ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News करियरNMMS 2024: राष्ट्रीय छात्रवृत्ति परीक्षा में मुरादाबाद मंडल के बच्चों ने दिखाया दम, मिलेंगे 48 हजार रुपए

NMMS 2024: राष्ट्रीय छात्रवृत्ति परीक्षा में मुरादाबाद मंडल के बच्चों ने दिखाया दम, मिलेंगे 48 हजार रुपए

रार्ष्टीय छात्रवृत्ति योजना में सत्र 2024-25 के लिए मुराबाद मंडल के 1002 बच्चों का हुआ चयन हुआ है जिनमें बिजनौर के सबसे ज्यादा 331 बच्चे शामिल हैं। इस योजना से कक्षा 8 से लेकर 12 तक बच्चे को प्रतिमाह

NMMS 2024: राष्ट्रीय छात्रवृत्ति परीक्षा में मुरादाबाद मंडल के बच्चों ने दिखाया दम, मिलेंगे 48 हजार रुपए
Alakha Singhराहुल श्रीवास्तव,मुरादाबादSun, 02 Jun 2024 08:16 AM
ऐप पर पढ़ें

NMMS Scholarship : राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति परीक्षा (एनएमएमएस) में मुरादाबाद मंडल के बच्चों ने दम दिखाया है। सत्र 2023-24 के 709 सफल बच्चों के मुकाबले इस बार मंडल से 1002 बच्चों ने छात्रवृत्ति के लिए सफलता हासिल की है। आर्थिक रूप से कमजोर प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के लिए राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इसके तहत राजकीय, अशासकीय सहायता प्राप्त एवं परिषदीय स्कूलों के कक्षा आठ के विद्यार्थी परीक्षा देते हैं। परीक्षा में उत्तीर्ण होने के पश्चात ₹छात्रों को एक हजार रुपये प्रति माह की दर से चार वर्षों में उन्हें कुल 48 हजार की धनराशि दी जाती है। इसमें आरक्षण की भी व्यवस्था है। परीक्षा 2024-25 का परिणाम परीक्षा नियामक प्राधिकारी, प्रयागराज ने घोषित कर दिया है। परीक्षा के लिए नोडल केंद्र बनाए गए मंडलीय मनोविज्ञान केंद्र के प्रभारी डॉ. कुमार मंगलम सरस्वत ने बताया कि छात्रवृत्ति परीक्षा पांच नवंबर, 2023 को पूरे प्रदेश में एक साथ आयोजित की गई थी, जिसमें मुरादाबाद मंडल से कुल 1002 विद्यार्थियों को सफलता हासिल हुई है। इसमें बिजनौर से 331, मुरादाबाद से 225, अमरोहा से 194, रामपुर से 130 व संभल से 122 छात्रों ने सफलता हासिल की।

मंडल में चार साल में बढ़ गए 70 गुना मेधावी
राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति परीक्षा में 70 गुना मेधावी चार साल में बढ़ गए। मुरादाबाद मंडल में 2021-22 में मात्र 14 ही छात्र ये छात्रवृत्ति पाने में सफल रहे। 2022-23 में इनकी संख्या बढ़कर 104 हो गई। इसी तरह सत्र 2023-24 में 709 और सत्र 2024-25 में इनकी संख्या बढ़कर 1002 हो गई। खास बात यह है कि रामपुर और संभल में सत्र 2021-22 में एक-एक छात्र को ही छात्रवृत्ति मिली थी, लेकिन अब रामपुर की बढ़कर यह संख्या 130 व संभल की 122 हो गई है।

परिषदीय, राजकीय व अशासकीय सहायता प्राप्त विद्यालयों में जाकर कक्षा आठ के बच्चों को इस परीक्षा को लेकर जागरूक किया गया। चार वर्षों में काफी हद तक कामयाबी मिली है। सत्र 2021-22 में जहां मंडल के 14 छात्रों को ही सफलता मिली थी। अब यह संख्या बढ़कर 1002 हो गई है। राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति परीक्षा में बच्चों को जागरूक कर शामिल होने के लिए कहा जाएगा।- डॉ. कुमार मंगलम सारस्वत, प्रभारी मंडलीय मनोविज्ञान केंद्र
 

Virtual Counsellor