में पुस्तकालयाध्यक्ष के पद सृजन की कार्रवाई चल रही है। वहीं, शिक्षा विभाग द्वारा 27 फरवरी, 2023 के अनुसार राज्य में उच्च माध्यमिक विद्यालयों में पुस्तकालयाध्यक्षों के 2789 पद स्वीकृत हैं। इसके विरुद्ध में रिक्त पद 893 है। पुस्तकालयाध्यक्ष के लिए पद का सृजन वर्ष 2007 में हुआ था। नियोजन 2019 में पूर्ण हुआ।

बिहार लाइब्रेरियन एसोसिएशन के अध्यक्ष विकास चंद्र सिंह ने कहा कि विस सत्र को दौरान आंदोलन चलाया गया, ताकि सरकार का ध्यान जाये।

1.22 लाख पदों के लिए चल रही आवेदन प्रक्रिया:
आपको बता दें कि बीपीएससी ने शिक्षा विभाग की अनुशंसा पर हाल में 70 हजार से अधिक शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू की है। इस भर्ती में अब इसमें 51 हजार 664 पदों को जोड़ा गया है। यानी अब कुल 1.22 लाख पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया चल रही है। बीपीएससी अीआरई के लिए पंजीयन आज अंतिम तिथि 14 नवंबर 2023 तक करा सकते हैं। आवेदन 25 नवंबर तक कर सकते हैं। आयोग ने कहा है कि आवेदन की तिथि नहीं बढ़ाई जाएगी। पांच नवंबर से पंजीयन प्रक्रिया शुरू हुई थी। बड़ी संख्या में गड़बड़ी के कारण अभ्यर्थी पंजीयन प्रक्रिया में सुधार की मांग कर रहे हैं। अभ्यर्थियों ने कहा कि एसटीईटी 2019 के तीन विषयों का रिजल्ट संशोधित करके पुन: जारी किया गया है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें