ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ करियरCBSE 12वीं में कोरोना से पहले के मुकाबले नौ फीसदी ज्यादा छात्र पास हुए

CBSE 12वीं में कोरोना से पहले के मुकाबले नौ फीसदी ज्यादा छात्र पास हुए

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने शुक्रवार को 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम घोषित किए। पिछले साल के 99.37 प्रतिशत के मुकाबले इस साल 92.71 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। लड़कियां इस बार

CBSE 12वीं में कोरोना से पहले के मुकाबले नौ फीसदी ज्यादा छात्र पास हुए
Anuradha Pandeyप्रमुख संवाददाता,नई दिल्लीFri, 22 Jul 2022 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने शुक्रवार को 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम घोषित किए। पिछले साल के 99.37 प्रतिशत के मुकाबले इस साल 92.71 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। लड़कियां इस बार भी लड़कों से आगे रहीं। आंकड़ों को देखें तो पिछले नौ साल से बेटियों का पास प्रतिशत लड़कों से ज्यादा रहा है। हालांकि, आंकड़ों को देखें तो उत्तीर्ण होने वाले कुल विद्यार्थियों की संख्या में कोरोनाकाल से पहले के शैक्षणिक सत्रों के मुकाबले नौ फीसदी से अधिक का इजाफा दर्ज किया गया है।  दिल्ली में 12वीं कक्षा का पास प्रतिशत घटकर 96.29 फीसदी रह गया, जो पिछले साल 99.84 प्रतिशत था। 

टॉपर लिस्ट जारी होगी
सीबीएसई ने छात्रों के बीच गलत प्रतिस्पर्धा से बचने के लिए 10वीं और 12वीं कक्षा में टॉपर सूची जारी नहीं करने का फैसला लिया है। बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने शुक्रवार को बताया कि 2020 और 2021 में भी मेधा सूची की घोषणा नहीं की गई थी। तब कोरोना महामारी के कारण परीक्षा आयोजित नहीं हो पाई थी और नतीजे वैकल्पिक मूल्यांकन योजना के आधार पर घोषित किए गए थे। भारद्वाज ने कहा, बोर्ड के पूर्व के फैसले के अनुसार छात्रों के बीच अहितकर प्रतिस्पर्धा से बचने के लिए कोई मेधा सूची घोषित नहीं की जाएगी। बोर्ड अपने छात्रों को प्रथम, द्वितीय और तृतीय श्रेणी भी नहीं दे रहा है। बोर्ड उन 0.1 प्रतिशत छात्रों को मेरिट सर्टिफिकेट जारी करेगा, जिन्होंने विषयों में सबसे ज्यादा अंक हासिल किए हैं।

अगले साल बोर्ड परीक्षा 15 फरवरी से
सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने बताया कि शैक्षणिक सत्र 2022-23 के लिए 10वीं और 12वीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाएं अगले साल 15 फरवरी से शुरू होंगी। पिछले साल के विपरीत 2023 में शैक्षणिक सत्र के अंत में केवल एक परीक्षा होगी। वर्ष 2022 में, कोविड-19 को देखते हुए इन परीक्षाओं को दो टर्म में आयोजित किया गया था।


नौ वर्षों से लड़कियां आगे
वर्ष            छात्राएं(%)         छात्र(%)
2013-14        87.97        77.78
2014-15        88.52        78.27
2015-16        87.56        77.77
2016-17        88.58        78.85
2017-18        87.45        77.49
2018-19        88.31        78.99
2019-20         88.70        79.40 
2020-21        99.13        99.67
2021-22        91.25        94.54


दिल्ली के प्रदर्शन में सुधार नहीं
क्षेत्रवार देखें तो इस बार भी 12वीं के परीक्षा परिणाम में त्रिवेंद्रम पहले स्थान पर रहा। सबसे खराब प्रदर्शन प्रयागराज क्षेत्र का रहा। दिल्ली इस बार भी क्रमश: चौथे और पांचवें स्थान पर रहा। दिल्ली ईस्ट का पास फीसद 96.29 है वहीं, दिल्ली वेस्ट का पास फीसद 96.29 है।

1 -त्रिवेंद्रम 98.83
2 - बेंगलुरु 98.16
3 - चेन्नई 97.79
4- दिल्ली पूर्व 96.29
5- दिल्ली पश्चिम 96.29
6 - अजमेर 96.01
7 - चंडीगढ़ 95.98
8 -पंचकुला 94.08
9- गुवाहाटी 92.06
10- पटना 91.20
11 - भोपाल 90.74
12 -पुणे 90.48
13- भुवनेश्वर 90.37
14 - नोएडा 90.27
15- देहरादून 85.39
16- प्रयागराज 83.71

चार साल में नौ फीसदी का सुधार
वर्ष        नामांकन    शामिल    उत्तीर्ण        प्रतिशत में 
2019    1218393    1205484    1005427    83.40
2020    1203595    1192961    1059080    88.78
2021    1369745    1304561    1296318    99.37
2022    1444341    1435366    1330662    92.71


घट गई  90 और 95 फीसदी अंक पाने वालों की संख्या 
सीबीएसई ने इस बार भी 12वीं में 90 और 95 फीसद अंक पाने वाले छात्रों की संख्या जारी की है। दोनों वर्ग में संख्या घटी है। सत्र 2020-21 में जहां 95 फीसदी से अधिक अंक पाने वाले विद्यार्थियों की संख्या 70 हजार से अधिक थी वहीं, सत्र 2021-22 में यह संख्या घटकर 33432 हो गई। जबकि 90 फीसदी से अधिक अंक पाने वाले विद्यार्थियों की संख्या सत्र 2020-21 में 150152 थी। वह सत्र 2021-22 में यह 134797 है।


सात वर्षों में 95 फीसद से अधिक अंक पाने वाले छात्र
सत्र 2015-16        9351
सत्र 2016-17        10,091 
सत्र 2017-18        12737
सत्र 2018-19        17,693 
सत्र 2019-20        38,686 
सत्र 2020-21        70004
सत्र 2021-22        33432

पांच वर्षों में दोगुने हो गए 90% से ज्यादा पाने वाले
सत्र 2017-18        72,599 
सत्र 2018-19        94299 
सत्र 2019-20        1,57,934 
सत्र 2020-21        150152
सत्र 2021--22        134797

अंतर्मन की सुनें, रुचि के विषयों पर ध्यान केंद्रित करें: मोदी
नई दिल्ली, एजेंसी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने छात्रों से कहा कि वे अपने अंतर्मन की सुनें और जिन विषयों के प्रति उनकी गहरी रुचि हो, उन्हीं विषयों पर अपना ध्यान केंद्रित करें। प्रधानमंत्री ने उन छात्रों का भी उत्साहवर्धन किया, जो परीक्षा परिणामों से खुश नहीं हैं। उन्होंने कहा कि एक परीक्षा कभी ये नहीं बता सकती की आप कौन हैं। यानी आपकी क्षमता क्या है।  आने वाले दिनों में आपको और सफलता निश्चित तौर पर मिलेगी।
विद्यार्थियों को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, इन छात्रों की दृढ़ता और उनका समपर्ण सराहनीय है। उन्होंने परीक्षाओं की तैयारियां ऐसे समय में की जब पूरी मानवता विशाल चुनौती का सामना कर रही थी और इसके बावजूद उन्होंने यह सफलता हासिल की है। मोदी ने इस साल के वार्षिक परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम का वीडियो भी साझा किया, जिसमें उन्होंने इम्तिहान के विभिन्न आयामों पर चर्चा की थी। उन्होंने ट्वीट कर कहा, सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा पास करने वाले युवा छात्रों के लिए अनेक अवसर इंतजार कर रहे हैं। मैं उनसे आग्रह करता हूं कि वे अपने अंतर्मन की सुनें और रुचि के विषयों की पढ़ाई करें। भविष्य के लिए मैं आप सभी को शुभकामनाएं देता हूं।
    

epaper