NIRF ranking 2019: BHU retains third place in universities in the country - NIRF ranking 2019: देश के विश्वविद्यालयों में बीएचयू तीसरे स्थान पर बरकरार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

NIRF ranking 2019: देश के विश्वविद्यालयों में बीएचयू तीसरे स्थान पर बरकरार

jobs in bhu

देश के टॉप टेन विश्वविद्यालयों में बीएचयू तीसरे स्थान पर बरकरार है। बीते तीन साल से विश्वविद्यालय तीसरे पायदान पर अपनी जगह बनाए रखने में सफल रहा है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सोमवार को देश के शैक्षणिक संस्थानों की नौ अलग-अलग कटेगरी में रैंकिंग जारी की। रैंकिंग में ओवरऑल, यूनिवर्सिटी, इंजीनियरिंग, कॉलेज, मैनेजमेंट, फार्मेसी, मेडिकल, आर्किटेक्चर  तथा विधि पर विश्वविद्यालयों को नम्बर दिए गए हैं। 

विश्वविद्यालयों की रैंकिंग में आईआईएससी बेंगलुरु टॉप पर है जबकि दूसरे स्थान पर जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली है। रैंकिंग में आईआईटी-बीएचयू को 11वां तथा बीएचयू के चिकित्सा विज्ञान संस्थान को छठां स्थान प्राप्त हुआ है। 

विविधता पर ध्यान देना होगा : वीसी 
सोमवार को जारी रैंकिंग के बाबत बीएचयू के कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने कहा कि नेशनल इंस्टीट्यूशनल ऑफ रैकिंग फ्रेम वर्क (एनआईआरएफ) में अव्वल आने के लिए विविधता पर ध्यान केंद्रित करना होगा। बताया कि विश्वविद्यालय ने इंस्टीट्यूशनल रिपॉजटरी के माध्यम से अपने शोध व पेटेंट की गुणवत्ता को सुधारने की पहल शुरू कर दी है। विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों व संस्थानों में इनोवेशन के साथ ही पटेंट की संख्या बढ़ायी जाएगी। 
प्रो. भटनागर ने कहा कि विश्वविद्यालय में शिक्षण व शोध को उत्कृष्ट बनाने की दिशा में प्रयास जारी है। बीएचयू को इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस का भी दर्जा प्राप्त है। इसके तहत मिले एक हजार करोड़ रुपयों से शिक्षण व शोध की गुणवत्ता बढ़ाने का खाका तैयार किया गया है। 

रैंक     यूनिवर्सिटी 
1    आईआईएससी, बेंगलुरु
2    जेएनयू, दिल्ली
3    बीएचयू, वाराणसी
4   यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद 
5    कलकत्ता यूनिवर्सिटी,  प. बंगाल
6    जादवपुर यूनिवर्सिटी, प. बंगाल
7    अन्ना यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु
8    अमृता विश्व विद्यापीठम, कोयम्बटूर
9    मणिपाल एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन
10 सावित्रीबाई फूले पुणे यूनिवर्सिटी

अंतरराष्ट्रीय स्तर के शोध 
बीएचयू ने दुनिया की कई बड़ी कंपनियों से शैक्षणिक समझौते किए हैं। आईआईटी, कृषि, चिकित्सा समेत अन्य संस्थानों में हुए शोध को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है। हाल ही में बीएचयू ने स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत अन्तर्राष्ट्रीय कंपनी से एमओयू किया है। एक मल्टी नेशनल कंपनी के साथ हुए करार के तहत विज्ञान संस्थान में उच्चस्तरीय शोध की सुविधाओं वाला लैब स्थापित किया गया। बीएचयू कैंपस को स्मार्ट बनाने का कार्य आरंभ हो गया है। पर्यावरण एवं धारणीय विज्ञान की ओर से सुपर कंप्यूटर स्थपित किया जाएगा। 
बीएचयू की खूबियां
-    अर्धचंद्राकार परिधि, 1365 एकड़ क्षेत्रफल
-    पांच संस्थान, 16 संकाय, 134 विभाग
-    32 हजार विद्यार्थी, 19 सौ शिक्षक
-    57 देशों के साथ शैक्षणिक करार
-    90 देशों के 600 विद्यार्थी
-    सर सुन्दरलाल चिकित्सालय 
-    देश का सबसे बड़ा ट्रामा सेंटर
-    उत्तर भारत का सबसे बड़ा महामना कैंसर सेंटर 
सुपर स्पेशियालटी, मल्टी आर्गन ट्रांसप्लांट, बोनमैरो व स्टेमसेल, सेंट्रल डिस्कवरी सेंटर, मैटर्नीटी व चाइल्ड हेल्थ केयर (सभी निमार्णाधीन)

 कोट- 
- केंद्रीय विश्वविद्यालयों में केवल बीएचयू ही आयुर्वेद व माडर्न मेडिसीन की शिक्षा दे रहा है। एक छत के नीचे प्रौद्योगिकी से लेकर संस्कृत, कला तथा विज्ञान के सामंजस्य के साथ यह पहला विश्वविद्यालय है जो जनता को सीधे स्वास्थ्य लाभ देता है। 
 प्रो. राकेश भटनागर, कुलपति, बीएचयू   

आईआईटी ने सुधारी शोध की गुणवत्ता
आईआईटी बीएचयू ने शोध की गुणवत्ता में सुधार किया है। पब्लिकेशन और पब्लिक परसेप्शन पर भी काम शुरू किया है। स्थानीय उद्योग धंधों के साथ समाज के विकास की ओर ध्यान दिया है। जिससे रैकिंग में सुधार हुआ है। इस बार एनआईआरएफ में आईआईटी बीएचयू को 11वां स्थान मिला है। इसके पूर्व 2016 में 14वां, 2017 में 31वां तथा 2018 में 19वां स्थान प्राप्त हुआ था। 
प्रो. पीके जैन, निदेशक, आईआईटी बीएचयू 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NIRF ranking 2019: BHU retains third place in universities in the country